Monday, 16 January 2012

तीसरी पीढ़ी के मोबाइल...

-विद्युत प्रकाश मौर्य
बाजार में तीसरी पीढ़ी के मोबाइल फोन दस्तक दे चुके हैं। लंबे इंतजार के बाद सरकार ने भी थर्ड जेनरेशन मोबाइल फोन को अपनी सेवाएं शुरू करने की इजाजत दे दी है। सरकारी दूरसंचार कंपनियां एमटीएनएल और बीएसएनएल ने तो साफ कर दिया है कि वे अगले छह महीनों में थ्रीजी सेवाएं शुरू कर देंगी। यह मोबाइल के कम्युनिकेशन के क्षेत्र में एक नए युग की शुरूआत होगी। भारत में 12 सालों में मोबाइल फोन ने बहुत तेजी से विस्तार का सफर तय किया है।

अभी तक हम मोबाइल फोन का इस्तेमाल सिर्फ बातें करने के लिए करते थे। पर मोबाइल ने धीरे धीरे कई तरह की जरूररतें खत्म कर डाली हैं। बातें होने के साथ एसएमएस ने सबसे पहले टेलीग्राम जैसी चीजों की जरूरत खत्म की। उसके बाद मोबाइल फोन पर आए एफएम रेडियो ने अलग से रेडियो लेकर चलने की जरूरतें खत्म की। यानी बातें करते रहिए, जब बातें नहीं करनी हो तो गाने सुनने का आनंद उठाइए। इसलिए बसों में और सार्वजनिक स्थलों पर लोग मोबाइल फोन का इयरफोन कान में लगाए गाने सुनने का आनंद उठाते जर आते हैं। इसके बाद मोबाइल फोन में कैमरा आया। शुरूआती दौर में मोबाइल फोन के साथ मिलने वाला कैमरा बहुत सस्ती किस्म का था। वीजीए कैमरे में उपलब्ध क्वालिटी का कोई उच्च गुणवत्ता में इस्तेमाल संभव नहीं था। पर अब मोबाइल फोन के साथ दो मेगा पिक्सेल तक के कैमरे आ रहे हैं। इन कैमरों से खींची गई तस्वीरों का इस्तेमाल आप कहीं भी कर सकते हैं। इसका बढि़या इनलार्जमेंट करवाया जा सकता है और कहीं भी छपवाया भी जा सकता है। अब शौकिया मोबाइल कैमरे से खींचे गए फोटो कई बार बहुत अच्छे व्यवासायिक इस्तेमाल में आते हैं। कैमरे के साथ नई पीढ़ी के मोबाइन फोन में आईपोड ( गाना सुनने के लिए सांग बैंक) तो गेमिंग पैड भी आने लगे हैं।
अब थ्री जी मोबाइल आने के बाद मोबाइल युग में क्रांति आने वाली है। क्योंकि इस पीढी के मोबाइल फोन में आपको फोन पर ही मिलेगा हाई स्पीड इंटरनेट। यानी ब्राड बैंड जैसी नेट सर्फिंग अब मोबाइल फोन पर की जा सकेगी। इसके साथ ही बहुत ही तेज गति से हाई स्पीड डाटा ट्रांसफर किए जा सकेंगे। यानी कोई तस्वीरों का समूह या वीडियो भी मोबाइल के जरिए दुनिया के किसी भी कोने में भेजा जा सकेगा। यानी मोबाइल फोन आपका चलता फिरता दफ्तर हो सकता है। आप चाहें तो अपने फोन से ही किसी घटना का वीडियो बनाएं और उसे कहीं भी ट्रांसफर कर दें। तीसरी पीढ़ी के मोबाइल टीवी और अखबार में खबरों के संकलन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। भारत जैसे देश में जहां मोबाइल फोन के कई श्रेणी के उपयोक्ता हैं, तीसरी पीढ़ी के मोबाइल का एक बड़ा ग्राहक वर्ग तैयार है इसके स्वागत के लिए। कारपोरेट यूजर और ए क्लास के लोग इस तरह की सेवाओं का उपयोग करना चाहते हैं। बाजार भी पहले से ही थर्ड जेनरेशन के मोबाइल हैंडसेट से पटा पड़ा है। एयरटेल और वोडाफोन ने थ्री जी सेवाओं से लैस मोबाइल फोन को लांच करने की पहले से ही तैयारी कर रखी थी। एप्पल अपना आईफोन इन कंपनियों के साथ बेचना शुरू कर रही है। यह आईफोन लैपटाप में उपलब्ध सुविधाओं से लैस होगा।




No comments: