Saturday, 30 June 2018

GOLGHAR – IT WAS A GODOWN FOR GRAINS

Gol means round so it is GOLGHAR, means round house. It was attraction of my childhood days and also now when I am growing old. Now my child also likes it. Not only people like me but so many persons always been fascinated by this piece of colonial architecture. Golghar built in architectural Style of Buddha Stupa.

It is on of the wonders of Bihar. It is  located to the west of the Gandhi Maidan in Patna. It was built by Captain John Garstin in 1786 to store grains for the British Army. It was served as a storehouse during the times of famines.  it has a storage capacity of nearly 140000 tonnes.  In this Golghar there are no pillars to support the building with a spiral staircase. There are two separate staircase for going up and coming down.

In 1770, a huge famine had killed millions of people and hence the British decided to make a building where they could simply store grains. On 20 jan 1784 construction work was started and it took two years to complete. Since 1999 it was used as stockyard.  Now it serves as a picnic spot.

I remember the year 1979, when I was a student of class third. It was great day for me when I reached on top of Golghar with my father. Again in 2013 It was great day for my son Anadi when he was on the top of Golgahr. You can see backdrop of Golghar in so many Bhojpuri films also. Patna, capital of Bihar has a identity with Golghar.

Some year ago cracks on the internal  walls of Golghar was found.  In 2010, Bihar state archaeological directorate, the custodian of Golghar, had asked the ASI's Patna circle to carry out restoration work on the outer and inner walls of the iconic structure. After this request archaeological survey of India started restoration work of the colossal granary.

Now you can enjoy laser light show in the campus of Golghar. You can see a short audio-visual clip depicting the history of Golghar completed the show package. It is a  half-an-hour show for visitors. It costs Rs 30 only. This is an innovative effort by Bihar State Tourism Development Corporation (BSTDC).


Written on Stone of GOLGHAR
  In part of a general Plan
Ordered by the GOVERNOR GENERAL and Council
20th of January , 1784
For the perputual prevention of Famine
In thefe Provinces
THIS GRANARY
Was erected by CAPTAIN  JOHN GARSTINE Engineer
Completed on the 20th of July , 1786
Firft filled and publickly clofed by.

GOLGHAR  AT A GLANCE

1786 AD year of construction
146 stairs total.
29 meter total hight.
125 meter diameter.
3.6 Meter  thick wall 
1,40,000 tonnes storage
04 entrance gate at the base.

A View of Patna city from the top of GOLGHAR- Photo- VIDYUT


-       vidyutp@gmail.com




Thursday, 28 June 2018

THE OLDEST TEMPLE OF WORLD – MUNDESHWARI, KAIMUR, BIHAR

Do you know about the oldest temple of world? According to historical evidences The Mundeshwari Devi Temple in Kaimur district of Bihar is the oldest.

Temple is located on the Mundeshwari Hills in Kaimur district in the state of Bihar. It is an ancient temple dedicated to the worship of Shakti and Lord Shiva. It is the oldest Hindu temple in Bihar in India and World. It is also told as the 'oldest functional' temple of world. 

The inscription erected by the Archaeological Survey of India (ASI) at the site indicates the dating of the temple to 108 AD. However, there are other researches for the dating stating the Saka era, prior to Gupta dynasty rule (320 AD) in India. According to the Administrator of the Bihar Religious Trust Board dating is 105 AD. The temple is a protected monument under ASI since 1915.

Octagonal Plan of Temple  
The Stone made Mundeshwari temple, built on an octagonal plan which is rare. It is the earliest specimen of the Nagar style of temple architecture in Bihar. There are doors or windows on four sides. You can Also see some small niches for the reception of statues in the remaining four walls of temple.  
The temple shikhara or tower has been destroyed. However, a roof has been built, during renovation work. . A substantial part of this stone structure has been damaged, and many stone fragments are seen strewn around the temple. However, under the jurisdiction of ASI, it has been the subject of archaeological study for quite some time.


The interior walls have niches and bold mouldings which are carved with vase and foliage designs. At the entrance of the temple, the door jambs are seen with carved images of Dwarapalas (Gatekeepers) Ganga, Yamuna and many other statue of  Devis.  The main deities in the sanctum sanctorum of the temple are of the Devi Mundeshwari and Chaturmukh (four faced) Shiva linga. There are also two stone vessels of unusual design..The temple also has murtis of other popular gods such as Ganesha, Surya and Vishnu. Located on Kaimur plateau, there are many archaeological relics on the Mundeshwari Hill. 

Some of statues found from Mundeshwari temple area can be seen in Patna Museum. Daily thousands of visitors come to temple to pray the goddess Mundeshwari. But during navratra you can see huge crowd here.

HOW TO REACH – The Temple located on the Mundeshwari Hill at an elevation of 608 feet (185 m) is in Kaimur district of Bihar. It can be reached by road Sasaram  or Varanasi. The nearest railway station is is Bhabua Road ( Mohania ). From Mohania market the temple is 22 km by road. You can go Bhabua and stay here in any hotel and then plan to Mundeshwari temple. From Mughal Sarai Jn major rail head of Indian railway Bhabua Road railway station is just 54 km. You can get so many trains from Mughal sarai and also from Gaya jn. Distance from Bhabua, headquarter of Kaimur district to Mundeshwari Temple is around 12 km.
-      Vidyut Prakash Maurya



Tuesday, 26 June 2018

THE OLDEST SHIVA TEMPLE OF INDIA

The Lad Khan Temple is one of the oldest temple in India. It is the oldest temple dedicated to Lord Shiva in India. It is one of the temple that have stood in Ahole temple complex Karnatka.  

The Lad Khan Temple was built in the 5th century by the kings of the Chalukya dynasty. It was built around 450 AD. The temple also has other idols like Ganesha, Vishnu, Surya and Mother Goddess. This is small but interesting structure with stone carvings. This is one of the nice temples in Pattadakal temple complex. It is located to the south of the Durga Temple and is considered the oldest temple of Aihole.

About naming LADKHAN
The temple is named after a Muslim prince who turned this temple into his residence. Some british researchers recorded in his gazette that it was lad khans house ( he was staying in this abandoned place) and since then it is called as Lad Khan temple.


Panchayat hall style
It was built in a panchayat hall style and is indicative of early experiments in temple building. The main shrine houses a Shiva Linga with a Nandi. The temple's sloping two-tiered roof, which imitates wooden construction, is furnished with stone "logs" that cover the joints between the roofing slabs.
The temple's design contains other unusual features. The porch fronts a square mandapam. In the center of the mandapam, a Nandi faces the small interior shrine, which abuts the rear wall of the mandapam. Instead of the usual tower, a rooftop shrine is positioned over the center of the mandapam. Visualizing how Deccan architecture evolved 1600 yrs ago and how got influence by architecture styles from other part of India is an amazing experience

HOW TO REACH - This temple is in Ahole, Baglkot district in Karnatka. A village best accessed by own vehicle as public transport is at best infrequent. Aihole is aprox 35 km from Badami and the road condition is good now. You can plan to visit Ahole from Badami. Badami has good hotels to stay.
-         vidyutp@gmail.com
-          







Sunday, 24 June 2018

Have you seen Krishna Butter Ball

Yes it is a wonder of India. It is Krishna butter ball. This ball is 250 ton heavy. It is a gigantic granite boulder resting on a short incline in the historical town of Mahabalipuram in Tamilnadu. It is a popular tourist attraction in the city. It seems that it may roll down on a big push, but no, not at all.

Krishna's Butterball is also known as Vaan Irai Kal and Krishna's Gigantic Butterball. The ball is approximately 6 meters high and 5 meters wide and weighs around 250 tons. It stands on an approximately 1.2-meter (4 ft) base on a slope, and is said to have been at the same place for 1200 years.
According to Hindu mythology, lord Krishna often stole butter from his mother's butter handi; this may have led to the namesake of the boulder. It is told that in 1969, a tour-guide is said to credit its present name, Krishna's Butterball, to Indira Gandhi who was on a tour of the city.

Krishna's Butter Ball has been sitting on a 45-degree slope in south India for over 1300 years. The 20ft rock appears to defy gravity.

Try to Relocate -  In 1908, then-governor of the city Arthur Havelock made an attempt to use seven elephants to move the boulder from its position due to safety concerns, but he not got success. It is said that Pallava king Narasimhavarman too made a failed attempt to move the boulder.

This is an easy walk up and a fun way to enjoy the marvels that make up the ancient architecture of this historic site. It is a remarkably balanced rock. You can go for a little walk around the area, which is pleasant. I do wonder how this rock doesn't move at all and could stand firmly. It is a great place to take creative photographs.

This really is a must to see for the visitors as it is belived to be the giant ball used by Lord Krishna to eat butter.

-         Vidyut P Maurya


Friday, 22 June 2018

POWER OF POSTCARD

In the age of E-mail and mobile communication  I still believe in power of postcard.  Postcard has not lost its importance. It costs 50paise only, cheaper than any other communication system. It reaches anywhere in country. So many villages are still not connected with road and telephone but postman knocks all doors. Just buy a postcard and write something and mail it in Lal dibba. 

Some eminent people still use to write postcard regularly for communication of their friends and followers. So many people are using only mobile and SMS but postcard has its own relevance. If somebody writes a litter in his own hand writing it makes an emotional impact on its reader. This emotional impact you cannot find in SMS of mobile. Indian government just closed 25 paise coin, but do you know a meghdoot postcard  is already available in 25paise only. You cannot send a national SMS in 25 paise but still you can write a post card to your kith and kin’s.

Eminent Gandhian and social worker still use to write more than one dozen postcard daily. He writes his advance plans to his followers. If  he write 100 postcards to his social worker friends in country, more than hundred people comes to attend any program organized by him. It is a call on postcard, it is power of postcard. Gandhi jee use to write postcard. Some political leaders also use to write postcard. I remember former congress MP Balkavi Bairagi still use to write postcard every day.  

It is not just matter of Subbarao and Balkavi Some story writers and poets also using postcard. Sometimes writing on postcard makes history. You can see some important conversation of two prominent  people on postcard. If you are not writing you are already missing it. You are missing your handwriting impact. Somebody loves your writing.  You can still write a letter to editor to a newspaper on post card. 

You can sought for your neighborhood problems on postcard. Even you can write your problems to chief minister or prime minister on postcard. New generation people can forget the power of a postcard, but postcard has its glorious history. Postal department of  India selling postcard on loss, it is just for serve people. Do you know a 50paise postcard costs more than two rupees.  But to serve common man of  India government sells postcard in just 50 paise and 25 paise only. So do write postcard, you may make history.


Email – vidyutp@gmail.com  
(writer is a media person and social activist )

Wednesday, 20 June 2018

TOP TEN PLACES TO SPEND FIVE DAYS

If you have five days for your vacations, where you will go in India. Everybody has thair own choice, you can make your own, but here I have ten best options for you. So read and plan, happy travelling. 




    1 Munnar
Munnar is dream destination for me. Evergreen climate around the year, lush tea gardens. You can find food for all type of taste here. Munnar has already selected as world top 10 best destinations. So must come Munnar. Nearest rail head in Alua (Cochin ) and airport is Cochin. You can find hotel in Munnar starting from 1200 INR per day.

2.     2 Madikeri – 
     Evergreen tourist destination of Karnataka. See here coffee garden. You can plan to spend time in homestay in a coffee garden. Monsoon is magical in Madikeri. See here great water falls, romantic forests.  Try local home made wine and filter coffee. From Bangluru it takes 6 hours to go Madikeri headquarter of Coorg (Kodagu).
  

3.     3 Mysore - 
     South India means Mysore. Only three hour journey from Bangluru. Here you can find best taste of south Indian food and sweets. Famous for palace, gardens, temples, everyone can live here for five or more days. You will go everyday for something new.



     4 Ooty- .
      Great hill station of south India. Popular shooting destination for bollywood movies. Can be reached from Coimbatore. Nice destination for improve your health. You can find here cheaper accommodation also. Must try here home made chocolates and Nilgiri Masala tea. Can be reached by Nilgiri mountain railway from Mattupalium.



5.    5. Kodaikanal - Its name in the Tamil language means The Gift of the Forest. Kodaikanal is a city near Palani in the hills of the Dindigul district in the state of Tamil Nadu, India. Enjoy evening at lake and go for forest tour. Great hill satation of Tamilnadu , can be reached from Dindigul. Nearest rail head Palni is 64 Km.

   6.     Majuli -  MAJULI is a sweet name and sweet place to visit. Do you know every day so many foreign tourist use to visit Majuli. Majuli is a river island in Brahamputra river falls in Assam a north eastern Indian state.  In 2016 Guinness World Record has declared Majuli as the largest river island in the world. Can reached from Jorhat in Assam. Can live in bamboo hut - The best place to stay at Majuli is  La Maison De Ananda.

     7.     Shillong  - Shillong is the capital city of the State as well as the District headquarter of East Khasi Hills District of state Megahlya also known as Scotland of east.  It is connected with all weather road from Guwahati. You can go Cherrapunji and some other places from here.

    8.     Gangtok - Capital of Sikkim Gangtok can visited around the year. Climate is cozy always. Can go anywhere in Sikkim from here. More than 400 hotels are ready to welcome you. Must go Lachung vally. Sikkim is organic state now, good for health. Beauty of MG road is loving. Nearest rail head is NJP or Siliguri and airport is Bagdogra. 

      9.     Darjeeling -     Darjeeling is located in the Lesser Himalayas at an elevation of 6,700 feet, is a town and a municipality in the Indian state of West Bengal. Try to go by toy train from NJP. It will be life time memorable for you. Nearest rail head is NJP or Siliguri and airport is Bagdogra. 



     10.     Khajjiyar      -          Khajjiyar is a village in Himachal Pradesh near to Chamba. Certifed as mini Switzerland. Khajjyar vally looks like heaven on earth. Enjoy here horse riding, music from local folk singers, Punjabi Prathas and other food. Nearest rail head is Pathankot in Punjab and Airport is Amritsar or Chandigarh.



-  Vidyut Prakash Maurya, Email - vidyut@daanapaani.net

Monday, 18 June 2018

SHERSHAH TOMB - OCTAGONAL WONDER

Shershah a afghan ruler of India, has many contributions in Indian history, but his last sleeping place is a must see attraction. Nice example of magnificent architect, Shershah tomb is situated in Sasaram, A district town of Bihar. His  birth name was Farid Khan, also known as Sher Khan because he alone hunted a Lion in his early age in Sherghati, Bihar.
One of the great Muslim rulers of India, Sher Shah Suri was born in 1486 at Sasaram and died May 22, 1545 at Kalinjar. He was One of eight sons of Ḥasan Khan. His father was a horse breeder.  At the Battle of Chausa on June 26, 1539, he defeated the Mughal emperor Humayun and  in May 1540 at Kannauj he again defeated Humayun and became sultan of Delhi. Shershah was Sultan of Delhi from  17 May 1540  to  15 May 1545 and his works are remembered.

Come to the tomb of Shershah. The tomb is a great specimen of the Pathan architecture in India. NDTV tells it is among seven Wonders of India. Sher Shah Suri Tomb surrounded by a beautiful big lake. Its amazing.  This is a red sandstone mausoleum with 122 ft height,  built on a platform surrounded by water. It is octagonal in shape and red stone & bricks are used. It was completed on August 16,1545 AD, three months after the death of Shershah. It combines soberness with elegance. Sher Shah's tomb is a must-visit for anyone interested in architecture, or for that matter, history in general. It is a protected monument by archaeological Survey of India (ASI). The grave of Shershah lies in center of hall.

SHERGARH - You can also visit Shergarh fort, situated 30 km south west from Sasaram town. It is a ruined hill fort built by Shershah.

How  to reach  Sasaram is a railway station on Grand cord line. Shershah tomb is just two kilometer from railway station very near to Grand Trunk road. ( Nation highway no 2) You can get a cycle rickshaw or can walk also.  Any one can get train from any metropolitan cities of India to sasaram. It is just 90 km from Mughalsarai railway junction.  

Opening time -  Everyday, Sunrise to sunset. It is a ticketed monument. You have to pay INR 5 ( for Indian citizens). 
Where to stay - Hotel Rohit International, GT Road, Saasaram.

 - vidyutp@gmail.com

Saturday, 16 June 2018

वह ‘फिर’ कभी लौटकर नहीं आया....

तब उत्तर बिहार और पटना के मध्य स्टीमर चलती थी गंगा में। एक स्टीमर यात्रा के क्रम में पिताजी के एक मित्र मिले। उनके साथ उनकी पुत्री थी श्वेता। ( ऐसा ही कुछ नाम था उसका ) चलिए कैंटीन में चाय पीते हैं...गांव से नया नया आया था मैं..चीनी मिट्टी की प्लेट और प्याली में चाय पीने का अभ्यस्त नहीं था। लिहाजा पहली चुस्की में ही मुंह जल गया। श्वेता मेरी ओर देखकर मुस्कराई। मैं विचलिच हो अपने स्थान से हिला और चाय की बूंदे गिरीं मेरे कपड़ों पर।
आगे बढ़कर उसने मेरे कपड़ों से चाय की बूंदों को साफ करते हुए कहा गर्म चाय ऐसे नहीं पीते। पहले थोड़ी सी चाय प्याली में ढ़लकाते हैं, फिर उसे ठंडा करके पीते हैं। मैं मंत्रमुग्ध सा कभी उसका चेहरा देखता कभी उसका चाय पीना। बहरहाल हमलोग चाय पीते पीते स्टीमर के लाउंज पर आ गए। मैं अचानक बोल उठा- ‘देखो देखो पानी पीछे भाग रहा है।
नहींजहाज आगे जा रहा है।
स्टीमर से पटना उतरने तक हमलोग अच्छे दोस्त बन चुके थे। यह सुखद संयोग ही रहा है कि आगे की रेलयात्रा में भी हमलोग साथ साथ चलने वाले थे। श्वेता अपनी उम्र के अनुसार बहुत तेज तर्रार और चालक थी बार बार मेरी भोली भाली बातों और सहज अज्ञानता पर हंस पड़ती। मेरे समान्य ज्ञान में अभिवृद्धि के प्रयास में लग जाती। उसके खिलखिलाने के साथ उसकी मुखमुद्रा में विराजमान श्वेत, धवल दंत पंक्तियां, विद्युत रश्मि बिखेरते प्रतीत होते। मेरे उपर तो जादू सा होता चला जा रहा था।

रेलगाड़ी में हमने खिड़की के पास आमने सामने की जगह चुनी। रेल की छुक छुक पीछे भागते पेडों के मध्य हमारा परिचय और प्रगाढ़ होता रहा।
कौन से वर्ग में पढते होक्या खाना अच्छा लगता है...क्या तुम्हारे टीचर जी ने कभी तुम्हें मुर्गा बनाया...मुर्गा...हमारे टीचर जी को हमें गधा कहते हैं। पिता जी गुस्से में होते हैं तो बैल तक कह डालते हैं। फिर वह खिलखिलाकर हंस पड़ी। अचानक रेल एक पुल से गुजरी। देखो ये फल्गु नदी है। इसको दशरथ जी का शाप लगा है। साल भर नदी सूखी रहती है। लेकिन इसके अंदर अंदर पानी बहता है। इसको खोदोगे न, तो पानी निकलेगा।

अचानकर अगले स्टेशन पर रेलगाड़ी धीमी होकर रूकती चली गई। गया जंक्शन आ गया था। श्वेता अपने पिताजी के साथ उतर गई। उतरते हुए एक चाकलटे थमा गई। प्यार की मिठास भरी। उसके आखिरी शब्द थे...गुड बाय... फिर मिलेंगे।
परंतु वह ‘फिर’ कभी लौटकर नहीं आया।
-          विद्युत प्रकाश मौर्य ( नवभारत टाइम्स, 20 दिसंबर 1995 )   (SHORT STORY ) 


Thursday, 14 June 2018

आओ बेवकूफी पर दिल खोलकर हंसे..( व्यंग्य )

कई बार बहुत काबिल आदमी भी बेवकूफी कर बैठता है। कभी कभी अपनी बेवकूफी पर हंस लेना बड़ी अच्छी बात होती है। किसी की बेवकूफी का मजाक उड़ाने से अच्छा होता है कि आप बेवकूफी पर बैठकर दिल खोलकर हंस लें और बाद में ऐसी ही बेवकूफी न करने की प्रण करें।

मुझे एक अपनी बेवकूफी याद आती है। एक नौकरी छूट गई थी। बेरोजगारी के दिन थे इसलिए अखबार में हर नौकरी के इस्तहार पर खास तौर पर नजर रहती थी। इसी तरह एक दिन की बात है कि एक अखबार में मेरे विषय में प्रवक्ता के पद के लिए वैकेंसी दिखी। मुझे रेगिस्तान में पानी दिखाई दिया। फटाफट विज्ञापन काटा। लिखा था कालेज के काउंटर से फार्म मिलेगा। मैंने अगले दिन वहां के लिए बस पकड़ी। कई घंटे का सफर और कई बसें बदलने के बाद कालेज के पास पहुंच गया। मैंने काउंटर पर जाकर फार्म की मांग की। कालेज के कर्ल्क ने कहा पार्थी का नाम बताइए। मैंने कहा कि प्राथी आपके सामने खड़ा है और मैंने अपना नाम बता दिया। उसने कहा कि शायद आपको पता नहीं यह कालेज लड़कियों का है। मैंने कहा तो क्या हुआ लड़कियों के कालेज में पुरूष प्रोफेसर भी तो होते हैं। उसने कहा कि लगता है आपने हमारा विज्ञापन ठीक से नहीं पढ़ा। हमने उसमे साफ साफ लिखा हुआ है कि यह पोस्ट लड़कियों के लिए ही आरक्षित है। अब मेरे पास अपनी बेवकूफी पर हंसने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा था। मेरा एक दिन बरबाद हुआ सो अलग। 

मुझे अपनी यह बेवकूफी कई साल बाद कुछ यों याद आई कि पटना की एक सुबह मैं आटो रिक्सा से जा रहा था। एक आदमी मेरे बगल में आकर बैठा। उसके हाथ में एक नौकरी की परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र था। वह 100 किलोमीटर से ज्यादा दूर किसी शहर से चल कर आया था। वह शेखपूरा में किसी दफ्तर का पता पूछ रहा था। मैंने शेखपूरा में अपना घर होने के नाते बताया कि वहां तो इस नाम का कोई दफ्तर ही नहीं है। तब उसके प्रवेश पत्र को मांग कर देखा गया। तब पता चला कि उसका प्रवेश पत्र शेखपूरा जिले में उपस्थित होने के बारे में था। वह शहर पटना से कई घंटे की दूरी पर था। अगर उस व्यक्ति ने घर पर बैठे पत्र की सही ढंग से तस्दीक की होती तो शायद उसे परीक्षा से वंचित नहीं होना पड़ता। मुझे उसकी बेवकूफी पर नसीहत देने की सुझी। फिर मुझे याद आया कि इस तरह की बेवकूफी तो कभी मैं भी कर चुका हूं। लिहाजा मैंने उसे ढाढस बंधाया। कोई बात नहीं अब किसी अगली नौकरी के लिए तैयारी करो।
कई बार बड़े विद्वान लोग भी अपने जीवन में बड़ी बेवकूफी कर देते हैं। पर हमें इन बेवकूफियों से कुछ सीखना चाहिए। कहते हैं कि महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन के पास एक आदमी आया। उसने उन्हे लिफ्ट के फायदे के बारे में बताना आरंभ किया। आइंस्टीन ने सब कुछ सुन कर अपने मकान में लिफ्ट लगाने का आदेश दे किया। बाद में उन्हें अहसास हुआ कि उनका मकान तो सिर्फ एक मंजिल का ही है। इसमें लिफ्ट लगाना तकनीकी तौर पर संभव नहीं है साथ ही इसकी कोई यहां जरूरत भी नहीं है। वास्तव में हमें किसी बेवकूफ या कम बुद्धि के आदमी का भी उसकी बुद्धिमता या ज्ञान का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। लगातार प्रयास से कई बार बेवकूफ आदमी भी कालांतर में विद्वान बन जाता है। कई लोग स्कूल जीवन के तेज छात्र हाई स्कूल पास करके आईआईटी करके मेकेनिक हो जाते हैं वहीं कमजोर विद्यार्थी धीरेधीरे अध्ययन करते करते एक दिन यूनीवर्सिटी में प्रोफेसर बन जाता है।
---- विद्युत प्रकाश vidyutp@gmail.com



Tuesday, 12 June 2018

चली आना तू मॉल में ( व्यंग्य )

महानगरों में धड़ाधड़ शापिंग माल खुलते जा रहे हैं। हो सकता है ये माल लोगों की जेब को थोड़ी राहत दिलाते हों पर ये महानगर के प्रेमी प्रेमिकों के लिए वरदान बन कर उभरे हैं। अब यहां प्रेमी प्रेमिकाओं के मिलने जुलने की पूरी आजादी है।
अब भला दिल्ली की चिलचिलाती गरमी और कड़कड़ती सरदी में पार्क में या बस स्टाप पर मिलना या किसी का इंतजार करना याद करें तो कितना दुखदायक होता था। पर अब कालेज बंक कर दो दिलों को चुपके चुपके मिलना हो तो शापिंग माल बड़ी मुफीद जगह के रुप में उभर कर आई है। शापिंग माल का लान पूर्णतया वातानुकुलित तो होता ही है साथ ही वहां कॉफीआइसक्रीम पॉपकार्न भी मिल जाता है। अगर आप जेब से कड़के हैं तो कोई बात नहीं यूं ही भी वहां कुछ देर विचरण कर सकते हैं।
दिल्ली मुंबई के शापिंग माल आशिक माशूकों से गुलजार दिखते हैं। अब अगर प्रेमिका है तो उसके लिए कुछ न कुछ खरीददारी तो होगी ही। इसलिए शापिंग माल वालों की चांदी है। वे आपको यह सलाह देने की व्यवस्था भी करते हैं कि प्रेमिका के लिए बाजार में लेटेस्ट गिफ्ट क्या आ रहे हैं। अगर आप अपनी डेट के साथ कुछ एकांत भरे पल चाहते हैं तो उसी शापिंग माल में ब्रांडेड रेस्टोरेंट और काफी शाप ने भी अपना डेरा डंडा जमा रखा है। वहां की किसी टेबल पर बैठकर आप अपनी प्रेमिका की आंखों में आंखे डालकर घंटो बैठ सकते हैं। अब गरमी और सरदी से बचाव हो रहा है तो उसकी कोई कीमत भी चुकानी पड़ेगी।
दिल्ली में जब से मेट्रो रेल की शुरुआत हुई है प्यार भरे दिलों को बड़ी राहत हो गई है। पहले बसों में धक्के खाते हुए कालेज तक पहुंचते थे। अब मेट्रो के रेलवे स्टेशन और मेट्रो रेल गाड़ी भी एसी है। वहां का माहौल भी खूबसूरत और रंगीन है। साथ ही जमीन के नीचे भी मोबाइल नेटवर्क भी काम करता है। पुराने जमाने में प्रेमी प्रेमिका गीत गाते थे चली आना तू पान की दुकान में। उसके बाद गीत थोड़ा इंप्रूव हुआ आती है क्या खंडाला। पर अब नया गीत गाते हैं आती है क्या मेट्रो में। मेट्रो का टिकट खरीदो और अपनी प्रेमिका के साथ शीत ताप नियंत्रित वातावरण में गुफ्तगू करते हुए घर को पहुंचो। अगर थोड़ा और वक्त साथ देना है तो मेट्रो के बाहर निकलते ही कई जगह मेट्रो के भवन में ही शापिंग माल और काफी शाप खुल गए हैं। वह भी केएफसी और बरिस्ता जैसे अंतरराष्ट्रीय चेन भी।
सो मेट्रो रेल चलाने वालों का प्रेमी प्रेमिकाओं का शुक्रगुजार होना चाहिए। वरना पुराने लोगों से पूछकर देखो कि वे दिल्ली की गरमी में कैसे प्यार की पींगे बढ़ाते थे। तब बहुत मुश्किल थी अब बहुत आसान है। हां अगर आपको प्यार करना है जेब भरी हुई तो होनी ही चाहिए। खाली जेब वालों के पास प्रेमिकाएं कम ही फटकती हैं। या फिर ऐसी कोई दिलेर प्रेमिका ढूंढो जो आपके उपर ही रुपया खर्च कर सकती हो। कुछ सालों में दिल्ली का माहौल और बदल जाएगा। हर इलाके में एक शापिंग माल होगा और खुल कर मिलने की आजादी होगी। दुनिया के जितने भी बड़े शापिंग माल वाले भारत में आकर अपनी चेन खोलना चाहते हैं सरकार को उन्हें आने की जल्दी से जल्दी छूट प्रदान करनी चाहिए जिससे वे यहां आकर प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए नए इंतजामात कर सकें। इन शापिंग माल में ही कोचिंग सेंटर भी खोल देना चाहिए जहां कुछ नए ढंग के कोर्स चलाए जा सकें।
-- विद्युत प्रकाश मौर्य


Sunday, 10 June 2018

चलों चलें दूर कहीं प्यारके लिए ये जगह ठीक नहीं ( व्यंग्य )

 चलों चलें दूर कहीं प्यारके लिए ये जगह ठीक नहीं। जी हां आखिर कहां जाएं प्रेमी। पार्क में अगर प्रेमी प्रेमिका बैठकर प्यार के दो मीठे बोल बोलते हैं तो पुलिस डंडे बरसाती है। लाइब्रेरी के किताबों के बीच छुप-छुप कर प्यार की बातें करो को लाइब्रेरियन बाहर जाने के कहता है। अब भला सड़क पर बैठकर प्यार की बातें तो की नहीं जा सकती। या कि अपने मम्मी डैडी के पास खुलेआम अपनी प्रेमिका को लेकर भी नहीं जाया जा सकता है। बेचारे मेरठ के प्रेमियों के पास लेदेकर वही एक अच्छा पार्क पर था पर वहां भी पुलिस आ गई रंग में भंग डालने। आपरेशन भी उसने ऐसा चलाया कि बेचारे मजनू की आत्मा भी सुबकती होगी। मजनू तो भले ही असफल प्रेमी रहा हो पर था तो वह बड़ा शरीफ व मजबूर। पुलिस वालों ने तो उसका नाम भी बदनाम करके रख दिया। मेरठ की इस घटना से दुनिया भर के प्यार करने वालों का दिल भर आया है। पाकिस्तान की एक हसीन शायरा ने लिखा है-
जब कोई दर्दे मुहब्बत की सजा पाता चोट उसे लगती हैदिल मेरा भर आता है।
सो मेरठ के प्यार करने वालों निराश न होना। जो पुलिस के डंडे के निशान तुम्हारे पीठ पर पड़े हैं उसका दर्द कश्मीर से कन्याकुमारी तक के प्यार करने वाले दिल महसूस कर रहे हैं। क्या करें प्यार करने वालों का कोई संगठन नहीं है नहीं देश भर में पुलिस के खिलाफ धरना प्रदर्शन जरूर करवाते। अब यश चोपड़ा करन जौहर या महेश भट्ट को इस प्रकरण से प्रेरणा लेकर कोई फिल्म जरूर बनानी चाहिए।
बात यहीं खत्म नहीं होती। सुना है कि दिल्ली के चिड़ियाघर में प्यार भरी मीठी बात करने वालों पर भी प्रशासन की टेढी नजर हैं। उन्हें तंग करन के लिए उनके पीछे हिजड़े छोड़ दिए जाते हैं। जहां आपने प्यार भरी बातें शुरू नहीं कि हिजड़े आ गए रंग में भंग डालने। दिल्ली में छोटे-छोटे अपार्टमेंट में रहने वाले लोगों तो घर में भी प्यार भरी बात करने का मौका नहीं मिलता। यहां तो प्रेमी प्रेमिका क्या पति पत्नी भी प्यार का व्यापार करने के लिए पार्क या चिड़िया घर में आते हैं। अब सार्वजनिक स्थानों पर वेलेंटाइन डे मनाना भी खतरनाक है। हो न हो इसक पीछे कोई विदेशी साजिश नजर आती है। हो सकते है महंगे रेस्टोरेंट की चेन चलाने वालों ने पुलिस प्रशासन को उकसाया हो कि वे प्रेमियों के परेशान करें ताकि प्यार भरे दिल उनके रेस्टोंरेंट में आएं और दिल की बात कहने के साथ बिल भी भरें और जेब भी ढीली करें। इसकी गहराई से जांच कराई जानी चाहिए। बड़े शहरों में खुलने वाले शानदार रेस्टोरेंट प्रेमियों को पूरा एकांत उपलब्ध कराते हैं। पर यहां बैठना बड़ा महंगा पड़ता है। अब भला वे प्रेमी कहां जाएंगे जिनकी जेब तो खाली होगी पर दिल तो प्यार से भरा होगा। किसी शायर ने कहा था - तेरे जितने भी चाहने वाले होंगे। होठों पे हंसी पर पावों में छाले होंगे।
 -विद्युत प्रकाश


Thursday, 7 June 2018

तमाम उम्र कौन साथ देता है.... ( व्यंग्य )

वे लाइफ टाइम आफर लेकर आए हैं यानी जीवन भर साथ निभाने का वादा। हमने तो सुना था कि ...तमाम उम्र कौन साथ देता है थोड़ी दूर साथ चलो...। पर उन्होंने जीवन भर साथ निभाने का वादा किया है तो बड़ी आस जगी है। आजकल की प्रेमिकाएं भी बदलती बयार जैसी हैं। वे तमाम उम्र साथ निभाने का वादा नहीं करती हैं। हां थोड़ी दूर साथ जरूर चलती हैं। जब जेब ठंडी हो जाती है तो साथ छोड़ जाती हैं। पर कई मोबाइल फोन कंपनियां अब लाइफ टाइम आफर लेकर आई हैं। यानी जीवन भर साथ निभाने का वादा। भले ही आपकी जेब में कड़की हो पर आपका मोबाइल चलता रहेगा। भला ये कैसे संभव हैकड़की में तो गर्लफ्रेंड भी साथ छोड़ जाती हैं। पर आपका फोन नहीं बंद होगा। यानी आपकी नाक बची रहेगी। कमसे कम बार बार टीवी पर आने वाला विज्ञापन तो यही कहता है।
नाक बचाए रखना है तो जीवन भर साथ निभाने वाला प्रीपेड कार्ड ले लो। साख भी बची रहेगी और नाक भी। अक्सर ऐसा होता है। कड़की के कारण आप मोबाइल फोन रिचार्ज नहीं करवा पाते हैं और आपको काल करने वाले को संदेश जाता हैदिस फोन इज टेंपरोरली आउट आफ सर्विस...। सचमुच इससे नाक जाने का खतरा रहता है। दोस्त कहते हैंगुरू हाथी तो खरीद लिए हो पर हाथी पालने की ताकत नहीं है। वैसे लोगों के लिए सचुमच लाइफ टाइम आफर वरदान बन कर आया है। यानी अब किसी के भी सामने नाक कटने का कोई संकट नहीं है।
साथ निभाना बीते जमाने की बात हो गई है। दोस्त भी बदल जाते हैं। प्रेमिकाएं बदल जाती हैं। भाई और बच्चे भी जीवन भर साथ नहीं निभाते। कठिन घड़ियों में अक्सर किनारा कर लेते हैं। कहते हैं कि मुंबई की बारिश और दिल्ली की लड़कियों का कोई भरोसा नहीं है। कब साथ छोड़ जाएं...। पर यह बड़ी राहत की बात है कि दिल्ली और मुंबई में आपका मोबाइल हमेशा साथ निभाता रहेगा। यानी आपका सच्चा साथी और सबसे अच्छा दोस्त साबित हो सकता है। अगर उनका वादा सचमुच सही है तो।
वैसे सरकार ने मोबाइल कंपनियों को इस वादे का खुलासा करने को कहा है। क्योंकि सरकार को शक है कि वास्तव में जीवन भर साथ निभाएंगे या नहीं। क्योंकि बिना किराया लिए इनकमिंग काल की सुविधा आखिर वे कब तक देते रहेंगे। पर उन्होंने वादा किया है तो फिलहाल उनपर शक करने का कोई कारण नहीं है। वैसे धोखा देने वाली प्रेमिकाओं और बीच मझधार में साथ छोड़ जाने वाले दोस्तों को इस मामले में कुछ सोचना चाहिए। उन्हें इन मोबाइल कंपनियों से प्रेरणा लेनी चाहिए और एक बार फिर से जीवन भर साथ निभाने का वादा करना चाहिए। हो सकता है लाइफ टाइम से सचमुच कुछ लोगों को प्रेरणा मिले। हो सकता है तलाक की घटनाएं कम हों।
 ---- विद्युत प्रकाश मौर्य


Wednesday, 6 June 2018

आखिर कहां रखें पैसा ( व्यंग्य )

कई लोग परेशान है कि आखिर वे पैसे को कहां रखें। आयकर विभाग की जगह-जगह नजर है। अगर आपने ने फोन का बिल ज्यादा दिया है तब भी इनकम टैक्स वाले पूछेगें। क्रेडिट कार्ड से होटल वाले को भुगतान किया तो इस पर भी सरकार की नजर है। सेठ मक्कीचंद ने अपने घर के रजाई गद्देतकिएसब में नोटों को भर रखा है। कई जगह जमीन में खोदकर भी रुपए छुपा रखे हैं। अब उनकी समझ में नहीं आ रहा है कि रुपए को कहां रखें। छुपाने की जगह नहींखर्च करो तो भी सरकार की दस आंखे पीछा कर रही हैं। अब वह अपनी दिन भर की सारी कमाई गरीबों में जाकर लूटा तो नहीं सकते ना। हां पर्व त्योहारों में थोड़ा बहुत दान दक्षिणा जरूरत दे देते हैं ताकि उनकी समाज में दानवीर के रुप में साख बनी रही। कुछ संस्था वाले आ जाते हैं उन्हें भी डोनेशन दे देते हैं।
अब सेठ मक्कीचंद पर लक्ष्मी जी मेहरबान हैं तो भला इसमें सरकार के सिर में क्यों दर्द होता है। कुछ साल पहले तक सेठ मक्कीचंद जैसे लोगों का काम बड़े आराम से चल रहा था पर अब सरकार चालाक हो गई है। उसने इनकम टैक्स वालों को निदेश दे दिए हैं कि पैसा छुपाने के तमाम नए नए तरीके इजादो हो रहे हैं तो आप भी पैसा उगाहने के नए नए तरीके पर नजर रखो। बैंक एकाउंट पर नजर रखो। क्रेडिट कार्ड एकाउंट पर नजर रखो। फोन के बिल पर नजर रखो। विदेश यात्राक्लबों में खर्चहवाई यात्रा सब पर नजर रखो। कोई ज्यादा रुपए का लेनदेन करता है तो उसका पैन कार्ड मांगो। सेठ मक्कीचंद को लगता है कि यह उनकी आजादी पर हमला। वे कोठे वाली हीरामन बाई पर लाखों लूटा दें। इससे भला इनकम टैक्स वालों को क्या। यह उनका निजी मामला है। पर अब बहुत कम मामले निजी रह गए हैं। पहले सिर्फ महंगे उपहारों पर नजर रहती थी। अब कई और बातों पर नजर रहती है। इनकम टैक्स वाले गाना गा रहे हैंआते जाते हुए सब पे नजर रखता हूं। नाम अब्दुल है मेरा सबकी खबर रखता हूं।
सेठ मक्कीचंद अब पैसा खर्च करने के नए तरीके ढूंढ रहे हैं जिससे वे इनकम टैक्स वालों की नजरों से बच सकें। अगर आपके पास भी कोई सुझाव हो तो उन्हें बताएं। हां पर समाज सेवा का कोई तरीका मत बताइएगा। वे समाजसेवा का कोटा पहले ही पूरा कर चुके हैं। बकौल मक्कीचंद अगर वे अपनी दुकान पर लोगों को समान बेच रहे हैं तो एक तरह से समाजसेवा ही तो कर रहे हैं। हां इस सेवा के बदले वे थोड़ा सा लोगों से शुल्क लेते हैं। वैसे ही जैसे सरकार सर्विस टैक्स लेती है। अब ये सरकार को समझना है चाहिए कि पहले सर्विस टैक्स भी वसूल लेती हैफिर हमारे ऊपर वेल्थ टैक्स भी लगाती है। अब इनकम टैक्सफ्रिंज बेनिफिट टैक्स न जाने किन नए नए नामों से हमारे पीछे पड़ी है।
--
 --- विद्युत प्रकाश मौर्य

Monday, 4 June 2018

सावधान, कोई देख रहा है... ( व्यंग्य )

