Thursday, 4 August 2011

काश.. मैं कुत्ता होता....


काश.. मैं कुत्ता होता....
-विद्युत प्रकाश
हर किसी की अपनी अपनी किस्मत होती है। आजकल मैं कुत्ते की किस्मत पर रस्क कर रहा हूं। वह भी अगर आपको विश्व सुंदरी या विश्व के सबसे ताकतवर आदमी का पालतू कुत्ता होने का मौका मिल जाए तो फिर कहना ही क्या। सुना है जानी-मानी अभिनेत्री ऐश्वर्य राय ने कुत्ता पाल रखा है। यह कुत्ता उनके पुराने प्रेमी विवेक ओबराय ने गिफ्ट किया था। उन्होंने कपड़े की तरह प्रेमी तो बदल लिया पर कुत्ता नहीं बदला। वे अपने प्यारे कुत्ते के बीमार होने पर परेशान हो उठती हैं। इतना परेशान कोई अपने बच्चे के बीमार होने पर नहीं होता। वैसे लोग करें भी क्या जिनके आधे दर्जन बच्चे होते हैं। हमेशा कोई न कोई बीमार तो पड़ा ही रहता है। बहरहाल ऐश्वर्य तो फिल्मी पार्टियों अन्य स्टारों से मिलने पर उनका हाल पूछने से पहले उनके कुत्तों का ही हाल पूछती हैं। उसके बाद बड़ी खुशी से अपने कुत्ते की शरारतपूर्ण हरकतें सुनाती हैं। और भी कई अभिनेत्रियों को कुत्ता पालने का शौक है। क्योंकि उनके प्रेमी तो अक्सर धोखा दे जाते हैं पर कुत्ते स्वामीभक्त होते हैं। साथ निभाते हैं। पूरी निष्ठा के साथ।
मैं उनके जानवर प्रेम को नमस्कार करता हूं। बस उनके यह आग्रह करना चाहता हूं कि वे जरा उन कुत्तों की भी फिक्र करें जो सड़कों पर घूमते हैं। आवारा होते हैं। मेनका गांधी की तरह वे भी कुत्तों को पकड़ कर उन्हें पालतू बनाएं। वैसे अपने जार्ज बुश साहब भी कुत्तों के बहुत बड़े प्रेमी हैं। उन्हें अपनी फौज पर उतना भरोसा नहीं है। सो उन्होंने अपने फौज में भी कुत्तों की भरती कर रखी है। इतना ही नहीं अपने कुत्तों को उन्होंने एसपी, डीएसपी और इंस्पेक्टर जैसे रैंक भी दे रखे हैं। जब जार्ज बुश साहब भारत आए तो उनके साथ 70 कुत्तों का एक दल भी आया था। उनके रहने के लिए दिल्ली के फाइव स्टार डिलक्स होटल में व्यवस्था की गई थी। जाहिर है कि उनके लिए खाने-पीने की भी शानदार व्यवस्था की गई होगी। अब उन कुत्तों की किस्मत देखिए। हमारे देश की 90 फीसदी आबादी बिना फाइव स्टार होटल देखे ही मर जाती है। आधे लोग तो बेचारे दिल्ली भी नहीं देख पाते हैं। खैर हमारे देश के गली के कुत्तों को जार्ज बुश के साथ आए कुत्तों के बारे में देर से खबर मिली नहीं तो उन्होंने दिल्ली के उस फाइव स्टार होटल के बाहर प्रदर्शन जरूर किया होता। तुम लोग हमारी बिरादरी के हो तो इतने बड़े होटल में क्यों ठहरे हो। आओ हमारे साथ सड़क पर भूंको।
खैर फिलहाल तो मुझे उन कुत्तों की किस्मत पर ईर्श्या हो रही है। मैं भगवान से ही पुरजोर मांग करूंगा कि अगले जन्म में मुझे कुत्ता ही बना दे। बस कुत्ता या तो ऐश्वर्य राय के घर का बनूं या फिर जार्ज बुश की सेना में शामिल हो जाऊं बस गली का अवारा कुत्ता मत बनाना। मैं वादा करता हूं जिसका भी कुत्ता बनूंगा एहसान फरामोस नहीं बनूंगा। साथ निभाउंगा। हे, ईश्वर मेरी सुन लेना।

No comments: