Thursday, 4 August 2011

चालीस के बाद करें डेटिंग ....


-विद्युत प्रकाश

कहते हैं इश्क में कोई उम्र की सीमा नहीं होती...यह सच है इसलिए अगर आप चालीस की उम्र को पार कर चुके हैं तो कमसिन बालाओं को देखकर सिर्फ ठंडी ठंडी आहें न भरें बल्कि पहल शुरू करें। जी हां जो हशरतें आप जवानी में पूरी नहीं कर सके हों उसे ढलती हुई उम्र में पूरा करने की प्लानिंग करें। एक छोटी सी कहानी है बचपन की प्रेमिका से ढलती उम्र में मुलाकात हो गई। आशिक मिजाज प्रेमी पूछ बैठा प्यार करोगी जानी तो तपाक के प्रेमिका बोल पड़ी- का वर्षा जब कृषि सुखानी....पर अब आप इस कहावत को भूल जाइए कोई भी समय कृषि सुखाने का नहीं होता। अगर आप टीवी और अखबारों के विज्ञापनों को ध्यान से देखते होंगे तो आपने देखा होगा...साठ साल के जवान...
अभी हाल में मैंने एक लेख पढ़ा जिसमें गंभीरता से यह सलाह दी गई थी कि चालीस के उपर के लोग डेटिंग कैसे करें। अक्सर आप जवानी के दिनों में अपनी प्रेमिका को आईसक्रीम खिलाने की, रेस्टोरेंट ले जाने की या फिर सिनेमा दिखाने की बात सोचते होंगे पर आपकी हसरत जेब ढीली होने के कारण मन में ही रह जाती होगी। पर अब आप इस दबी हुई हसरत को पूरी कर सकते हैं। क्योंकि अब आप नौकरी पेशा हैं और चालीस के उम्र में आपकी तनख्वाह भी मोटी हो चुकी होगी। आज आपके पास कार नहीं तो बाइक जरूर ही होगी। सो आप अपने वेतन का कुछ हिस्सा डेटिंग के नाम पर खर्च करना आरंभ कर दें। अगर बीबी पूछे की तनख्वाह में से इतना रूपया कहां गया तो कोई बहाना बना दें। अब तक आपको इतना करना तो आ ही गया होगा। अब आप पूछ सकते हैं कि भला इस उम्र में आपके उपर लड़कियां क्यों आकर्षित होंगी। तो जनाब आप इस गलतफहमी में न रहें लड़कियां तो पाकेट की गरमी देखकर ही आकर्षित होती हैं। उनका सूरत और सीरत से भला क्या काम। अगर आप किसी बड़े दफ्तर में काम करते हैं तो किसी को आप कैंटीन या कैफेटेरिया ले जाने का आफऱ करें। अगर आपको बस स्टाप पर कोई लड़की बस का इंतजार करती दिखे तो उसे लिफ्ट देने का आफर करें। आपके उम्र को देखते हुए आपके ऊपर कोई शक भी नहीं करेगा। इस तरह के कई और तरीके हो सकते हैं निकटता प्राप्त करने के पर मैं मुफ्त में इतना सब कुछ नहीं बताने वाला हूं। अगर आपको लगता है कि इस उम्र में भला यह सब कैसे शोभा देगा तो जनाब आप गलतफहमी में है। आप जैसे लोगों के लिए शायर ने लिखा है-
कौन कहता है बूड्ढे इश्क नहीं करते....इश्क तो खूब करते हैं लोग उनपर शक नहीं करते...
रही बात बदनामी की तो आप इससे हरगिज घबराएं... अगर आपके नाम के साथ थोड़ा बहुत स्कैंडल जुड़ता है तो इससे आपकी चर्चा बढ़ेगी। हो सकता है इसका आपको सकारात्मक लाभ मिले। हां अगर मामला ज्यादा बिगड़ता हुआ दीखे तो आप उसको संभालने की कोशिश करें। हो सकता है आपकी इस इश्क मिजाजी पर आपकी बीबी को शक हो... तो होने दीजिए न शक आपकी बीबी को इस बात पर रश्क हो सकता है कि मेरे पति के आगे पीछे इस उम्र में भी तितलियां मंडराती हैं। हां आप किसी तितली को घर में न आने दें। अगर मामला ज्यादा बिगड़ता हुआ दिखाई दे आप खुद संभाल लें। अगर लात जूते, लाठी डंडे पड़ने की नौबत आ जाती हो तो....इस मामले में हम आपको बचाने नहीं आ सकेंगे। ऐसे नाजुक मामले में आप अपने तुरंत बुद्धि का इस्तेमाल करें...


No comments: