Sunday, 1 December 2013

अकेले हैं तो क्या गम है....

कोवलम समुद्र तट, तिरुवनंतपुरम, केरल। 
बदलते समाज में कई तरह की पुरानी मान्यताएं टूट रही हैं। किसी जमाने में औरत को हमेशा किसी पुरूष के साथ ही संरक्षण की जरूरत होती थी। अब वह जमाना नहीं रहा। इक्कसीवीं सदी में नारी की छवि मजबूत होकर उभरी है। रोजगार के कई नए क्षेत्रों में प्रवेश ने उसके आत्मसम्मान को बढ़ाया है। ऐसे में समाज में ऐसी महिलाओं की संख्या भी बढ़ी है जो सारा जीवन अकेले गुजार देना चाहती हैं। पुरूषों के मामले में हमेशा से इस तरह के उदाहरण सुनने में आते थे पर महिलाओं के बारे में ऐसा कम ही सुना जाता था। पुरातन भारतीय मानसिकता के अनुसार स्त्री को बचपन में पिता के संरक्षण में और जवानी में पति के संरक्षण में तो बुढ़ापे में बेटे के संरक्षण में रहना चाहिए। पर अब नारी वैसी अबला नहीं रही जिसे हर वक्त किसी के संरक्षण की जरूरत हो। आज के दौर में खुद धनोपार्जन करने वाली महिला हर तरह से अपना संरक्षण करने में सक्षम है। वह खुद अस्पताल भी जा सकती है, लंबी यात्राएं भी कर सकती है। वह न सिर्फ अपना बल्कि अपने परिवारा का भी पालन कर सकती है। सुरक्षित बुढ़ापे के लिए वह बीमा योजनाओं और मेडिक्लेम पालिसियों का सहारा ले सकती है। वह अच्छा खासा धन जमा करके अपना बुढ़ापा सुरक्षित कर सकती है। ऐसे में समाज में कई ऐसी महिलाएं भी देखने को मिल रही हैं जो विवाह जैसे बंधनों में बंधना नहीं चाहतीं। कई बार विद्वान महिलाओं को अपनी ही तरह का कोई साथी नहीं मिलता जिसके साथ वे सारा जीवन गुजार देने की बात सोच सकें। ऐसा कई विदुषी महिलाओं के साथ हुआ है कि शादी के बाद उनकी पति से नहीं पटी उसके बाद वे दोनों अलग हो गए और अपने कैरियर के साथ वे एकाकी जीवन बीताने को मजबूर हैं। दिल्ली और मुंबई सरीखे शहरों में कई कैरियर ओरिएंटेड महिलाएं ऐसी हैं जो एकाकी जीवन बीता रही हैं। 
कई महिलाएं इसको कोई मजबूरी नहीं मानतीं। कई बार हिपोक्रेट मानसिकता का पुरूष अपनी पार्टनर को कैरियर में अपने से ज्यादा सफल नहीं देखना चाहता तो कई बार वह अपनी पत्नी से यही अपेक्षा रखता है कि उसकी पत्नी घर और बच्चों को ज्यादा समय दे, जबकि कैरियर वूमेन के मामले में व्यवहार में इस तरह का संभावना नहीं हैं। ऐसे में महात्वाकांक्षी महिलाओं के लिए एकाकी जीवन कोई आश्चर्यजनक घटना के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। अगर हम प्रचीना भारतीय दर्शन का हवाला भी लें तो यह पता चलता है कि वेदों लिखा है कि पुत्र और पुत्री अगर अतिशय विद्वान हो जाते हैं तो उनके लिए विवाह जैसे बंधनों की कोई आवश्यकता नहीं रह जाती है। ऐसे लोग सारा जीवन अकेले गुजार सकते हैं। जिस तरह राजनीति में अटल बिहारी वाजपेयी, मायावती और कांशीराम जैसे उदाहरण हैं वैसे ही उदाहरण किसी भी सफल पेशे में हो सकते हैं। दरअसल सारी मान्यताओं के ढोने का जिम्मा मध्यम वर्ग के पास ही होता है। विद्वान व्यक्ति के साथ ही दिक्कत होती है कि उसके विचार हर किसी से मेल नहीं खाते इसलिए वह किसी का साथ लंबे समय तक निभा नहीं पाता। उसके लिए समझौता करना मुश्किल होता है। ऐसे में कोई रिश्ता जोड़ने और उसके दुखद अंत होने से अच्छा अकेले जीवन गुजार देना ही है। हम भले ही ऐसी चीजों को समान्यीकृत नहीं कर सकते, यह नहीं कह सकते हैं कि समाज इसी ओर आगे बढ़ रहा है, पर हमे यह स्वीकारना पड़ेगा कि समाज में ऐसा हो रहा है। हमें इस तरह के उदाहरणों को नारी के उभरते स्वाभिमान और उसके मजबूत होते कद के रूप में ही देखना चाहिए किसी नकारात्मक रूप में नहीं।

माधवी रंजना



No comments: