Thursday, 17 January 2008

नहीं रुकेगी फिर भी यह कलम

चेचन विद्रोह पर लगातार साहसपूर्ण ढंग से लिखने वाली महिला पत्रकार की उसके अपार्टमेंट की लिफ्ट में निर्मम हत्या कर दी गई पर क्या इससे सच बोलने वाली कलम रुक जाएगी...

अन्ना पोलिटकोवस्का ने मास्को स्टेट यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता में स्नातक करने के बाद इस प्रोफेशन को कैरियर के रूप में चुना था। सात अक्टूबर की सुबह जब वह अपने अखबार नोवाया गजट के लिए चेचन विद्रोह के दौरान मानवाधिकारों के हनन पर विशेष रिपोर्ट लेकर जा रही थीं तभी उनकी लिफ्ट में ही निर्मम हत्या कर दी गई। उनके अखबार ने हत्या का सुराग देने वाले को 10 लाख डालर इनाम देने की घोषणा की है। इससे समझा जा सकता है कि वे अपने अखबार के लिए कितनी कीमती थीं। पर अन्ना की हत्या इस बात को प्रमुखता से रखता है कि दुनियाभर में मानवाधिकारों के लिए लड़ने वाले पत्रकारों को जान का खतरा बहुत है। अन्ना ने चेचन्या में रुसी सैनिकों द्वारा वहां के आम नागरिकों के दमन की दास्तान को बहुत प्रमुखता से लिखा था। पर रूस का शासन यह सब कुछ पसंद नहीं करता था। पूरी दुनिया में ऐसे पत्रकार जो पीआर जर्नलिज्म करते हैं। यानी किसी के द्वारा प्रायोजित तौर पर लिखते हैं उनकी जान को कोई खतरा नहीं है। पर जो लोग खोजपूर्ण पत्रकारिता करना चाहते हैं उनकी जान को खतरा है। अन्ना ने राष्ट्रपति पुतिन के शासन काल के दौरान चेचन विद्रोह पर ढेर सारी रिपोर्ट लिखीं। उसने एक सामाजिक कार्यकर्ता की हैसियत से चेचन के शिविरों और अस्पतालों में पड़े लोगों की मिजाजपुर्शी भी की और उनके अधिकारों के लिए लड़ाई भी की। जहां उसे ढेर सारे पुरस्कार मिले वहीं उसे मारने की भी तमाम कोशिशें की गईं। सितंबर 2004 में बेसलान स्कूल हादसे के दौरान उसे चाय में जहर देकर मारने की कोशिश की गई। 

अन्ना ने कई किताबें भी लिखीं। उसकी ताजी पुस्तक पुतिन का रुस थी। पर पुतिन सरकार के कई फौजी और पुलिस वाले भी अन्ना के जान के दुश्मन थे। उसे कई बार मारने की धमकी दी गई। दिसंबर 2005 में एक पत्रकार सम्मेलन के दौरान अन्ना ने कहा था कि मेरे जैसे कई लोग सच कहने के कारण संकट में हैं। कई लोगों को जान इसलिए गंवानी पड़ती है क्योंकि वे सच को जोर से कहना चाहते हैं।
और अब खुलासा हो गया है कि अन्ना जिस रिपोर्ट को लेकर अपने अखबार के दफ्तर जा रही थी उसे प्रशासन नहीं छपने देना चाहता था। उसमें चेचन विद्रोह को लेकर ग्राफिक्स के साथ प्रमुख तथ्य पेश किए गए थे।
सितंबर 2006 में एक और साहसी महिला पत्रकार का निधन हो गया। वह थी इटली की ओरियान फलासी। ओरियाना ने अमेरिका को मुस्लिम आतंकवाद से अगाह करने वाले कई लेख लिखे थे। पर उनका दुनिया भर में चर्चित काम था उनकी पुस्तक इंटरव्यूज विद् हिस्ट्री। इस पुस्तक में दुनिया के कई प्रमुख शासनाध्यक्षों के साक्षात्कार संकलित किए गए हैं। इसमें इंदिरा गांधी और अयातुल्ला खुमैनी भी थे। इस पुस्तक में संकलित कई नेताओं ने तो कहा कि अगर हमें पता होता कि ओरियान हमारा ऐसा साक्षात्कार करेगी तो वे कदापि उसे बातचीत करने के लिए समय नहीं देते। यह पुस्तक साक्षात्कारों पर केंद्रित श्रेष्ठ पुस्तकों में गिनी जाती है। कहा जाता है कि शब्द और विचार कभी नहीं मरते। उस लिहाज से अन्ना और ओरियाना की आवाज कभी बंद नहीं हो सकती। वे हमारी बीच सदियों तक रहेंगी। यह अलग बात है कि समय उनसे क्या सीखता है।
 ( अन्ना 30 अगस्त 1958 - 7 अक्तूबर 2006 ) 
- vidyutp@gmail.com