Saturday, 17 January 2009

ओरकुट बनाम लोकप्रियता और प्रतिबंध

दिल्ली के प्रमुख विश्वविद्यालय जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय और दिल्ली विवि ने गूगल के लोकप्रिय साइट ओरकुट पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन यूनिवर्सिटियों में ओरकुट की वेबसाइट चलाने से काफी परेशानी आ रही थी। इससे नेटवर्क से जुड़े सारे कंप्यूटर धीमी गति से चलने लगते थे। ओरकुट कंप्यूटर पर चलने के दौरान ज्यादा स्पेश लेता है। यानी वह कंप्यूटर के रैम में ज्यादा जगह एक्वाएर करता है।

वास्तव में इंटरनेट पर सोशल नेटवर्किंग एक बड़े लोकप्रिय समाधान के रुप में उभर कर आया है। यह एक आभासी दुनिया का सृजन करता है जहां जाकर आप अपने लिए दोस्तों की तलाश कर सकते हैं। किसी जमाने में ऐसे दोस्त ढूंढना दुस्कर कार्य था। लोग पत्रमित्रता किया करते थे। अब दोस्ती करने का इंस्टेट तरीका बनकर उभरा है इंटरनेट। यहां आकर आप अपने विचारों से मिलते जुलते या जाति समाज से जुड़े हुए लोगों का समूह बना सकते हैं। यह पत्रमित्रता की तुलना में ज्यादा फास्ट तरीका है। इसमें आपका दोस्त दुनिया के किसी भी कोने में बैठा हुआ हो सकता है। इंटरनेट पर इस दोस्ती से काफी फायदे हो रहे हैं। कई लोग दोस्ती और बाद में शादी कर रहे हैं तो कई लोग अपने प्रोफेशन के लोगों से दोस्ती करके अपने कैरियर को भी संवार रहे हैं।
इंटरनेट पर ऐसे समूह के रुप में याहू ग्रूप काफी लोकप्रिय है। याहू के इमेल यूजर अपने विचारों से जु़ड़े हुए समूह का निर्माण कर सकते हैं। जैसे लाइब्रेरी साइंस पढ़ने वालों का समूह, पत्रकारों का समूह, किसी खास जाति बिरादरी के लोगों को समूह या फिर किसी खास विचार धारा के लोगों का समूह बनाया जा सकता है। हो सकता है आपकी विचार धारा के लोग दुनिया भर में कुछ सौ ही हों तो भी ऐसे लोग एक खास मंच पर एकत्र हो सकते हैं। आप अपने विचारों से जुड़े हुए समूह को इंटरनेट पर जाकर ढूंढ भी सकते हैं। याहू के ग्रुप के बाद गूगल ने इसी तरह के समूह ओरकुट को कुछ साल पहले ही लांच किया है। यह समूह दुनिया भर में तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। छात्र और शिक्षक भी बड़ी संख्या में इस समूह के सदस्य हैं।
डीयू और जेएनयू में इस समूह के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगने से वहां के छात्रों और शिक्षकों को परेशानी भी है। उनकी सोशल नेटवर्किंग को लगाम लग गई है। कोई भी संस्थान जब अपने सदस्यों को इंटरनेट के उपयोग करने की छूट देता है तो वह टर्मिनल पर कुछ भी करने की इजाजत नहीं दे सकता है। अगर सारे लोगों को ओरकुट खोलने से सिस्टम बाधित होता है तो ऐसे में संस्थान को कोई न कोई एहितयाती कदम तो उठाने ही पड़ेंगें। आजकल कई ऐसी वेबसाइट आ रही हैं जो उपयोग करने के दौरान ज्यादा जगह लेती हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय के कंप्यूटर सेंटर ने कई और वेबसाइटों को भी ब्लाक किया है। इसमें लोकप्रिय साइट यूट्यूब भी शामिल है। यू ट्यूब पर लोग अपने वीडियो जारी कर देते हैं। इन वीडियो को देखने में भी इंटरनेट कनेक्शन के ज्यादा बैंडविड्थ का इस्तेमाल होता है।
जेएनयू प्रशासन के अनुसार ओरकुट के इस्तेमाल से उन लोगों को परेशानी हो रही थी जो अपने शोध प्रबंधों पर काम कर रहे हैं। उनकी स्पीड कम हो जाती थी। हालांकि ओरकुट के इस्तेमाल करने वालों का दावा है कि यह साइट उनके अध्ययन में भी उपयोगी है क्योंकि इससे वे लोग अपने समान विचारधारा और पढ़ाई करने वालों के साथ विचारों का आदान प्रदान करते हैं।
-vidyutp@gmail.com 



No comments: