Sunday, 31 December 2006

सीएफएल से करें बिजली की बचत

यह सभी जानते हैं कि ऊर्जा का भंडार सीमित है। ऐसे में बिजली की बचत करने के ऊपाय करना भी लाजिमी है। लगभग सभी राज्य बिजली के संकट से गुजर रहे हैं। खास कर गरमी के दिनों में तो बिजली का संकट अभूतपूर्व हो जाता है। ऐसे में हमें हर वो ऊपाय भी करने चाहिए जिससे की बिजली की बचत की जा सके। इसका बड़ा अच्छा तरीका आजकल बाजार में सीएफएल बल्बों के रुप में उपलब्ध है। सीएफएल यानी कंप्रेस्ड फ्लोरोसेंट लैंप। ऐसे लैंप 9 वाट, 15 वाट और 20 वाट जैसे विकल्पों में उपलब्ध हैं। ये ट्यूबलाइट की तरह दूधिया रोशनी देते हैं। ये परंपरागत बल्बों की तरह ज्यादा गरम भी नहीं होते हैं। आमतौर पर अगर आप एक सौ वाट बल्ब कमरे में लगाते हैं तो वह गर्म होकर कमरे के तापमान को भी थोड़ा सा बढ़ाता है। ऐसे में सीएफएल नए जमाने में लोगों के लिए बड़े ही सुविधाजनक रुप में आए हैं।
अभी तक आप दुधिया रोशनी के लिए ट्यूब लाइट का इस्तेमाल करते आ रहे हैं। एक ट्यूब लाइट लगाने में औसतन 150 से 200 रुपए का खर्च आ जाता है। इसकी फीटिंग और मेंनेटेंस में खर्च अलग से है। पर सीएफएल को परंपरागत बल्बों के साकेट में ही लैंप फिट हो जाता है। इसलिए इसे कहीं भी फीट करना बहुत आसान है। भारतीय बाजार में इसी कारण से धीरे धीरे सीएफएल लोकप्रिय होते जा रहे हैं। लोग परंपरागत बल्बों की तुलना में इसे लगाना पसंद कर रहे हैं।
हालांकि सीएफल परंपरागत बल्ब की तुलना में कम रोशनी देते हैं। इसलिए लोग पहले इसे टायलेट बाथरूम में लगाते थे या नाइट लैंप की तरह इस्तेमाल करते थे। पर अब ये बल्बों की जगह लेते जा रहे हैं। जिस कमरे में आपको ज्यादा रोशन चाहिए वहां आप 20 वाट के दो सीएफएल लगा सकते हैं।
अब देखिए की सीएफएल से कैसे बिजली की बचत होती है। एक सीएफल 18 वाट का सीएफल 60 वाट के बल्ब के बराबर रोशनी देता है। ऐसी हालत में हर महीने 60 फीसदी तक बिजली की बचत होती है। आपके घर में अगर बिजली के बल्बों के 10 प्वाइंट हैं तो सीएफल लगाकर आप अपने बिजली के मासिक बिल में हर महीने 40 फीसदी तक की बचत कर सकते हैं। इससे जहां आपके बिजली के बिल में राशि की हर महीने बचत होगी वहीं आपके द्वारा बचाई गई बिजली से दूसरे कुछ घर भी रोशन हो सकते हैं जहां अभी तक अंधेरा ही रहता है।
भारत में आमतौर पर भारत में ही निर्मित सीएफएल लैंप महंगे हैं। अगर एक सीएफल लैंप खरीदना चाहें तो यह 100 से 140 रुपए में उपलब्ध है। इस पर कंपनियां एक साल तक की गारंटी भी देती हैं। आमतौर पर एक सीएफल लैंप चार महीने में इतनी बिजली बचा देता है कि जिससे आपको इसकी कीमत वसूल हो जाती हुई प्रतीत होती है। भारत के बाजार में चीन के बने हुए सीएफल भी उपलब्ध हैं। ये मात्र 20 से 25 रुपए में ही मिल जाते हैं। हालांकि इनके साथ कोई गारंटी नहीं मिलती पर जिन इलाकों में बिजली का उतार चढ़ाव ज्यादा नहीं होता वहां ये सस्ते बल्ब भी अच्छा खासे सफल हैं। भारत में सीएफएल का भविष्य देखते हुए कई भारतीय कंपनियां ऐसे लैंपों का प्लांट लगा रही हैं। इनमें आरपेट की ओरेवा, बजाज खेतान आदि प्रमुख हैं। उम्मीद की जा सकती है कि भारत में निर्मित सीएफएल भी आने वाले कुछ सालों में और भी सस्ते हो सकेंगे।

-विद्युत प्रकाश vidyutp@gmail.com



Monday, 13 November 2006

आपकी भाषा में बात करेगा कंप्यूटर

जी हां अब आपका कंप्यूटर आपकी भाषा में ही आपसे बात करेगा। यानी आप चाहें तो उसमें आप हिंदी उर्दू किसी भी भाषा में काम कर सकते हैं।विंडो एक्सपी के नए संस्करणों आपको अपनी भाषा के चयन की आजादी मिलती है।

 अगर आपने एक्सपी का कोई भी नया संस्करण लगाया है तो आप उसमें आप अपने देश की भाषा को एक्टिवेट कर सकते हैं। इसमें रिजनल सेटिंग में जाकर आपको अपने देश का नाम अपनी भाषा और की बोर्ड को सक्रिय भर करना है। जैसे आप अपने कंप्यूटर में हिंदी भाषा को सक्रिय कर सकते हैं। ऐसा करने के दौरान आपका कंप्यूटर एक्सपी की सीडी को मांगेगा। सीडी से वह आपकी भाषा के फाइलों को कापी कर लेगा। अगर आपको ऐसा करने में किसी तरह की परेशानी आ रही हो तो अपने साफ्टवेयर या हार्डवेयर इंजीनियर की मदद लें। अपनी भाषा को सक्रिय करने के बाद आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर आपकी भाषा के सिंबल कंप्यूटर के नीचे वाले स्टार्ट बार में आएंगे। आप आल्ट और शिफ्ट कमांड एक साथ दबाकर भाषा परिवर्तन कर सकते हैं। 
अगर आपने हिंदी भाषा को सक्रिय कर लिया है तो आप वर्ड पैड साफ्टवेयर खोलकर उसमें हिंदी में कोई भी पत्र या अपने काम की कोई भी चीज टाइप कर सकते है। विंडो एक्सपी में फोनेटिक की बोर्ड की सुविधा हिंदी में उपलब्ध है जिसे याद करना बहुत आसान भी है। आप अपने कंप्यूटर में हिंदी के ट्रू टाइप के सैकड़ो पसंदीदा फांट भी लोड कर सकते है। ज्यादा फांट्स प्राप्त करने के लिए आप भारत सरकार द्वारा विकसित की गई वेबसाइट डब्लूडब्लूडब्लू . आईएलडीसी. ईन पर जा सकते हैं। यहां भारती ओपन के वर्ड प्रोसेसर के अलावा जिस्ट के सैकड़ो फांट्स उपलब्ध है।

हिंदी भाषा को विंडो एक्सपी में एक्टिवेट करने के बाद न सिर्फ इससे वर्डपैड पर बल्कि आप एमएस आफिस जैसे साफ्टवेयर में भी हिंदी में काम कर सकते हैं। साथ ही इन फाइलों को किसी के पास भी ई मेल कर सकते हैं। ये फाइलें आरटीएफ (रिच टेक्स फाइल) फारमेट में जाती हैं इसलिए इनको किसी भी साफ्टवेयर में खोला जा सकता है। अगर आपकी तरह ही जहां फाइल जा रही है वहां भी हिंदी भाषा एक्टिवेट किया हुआ हो तब और भी अच्छा। अगर आप हिंदी का कंप्यूटर पर तेजी से विकास चाहते हैं तो यह जानकारी अपने मित्रों को बांटे। इतना ही नहीं अगर आपके कंप्यूटर पर हिंदी भाषा एक्टिवेट है आपका जीमेल का एकाउंट भी हिंदी में खुलेगा और उसपर आप सीधे हिंदी भाषा में पत्र लिख कर किसी को भी भेज सकते हैं।

-विद्युत प्रकाश मौर्य



Friday, 13 October 2006

दुनिया का सबसे छोटा वेब डिजाइनर

कई कहते हैं पूत के पांव पालने में ही दिखाई दे जाते हैं। सो नन्हें अजय पुरी ने नौ महीने की उम्र से ही कंप्यूटर के की बोर्ड से खेलना शुरू कर दिया था। दो साल की उम्र में प्रेजेंटेशन देने लगे। तीन साल की उम्र में उन्होंने अपनी वेबसाइट www.microsftkid.com बना डाली। उन्हें विश्व के सबसे कम उम्र के वेब डिजाइनर होने का गौरव प्राप्त है। नौ साल के मास्टर अजय पुरी को जनवरी 2006 में हैदराबाद में मनाए गए प्रवासी भारतीय दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह द्वारा सम्मानित किया गया। वे अपने पिता के साथ थाइलैंड में रहते हैं। वर्ष 2001 में अजय पुरी जब चार साल के थे तब एडमिंस्ट्रेटिव स्टाफ कालेज हैदराबाद खुद का डिजाइन किया हुआ प्रेजेंटेशन पेश किया था तो देखने वालों ने दांतों तले उंगलियां दबा ली थीं। अजय की प्रस्तुति तीन पन्ने की वेबसाइट थी जो उन्होंने फ्रंट पेज 2000 की मदद से बनाई थी। इसमें उन्होंने तस्वीरों, ग्राफ, डाटा लिस्ट, मेल मर्ज व एनीमेडेट साउंड आदि का इस्तेमाल किया था।


बिल गेट्स ने दी बधाई
अजय पुरी को अपनी वेबसाइट बनाने के लिए माइक्रोसाफ्ट के चेयरमैन बिल गेट्स ने बधाई दी। वे 14 नवंबर 2002 को बिल गेट्स से मिले तब गेट्स ने उन्हें कहा कि तुम भारत के बिल गेट्स बनोगे। तब अजय ने गेट्स को याद दिलाया-आपके दादा एक बैंक के वाइस प्रेसिडेंट थे तो मेरे दादा एक कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट। आपके परदादा राजनीति में थे तो मेरे परदादा भी राजनेता थे। यहां यह बताते चलें कि अजय भारतीय राजनीति के देदीप्यमान नक्षत्र आचार्य नरेंद्र देव के परपोते हैं। उनके दादा जी विष्णु नारायण पुरी ने उन्हें होश संभालने के साथ कंप्यूटर सीखाना आरंभ कर दिया था। अजय के पिता रवि पुरी बैंकांक की एक कंपनी सेंचुरियन टेक्सटाइल्स में मार्केटिंग मैनेजर हैं।
अजय बताते हैं कि उनकी वेबसाइट पूरी तरह के उनके बारे में वे क्या सोचते हैं। मैं क्या जानता हूं। मैं किन लोगो से मिल चुका हूं। उनकी वेबसाइट पर आप उनकी बिल गेट्स, अटल बिहारी बाजपेयी, के आर नारायणन, एनआर नारायण मूर्ति, कई फिल्म स्टार सहित दुनिया की प्रमुख हस्तियों के साथ उनकी तस्वीर भी देख सकते हैं। अजय पुरी अपनी वेबसाइट पर हर किसी को अपने साथ संवाद स्थापित करने का भी मौका भी देते हैं। आप उन्हें ई मेल कर सकते हैं। वे उसका जवाब भी दे सकते हैं। नौ साल की उम्र में उनका कंप्यूटर ज्ञान काफी बढ़ चुका है। वे कंप्यूटर पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग करना जानते हैं। अब वे डिजिटल मूवी बनाने की तैयारी में हैं। अब उनका लक्ष्य गिनिज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्डस में अपना नाम दर्ज कराने का है। वे सबसे कम उम्र के एनीमेटर के रुप में वहां अपना नाम देखना चाहते हैं। खैर अजय को हमारी शुभकामनाएं।
-माधवी रंजना



Monday, 2 October 2006

आज भी प्रासंगिक हैं गांधी

एक बार फिर गांधी चर्चा में हैं। पहला कारण तो है सत्याग्रह आंदोलन के 100 साल पूरे होना। 11 सितबंर 1906 गांधी जी दुनिया को लड़ाई के लिए एक नया अस्त्र प्रदान किया। सत्याग्रह निर्बलों के लिए बहुत बड़ा अस्त्र साबित हुआ। पर अभी हास्य फिल्मों की श्रंखला में मुन्नाभाई एमबीबीएस का नया सिक्वल आया है लगे रहो मुन्नाभाई। इसमें टपोरी मुन्ना की मुलाकात गांधी जी से हो जाती है। वह अपनी कई समस्याओं को गांधीवाद से सुलझाने की कोशिश की गई है। फिल्म में हास्य व्यंग्य के माध्यम से ही गांधीवाद के कई पहलूओं को छूने की बड़ी सफल कोशिश की गई है। गांधी जी के पोते तुषार गांधी को भी इस फिल्म का संदेश बहुत अच्छा लगा। पिछले साल भी गांधीजी पर केंद्रित एक फिल्म आई थी मैंने गांधी को नहीं मारा। इसमें अनुपम खेर ने शानदार अभिनय किया था। इसमें गांधी को अपराध बोध शैली में याद करने की कोशिश की गई।

वास्तव में गांधी विचार समग्र जीवन दर्शन है। यह एक व्यवहारिक एप्रोच है। इससे दुनिया के कई बड़े आंदोलनों ने प्रेरणा ली है। तभी कुछ साल पहले हुए के सर्वेक्षण में गांधी जी को 20 वीं सदी का दुनिया का सबसे लोकप्रिय नेता घोषित किया गया।
कुछ लोग गांधी को श्रेष्ठ राजनेता मानते हैं तो कुछ समाजसुधारक तो कुछ लोग सफल अर्थशास्त्री। गांधी एक सफल संचारक भी थे। इसके बावजूद की वे कोई ओजपूर्ण वाणी के वक्ता नहीं थे। गांधी का मजाक उड़ाने वाले उन्हें देश आजाद होने के कुछ साल बाद ही आउटडेटेड मानने लगे। पर हर कुछ साल बाद कुछ ऐसे प्रकरण आते हैं जो गांधी को एक बार फिर प्रासंगिक सिद्ध कर देते हैं। गांधी जी ने हमें लड़ने के लिए अंहिंसा जैसा अस्त्र दिया जिससे दुनिया में लाखों लोगों ने प्रेरणा ली है। आज भी दुनिया के कई देशों में गांधीवादी तरीके से लोकतंत्र की बहाली के लिए लड़ाई लड़ी जा रही है।
हालांकि लगे रहो मुन्नाभाई फिल्म में जिस तरह गांधी जी के दर्शन को गांधीगिरी के नाम से दिखाया गया है उस पर कई गांधीवादियों को आपत्ति है। वास्तव में गांधीगिरी को दादागिरी जैसे मुहावरे से जोड़कर देखा जा रहा है जो ठीक नहीं हैं। हमें शब्दों के हमेशा शाब्दिक अर्थ पर ही नहीं बल्कि उसके भाव पर जाना चाहिए। गांधीजी के ही वंशज तुषार गांधी जी को आज भी गांधीवाद के प्रचार प्रसार को लेकर चिंतित और सक्रिय रहते हैं उन्हें यह फिल्म एकदम झक्कास लगी है। एक ही संदेश को ज्ञापित करने का सबका अपना अलग अलग तरीका हो सकता है। हमें किसी फिल्म निर्माता की तारीफ करनी चाहिए जो फिल्म में कोई अच्छा मैसेज डालने की कोशिश करता है।
यह तो तय बात है कि मीडिया के रूप में फिल्मों का समाज पर जबरदस्त प्रभाव है। फिल्में आम जनता पर बहुत गहरा प्रभाव डालती हैं। लोग फिल्मों के पात्रों और उनकी गतिविधियों को हर रूप में नकल करने की कोशिश करते हैं। ऐसे में कोई फिल्म अगर अच्छे संदेश देगी तो इसका समाज पर कुछ न कुछ अच्छा प्रभाव तो पड़ेगा ही। यह उसी शिक्षक की तरह है जो खेल खेल में बच्चों को ज्ञान की बातें याद करा देता है। वहीं कई शिक्षक उसे बोरिंग ढंग से पेश करते हैं जिसका बच्चों पर अच्छा प्रभाव नहीं पड़ता है। बहरहाल गांधी जी आज भी हमारे बीच में ही हैं। यह हमारे ऊपर निर्भऱ करता है कि हम उन्हें कितना आत्मसात करते हैं।
-विद्युत प्रकाश vidyutp@gmail.com

Sunday, 17 September 2006

सभी रेलगाड़ियां वातानूकुलित होंगी

 गरीब रथ के साथ एक प्रयोग की शुरुआत हुई है। आने वाले दौर में सभी लंबी दूरी की ट्रेनों को पूरी तरह वातानूकुलित करने का प्रयास किया जाएगा।

कई साल पहले भारतीय रेल ने जब एसी में थ्री टीयर कोच का प्रावधान किया तो यह काफी लोकप्रिय हुआ। एसी 2 टीयर में जहां 46 लोग ही यात्रा कर पाते थे वहीं उतने ही बड़े डिब्बे में अब 64 लोग यात्रा करते हैं। एसी थ्री से जहां लोगों को 25 फीसदी तक कम किराए में ही वातानूकुलित क्लास में सफर करने का फायदा मिला वहीं रेलवे का भी राजस्व बढ़ने लगा है। अब वातानूकुलित वर्ग मे एसी थर्ड यात्रियों को बीच सर्वाधिक लोकप्रिय है। आजकल रेल कोच फैक्ट्रियों में ज्यादा डिब्बे एसी 3 के ही बनाए जा रहे हैं। कई रेलगाड़ियों में एसी-3 के डिब्बे तुरंत भर जाते हैं पर एसी-2 खाली ही रहता है।

अब गरीब रथ के साथ एक नई शुरूआत हुई है। अगर वर्तमान रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव का यह प्रोजेक्ट लोकप्रिय हो जाता है तो आने वाले दिनों में अधिकांश रेलगाडि़यों के सभी डिब्बों को एसी करने का प्रयास किया जाएगा। यानी आम जनता के लिए चलने वाली सभी ट्रेनें भी राजधानी और शताब्दी की तरह पूरी तरह से वातानूकुलित हुआ करेंगी। यह सब कुछ स्पेश मैनेजमेंट की नई नीति के तहत संभव हो सका है। यानी की उतनी ही जगह में ज्यादा सीटें देने की कोशिश करना। अगर यह सब कुछ सफल रहा तो मध्यम वर्ग क्या फैक्टरी में काम करने वाले मजदूर वर्ग के लोग भी वातानूकुलित क्लास में चलने का सुख उठा सकेंगे। अभी तक रेलगाड़ियों में वातानूकुलित क्लास में सफर सिर्फ उच्च वर्ग के लोग कर पाते हैं। आमतौर पर मध्यम वर्ग के लोग भी स्लीपर क्लास में ही सफर करते हैं। भारत जैसे देश में जहां पूरे देश का मौसम एक सा नहीं रहता है वहां सभी लंबी दूरी की गाड़ियों को वातानूकुलित बनाने की कोशिश स्वागत योग्य है।

लालू का अर्थशास्त्र-
अब यह देंखें की गरीब रथ के मामले में लालू का अर्थ शास्त्र कैसे काम करता है। अगर 17 डिब्बों वाली को वातानूकुलित रेलगाड़ी है तो एसी कोच में प्रति यात्री प्रति किलोमीटर 47 पैसे परिचालन दर आती है। वहीं अगर गरीब रथ हो तो यह परिचालन दर 39 पैसे आ जाती है। क्योंकि इतनी जगह में गरीब रथ में ज्यादा यात्री सफर करते हैं। रेलवे को अनुमान है कि इस तरह की व्यवस्था से रेलवे के राजस्व में 63 फीसदी तक की बढ़ोतरी हो सकती है वहीं लोग रेलगाड़ी में सस्ती यात्रा का भी सुख उठा सकते हैं।
स्पेश मैनेजमेंट
एसी 3 में जहां एक कोच में कुल 64 यात्रियों के लिए सोने की जगह होती है वहीं गरीब रथ के कोच नए डिजाइन से तैयार किए गए हैं। इनमें 74 यात्रियों के लिए सोने की जगह है। कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्टरी ने इन डिब्बों को डिजाइन किया है। अब इसमें कुछ और बदलाव कर इसे 84 सीटों वाला करने की योजना पर काम चल रहा है। इसी तरह गरीब रथ में लंबी दूरी की यात्रा करने वालों के लिए भी चेयरकार की व्यवस्था की गई है। परंपरागत एसी चेयरकार में 70 सीटें होती हैं पर इसमें 102 सीटों का प्रावधान किया गया है। इसका किराया लगभग स्लिपर क्लास के बराबर ही रखा गया है। यह अग बात है कि लंबी दूरी की यात्रा कोई बैठकर नहीं करना चाहता है। पर लंबी दूरी की अधिकांश ट्रेनों में मजदूर वर्ग के लोग बैठकर क्या आलू प्याज की तरह ठूंसकर सफर करते भी देखे जाते हैं। उनके लिए एसी सिटिंग बहुत अच्छी रहेगी। इससे गरीब व मध्यमवर्गीय जनता को एक सुखद विकल्प भी मिल सकेगा।
-माधवी रंजना madhavi.ranjana@gmail.com



Wednesday, 13 September 2006

हिंदी अब विश्व भाषा बनेगी

संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जार्ज बुश ने अपने देश के लोगों से अपील की है कि वे हिंदी जैसी भाषा सीखें। यूएसए के सैनिक, गुप्तचर अधिकारी और राजनेता भी अब हिंदी के जानकार मिलेंगे। यानी अमेरिका ने हिंदी को एक मजबूत भाषा के रुप में स्वीकार कर लिया है। पहले माइक्रोसाफ्ट और अब अमेरिका जैसा देश। यानी हमारी भाषा विश्व पटल पर मजबूत हो रही है। यह दूसरा पहलू हो सकता है कि अमेरिका में हिंदी सीखने का जो अभियान चलाया जा रहा है उसके मूल कारण रणनीतिक है। पर इतना तय है कि उन्हें इस भाषा के पीछे एक ताकत नजर आती है। पहली ताकत जो एनआरआई लाखों की संख्या में अमेरिका में रहते हैं और अमेरिका की सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था में महत्वपूर्ण दखल देने लगे हैं। भारतीय टीवी चैनल और और भारतीय में बनने वाले हिंदी सिनेमा की ग्लोबल मार्केट में उपस्थिति। हिंदी के साथ एक बहुत बड़ा बाजार है। हमें अगर कुछ पुरी दुनिया में बेचना है, पूरी दुनियाको समझाना है तो हिंदी में उतरना ही पड़ेगा। 


अमेरिका ने इस सच को समझ लिया है कि दुनिया की जो मजबूत भाषाएं हैं उनका सम्मान करना ही पड़ेगा। इसके लिए इस भाषा को लिखना पढ़ना आना ही चाहिए।
अगर हिंदी के लोगों ने कंप्यूटर को और पहले अपना लिया होता तो हिंदी का विकास और भी तेज हो सकता था। हिंदी ऐसी भाषा है जो कुछ सौ वर्षों में ही करोड़ों लोगों की जुबान बनी है। खड़ी बोली का जो स्वरूप हम आज अपनाए हुए हैं वह अंग्रेजों के भारत में आगमन के बाद ही विकसित हुआ है। भारतेंदु हरिश्चंद्र के बाद से पल्लवित होने वाली हिंदी अब देश की सीमाएं लांघ चुकी है। माक्रोसाफ्ट के एक्सपी संस्करणों में रीजनल भाषा विकल्प में हिंदी को किसी भी कंप्यूटर में सक्रिय किया जा सकता है। दुनिया के किसी भी कंप्यूटर में कुछ मिनटों के प्रयास के बाद आप हिंदी में टाइपिंग शुरू कर सकते हैं। हो सकता है आने वाले दिनों में आप अमेरिका जाएं तो आपको होटलों में हिंदी समझने वाले लोग मिल जाएं। पर्यटक स्थानों पर हिंदी में बातें करने वाले गाइड मिल जाएं। हिंदी के विकास में इसका लचीलापन और इसकी सारग्राहिणी प्रवृति का बहुत बड़ा योगदान है। हालांकि कि तत्सम हिंदी के पुरोधा इन चीजों से विरोध रखते हैं। पर हमें हिंदी को और उदार बनाना होगा। दूसरी भाषा के शब्दों के प्रयोग में उदारता बरतनी होगी। जो लोग खिचड़ी भाषा को हिंग्लिश कहकर धिक्कारते हैं उन्हें यह समझना होगा इसी तरह के लोग हिंदी की वैश्विक पहचान बना रहे हैं। टीवी के समाचार चैनल, मनोरंजन चैनल और हिंदी फिल्में हिंदी को ग्लोबल बना रही हैं। आज अमेरिका ने स्वीकारा कल दुनिया के कुछ और देश स्वीकारेंगे। इस परिपेक्ष्य में अब भारत के कुछ राज्यों में हिंदी विरोध की बात बेमानी लगती है। हमें अब इस तरह की बातों से उपर उठना होगा। आने वाले सौ सालों हिंदी और ऊपर जाएगी। बहुत ऊपर।

-विद्युत प्रकाश,   मेल vidyutp@gmail.com


Thursday, 17 August 2006

सारा देश होता लोकल

हाल में टाटा इंडीकाम ने अपने सभी लैंडलाइन उपभोक्ताओं को देश भर में अपने नेटवर्क पर लोकल काल दरों पर बात करने की सुविधा दी है। यानी टाटा इंडीकाम का लैंडलाइन फोनधारी अब अपने पड़ोसी को फोन करे या फिर बेंगलूर मुंबई या अमृतसर कहीं भी वह 1.20 रुपए में तीन मिनट बातें कर सकेगा। इससे पहले महानगर टेलीफोन निगम लि. (एमटीएनएल) ने भी दिल्ली व मुंबई के बीच अपने नेटवर्क पर लोकल काल करने की सुविधा प्रदान कर दी है। अब उससे भी आगे बढ़कर एमटीएनल ने दिल्ली मुंबई के बीच अपने उपभोक्ताओं को लोकल काल की दर पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग की सुविधा भी प्रदान कर दी है। इतना ही नहीं एमटीएनएल ने घोषणा की है कि वह अपने उपभोक्ताओं को और भी कई सुविधाएं लोकल काल दरों पर देने की ठानी है। यानी उपभोक्ताओं की चांदी है।
वर्तमान में अगर आप कोई एसटीडी काल करते हैं तो आपको 2.40 रुपए प्रति मिनट की दर से भुगतान करना पड़ता है। जबकि लोकल काल के लिए दर महज 40 पैसे मिनट है। यानी लोकल काल की तुलना में एसटीडी छह गुना महंगी है। पर एमटीएनएल या टाटा इंडीकाम के नेटवर्क में एसटीडी काल अब उपभोक्ताओं को छह गुनी सस्ती पड़ रही है। वैसे एसटीडी करने वाले लोगों के इंडिया वन प्लान का विकल्प मौजूद है। इसमें 200 रुपए मासिक किराया के प्लान में महज 1 रुपए मिनट एसटीडी काल की जा सकती है। पर अब अधिकांश टेलीफोन आपरेटर अपने नेटवर्क पर पूरे देश को लोकल काल में परिवर्तित करने की ओर आगे बढ़ रहे हैं। यानी आने वाले समय में ऐसा भी हो सकता है जब एसटीडी काल का कोई मतलब ही नहीं रह जाएगा। हो सकता है टाटा और एमटीएनएल से प्रभावित होकर रिलायंस और अन्य कंपनियां भी इस तरह के प्लान आफर करें। अभी देश में सबसे बड़ा लैंडलाइन नेटवर्क भारत संचार निगम लि. का ही है। इसलिए उपभोक्ताओं को सही लाभ तभी हो सकेगा जब बीएसएनएल इस तरह की कोई घोषणा करता है।
पूरे देश में लोकल काल होने का फायदा उन कंपनियों को ज्यादा हो सकता है जिनका दफ्तरों का नेटवर्क देश भर में फैला हुआ हो। जैसे मान लिजिए किसी कंपनी का एक दप्तर अमृतसर में है दूसरा बेंगलूर में। अगर कंपनी के पास दोनों जगह टाटा का ही फोन है तो दफ्तर के लोग रोज लोकल काल दरों पर आपस में जम कर बातें कर सकते हैं वहीं फैक्स आदि का आदान प्रदान भी लोकल दरों पर ही कर सकते हैं।
कई कंपनियां धीरे धीरे ही सही पूरे देश को लोकल काल दर पर लाने की ओर बढ़ रही हैं।
आने वाले समय में मोबाइल फोन पर भी कंपनियां काल दरों में और भी गिरावट करने वाली हैं। अभी मोबाइल पर प्रति मिनट एसटीडी की दर आमतौर पर दो रुपए प्रति मिनट की है। वहीं लोकल काल की दरें 49 पैसे से लेकर एक रुपए प्रति मिनट तक अलग अलग रेंज में है। पर लैंडलाइन फोन पर घटती काल दरों का असर जल्द ही मोबइल सेक्टर में भी दिखाई देगा।
भारत संचार निगम लि. सहित सभी कंपनियां एसटीडी दरों में और गिरावट करने वाली हैं। ऐसी उम्मीद की जा रही है एसटीडी की अधिकतम दरें 60 से 70 पैसे प्रति मिनट पर सिमट कर रह जाएंगी। जाहिर है कि इसका फायदा आम लोगों को और गरीब लोगों को ज्यादा मिल सकेगा।
 -विद्युत प्रकाश vidyutp@gmail.com




Sunday, 13 August 2006

आखिर कहां जाएं प्यार भरे दिल

चलों चलें दूर कहीं प्यारके लिए ये जगह ठीक नहीं। 
जी हां आखिर कहां जाएं प्रेमी। पार्क में अगर प्रेमी प्रेमिका बैठकर प्यार के दो मीठे बोल बोलते हैं तो पुलिस डंडे बरसाती है। लाइब्रेरी के किताबों के बीच छुप-छुप कर प्यार की बातें करो को लाइब्रेरियन बाहर जाने के कहता है। अब भला सड़क पर बैठकर प्यार की बातें तो की नहीं जा सकती। या कि अपने मम्मी डैडी के पास खुलेआम अपनी प्रेमिका को लेकर भी नहीं जाया जा सकता है। बेचारे मेरठ के प्रेमियों के पास लेदेकर वही एक अच्छा पार्क पर था पर वहां भी पुलिस आ गई रंग में भंग डालने। आपरेशन भी उसने ऐसा चलाया कि बेचारे मजनू की आत्मा भी सुबकती होगी। मजनू तो भले ही असफल प्रेमी रहा हो पर था तो वह बड़ा शरीफ व मजबूर। पुलिस वालों ने तो उसका नाम भी बदनाम करके रख दिया। मेरठ की इस घटना से दुनिया भर के प्यार करने वालों का दिल भर आया है। पाकिस्तान की एक हसीन शायरा ने लिखा है-
जब कोई दर्दे मुहब्बत की सजा पाता चोट उसे लगती है, दिल मेरा भर आता है।
सो मेरठ के प्यार करने वालों निराश न होना। जो पुलिस के डंडे के निशान तुम्हारे पीठ पर पड़े हैं उसका दर्द कश्मीर से कन्याकुमारी तक के प्यार करने वाले दिल महसूस कर रहे हैं। क्या करें प्यार करने वालों का कोई संगठन नहीं है नहीं देश भर में पुलिस के खिलाफ धरना प्रदर्शन जरूर करवाते। अब यश चोपड़ा करन जौहर या महेश भट्ट को इस प्रकरण से प्रेरणा लेकर कोई फिल्म जरूर बनानी चाहिए।

बात यहीं खत्म नहीं होती। सुना है कि दिल्ली के चिड़ियाघर में प्यार भरी मीठी बात करने वालों पर भी प्रशासन की टेढी नजर हैं। उन्हें तंग करन के लिए उनके पीछे हिजड़े छोड़ दिए जाते हैं। जहां आपने प्यार भरी बातें शुरू नहीं कि हिजड़े आ गए रंग में भंग डालने। दिल्ली में छोटे-छोटे अपार्टमेंट में रहने वाले लोगों तो घर में भी प्यार भरी बात करने का मौका नहीं मिलता। यहां तो प्रेमी प्रेमिका क्या पति पत्नी भी प्यार का व्यापार करने के लिए पार्क या चिड़िया घर में आते हैं। अब सार्वजनिक स्थानों पर वेलेंटाइन डे मनाना भी खतरनाक है। हो न हो इसक पीछे कोई विदेशी साजिश नजर आती है। हो सकते है महंगे रेस्टोरेंट की चेन चलाने वालों ने पुलिस प्रशासन को उकसाया हो कि वे प्रेमियों के परेशान करें ताकि प्यार भरे दिल उनके रेस्टोंरेंट में आएं और दिल की बात कहने के साथ बिल भी भरें और जेब भी ढीली करें। इसकी गहराई से जांच कराई जानी चाहिए। बड़े शहरों में खुलने वाले शानदार रेस्टोरेंट प्रेमियों को पूरा एकांत उपलब्ध कराते हैं। पर यहां बैठना बड़ा महंगा पड़ता है। अब भला वे प्रेमी कहां जाएंगे जिनकी जेब तो खाली होगी पर दिल तो प्यार से भरा होगा। किसी शायर ने कहा था - तेरे जितने भी चाहने वाले होंगे। होठों पे हंसी पर पावों में छाले होंगे।
-विद्युत प्रकाश



क्या नाम से जाति सूचक शब्द हटाए जाएं

भला नाम में क्या रखा है। नहीं नाम मे बहुत कुछ रखा है। पिछले दिनों एक सुझाव आया कि नाम से जातिसूचक शब्द हटाए जाने चाहिएं इससे देश में जातपात के भेदभाव को मिटाने मे मदद मिल सकती है। इसको लेकर कानून बनाने का भी सुझाव आया है। पर क्या ऐसा कोई कानून बनाया जा सकता है। क्या लोगों को इस बात के लिए कानून मजबूर किया जा सकता है कि आप अपने नाम में कोई भी जातिसूचक शब्द न लगाएं। शायद इसको लेकर कई तरह की मुश्किलें आ सकती हैं। 

पहले यह तय करना मुश्किल हो सकता है कि कौन शब्द जाति सूचक हैं कौन से शब्द नहीं। जैसे उत्तर भारत में शर्मा और सिंह जैसे टाइटल हैं जो कई जातियों के लोग लगते हैं। कानून बनाकर इन शब्दों के प्रयोग पर पाबंदी लगाना कठिन होगा। पंजाब में काफी लोग अपने नाम के साथ अपने गांव का नाम लगाते हैं। वहीं गुजरात में अपने नाम के साथ अपने नाम के साथ पिता का नाम लगाते हैं। उन्हें ऐसा करने से रोकना कानून बनाने से संभव नहीं हो सकेगा।
वहीं कोई भी नाम रखना और नाम के आगे कोई भी टाइटल लगाना हर किसी का मौलिक अधिकार है। इस पर कानून बनाकर रोक नहीं लगाया जा सकता है। ऐसा करने पर बड़ी संख्या में लोग विद्रोह कर सकते हैं। नाम से जाति सूचक शब्द हटाने को लेकर आपत्ति देश भर की जातीय संगठनों को भी हो सकती है। ये जाति संगठन अपने अपने समाज में लोगों को इस बात के लिए अभिप्रेरित करते हैं आप अपने नाम के साथ खुलकर जाति सूचक शब्द लगाएं जिससे की सामने वाले को आपकी जाति का पता चल जाए। दलित व पिछड़ी जातियों में पहले अपनी जाति छुपाने का प्रचलन था इसलिए इन समुदाय से आने वाले लोग बड़ी संख्या में टाइटल नहीं लगाया करते थे। पर अब पिछले एक दशक में दलित जातियों में स्वाभिमान जगा है। वे खुल कर अपनी जाति सूचक टाइटल लगाने लगे हैं।
बहुत कम लोग ऐसे हैं जो नाम से जातिसूचक शब्दों को हटाए जाने के पक्ष में हैं। दुनिया के हर देश में नाम के साथ किसी न किसी तरह का शीर्षक लगाए जाने का प्रचलन है। देश में कुछ ऐसे लोग हुए हैं जिन्होंने अपने नाम से जाति सूचक शब्द हटाए हैं। जैसे राजनीति में चंद्रशेखर। पर ऐसे लोग जो नाम के साथ जाति नहीं लगाते उनकी भी जाति लोग बखूबी जानते हैं। जो नहीं जानते वे उनकी जाति पता कर ही डालते हैं। बिहार के करिश्माई नेता का असली नाम लालू प्रसाद है पर उन्हें ज्यादा लोग लालू प्रसाद यादव या लालू यादव के नाम से बुलाते हैं। अगर लोग अपनी प्रेरणा से ही अपने नाम इस तरह के रखने लग जाएं जिससे उनकी जाति के बारे में पता न चले तो यह बड़ी अच्छी बात हो सकती है। पर इसको लेकर किसी तरह के कानून थोपने की कोई जरूरत नहीं है।
अगर कानून बनता है तो काफी लोग इस कानून के खिलाफ अपील करेंगे। सबसे बड़ी बात है किसीको कोई भी नाम रखने से रोका नहीं जा सकता है। अगर कोई दलित समाज से आने वाला व्यक्ति किसी सवर्ण जाति की कोई टाइटल को लिखना चाहता है तो उसे भी ऐसा करने से लोग अथवा कानून नहीं रोक सकते हैं। कुछ लोग को अजीबोगरीब किस्म के उपनाम रख लेते हैं। जैसे मप्र के भाजपा नेता बाबू लाल गौर। कहते हैं वे स्कूल में अपने शिक्षक की बात गौर से सुनते थे इसलिए उनका नाम शिक्षक ने ही बाबूलाल गौर रख दिया।

-विद्युत प्रकाश मौर्य