आप कहीं भी हों हो सकता है कोई छुपा हुआ कैमरा आपका पीछा कर रहा हो। इसलिए तनिक सावधान हो जाइए। ऐसा हर लोकप्रिय आदमी के साथ हो सकता है। अगर आप लोकप्रिय हैं तो आपको इसकी कीमत तो चुकानी ही होगी। आप कहेंगे यह आपकी निजता पर हमला है। भला किसी लोकप्रिय आदमी की निजता क्या होती है। उसका सब कुछ सार्वजनिक होना चाहिए। ये जो पब्लिक है ना सब कुछ जानना चाहती है। अभी तक आप किसी अभिनेत्री या अभिनेता के बारे में पढ़ते आए थे। मसलन वह कौन से नंबर के जूते पहनता है। कौन सी ब्रांड की परफ्यूम लगता है। रात को आठ बजे के बाद वह कौन से रेस्टोरेंट में जाता है। किस हीरोईन के साथ कौन से हीरो का चक्कर चल रहा है। अब किसी दूसरे लोकप्रिय पेश के बारे में भी लोग जानना चाहते हैं। पब्लिक बड़ी खुश है। उसे हर हफ्ते किसी न किसी लोकप्रिय हस्ती की वीडियो सीडी या एमएमएस के बारे में सुनने या देखने को मिल जाता है। अब एक ही तरह की कहानी पर घिसी पिटी फिल्में भी वह भला कब तक देखती रहे। आजकल रियलिटी शो का जमाना है। ऐसे में कुछ लोकप्रिय लोगों को कारनामों की कुछ मिनटों के बारे में सुनने को मिल जाता है तो इसमें बुरा क्या है। जो लोग यह कहते हैं कि स्टिंग आपरेशन बुरा हैवे डरे हुए लोग हैं। चोर की दाढ़ी में तिनका होता है न। वे नहीं चाहते कि उनके काले कारनामों के बारे में लोग जान लें। भला मीडिया वालों का काम ही क्या है। वे तो अंदर की बात ढूंढ कर लोगों को बताएंगे ही। सुना है कि देश का पहला अखबार निकालने वाला जेम्स आगस्टस हिकी अपने बंगाल गजट के पहले पन्ने पर बड़े शान से यह छापता था कि रात को 12 बजे गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स की बीबी मुख्य न्यायधीश की बाहों में झुलती हुई देखी गई। लोग तब भी पढ़ना और सुनना चाहते थे। अब भी चाहते हैं। अब वीडियो का जमाना है तो लोग देखने का सुख भी प्राप्त करना चाहते हैं। गाली देना ही है तो पानी पी-पी कर उन्हें गाली दीजिए जिन वैज्ञानिकों ने मुआ ऐसे कैमरे बना दिए हैं जिसमें पता ही नहीं चलता है कि कैमरा है या शर्ट का बटन। हमारे सांसदों को जब लोगों ने लेन-देन करते हुए देखा तो वे शर्मशार नहीं हुए। उनमें से कई ऐसे थे जो नेशलन न्यूज में नहीं रहते थेइसी बहाने खबरों में आ गए। कहते हैं बदनाम हुए तो क्या नाम न होगा। पब्लिक सब थोड़े दिन में भूल जाती है। फिर से चुनाव लड़कर आ जाएंगे। जैसे नन्हें से बच्चे को खिलौने देकर समझा लेते हैं उसी तरह जनता को भी समझा लेंगे। पर ये लेनदेन का व्यापार तो हमारे जन प्रतिनिधि जारी रखेंगे ही। अब घोड़ा अगर घास से दोस्ती कर लेगा तो खाएगा क्या। हमारे नेता जी गर्व से कहते हैं साधु नहीं हूं। रसीला आदमी हूं ...तो रसीली बातें ही करूंगा। राजनीति को रसीलें लोगों की जरूरत भी है। इसके बिना सब कुछ नीरस सा नहीं हो जाएगा और नीरस इतिहास कभी सच्चा नहीं होता। नेहरू जी के जमाने में ये छोटे कैमरे नहीं थे नहीं तो एडविना की वीसीडी भी जरूर बनी होती। हम किस्से सुनकर ही दिल को तसल्ली दे देते हैं। देखते जाइए अभी देश में कई मोनिका लेविंस्कियां आने वाली हैं।
-- विद्युत प्रकाश मौर्य


Sunday, 3 June 2018

प्रेमी प्रेमिका और मोबाइल ( व्यंग्य )

मोबाइल फोन कंपनियों को सबसे ज्यादा फायदा प्रेमी प्रेमिकाओं से ही हुआ। इससे उनका कारोबार दिन दुगुना और रात चौगुना बढ़ता जा रहा है। हालांकि प्रेमी प्रेमिका मोबाइल सेवा देने वाली कंपनियों को अक्सर धन्यवाद देते हुए देखे जाते हैं कि फोन ने उनका मिलना जुलना सेटिंग गेटिंग और बातें करना आसान कर दिया है। अब रात को रजाई के अंदर घुस कर प्रेमिकाएं अपने प्रेमी से घंटों मोबाइल पर बातें करती रहती हैं और मां बाप को भनक तक नहीं लगती है। अगर बाप मोबाइल खरीदकर बेटी को नहीं दे तो प्रेमी मोबाइल गिफ्ट कर देता है बर्थ डे या वेलेंटाइन डे पर। हालांकि पिताओं को अपनी पुत्री की कुशल क्षेम की चिंता लगी रहती है इसलिए वे बेटी को मोबाइल देकर कालेज या बाजार भेजते हैं। पर यह मोबाइल मां बाप से ज्यादा मुए आशिक के काम आता है। वह पूछता है जानेमन तुम कहा हों। वह बोलती है इडीएम माल में घर के लिए शापिंग कर रही हूं। बस प्रेमी फटाक से बाइक का एक्सलरेटर घुमाता है और पहुंच जाते हैं दोनो माल में। माल में अब रेस्टोरेंट और काफी शाप भी खुलने लगे हैं। बस बैठकर घंटों गप्पे लड़ाते रहो। बाप का फोन आता है तो बेटी बोलती है बस पापा पैकिंग करवा रही हूं। प्रेमी प्रेमिका समझते हैं कि अंबानी या मित्तल ने उन्हें बहुत अच्छा खिलौना दे दिया है। पर वास्तव में मोबाइल सेवा प्रदान करने वाले अंबानीमित्तलटाटाओं का इन प्रेमी प्रेमिकाओं का की शुक्रगुजार होना चाहिए जो मोबाइल पर बातें करके उनका लंबा चौड़ा बिल बनाते हैं। फिर दिलेर बाप उनका बिल भरता है। बाप पूछता बेटी मोबाइल का बिल इस महीने कुछ ज्यादा आया तो बेटी कहती है पापा सहेली से होमवर्क की बातें ज्यादा करनी पड़ी। अगर मोबाइल प्रीपेड है तो उसे रिचार्ज करवाने का जिम्मा पालतू प्रेमी पर होता है। प्रेमिका कहीं उसके हाथ से छटकर कर किसी और की न हो जाए इसलिए प्रेमी अपनी प्रेमिकाओं का मोबइल नियमित चार्ज करवाते रहते हैं।
किसी जमाने में फोन को जरूरी बातें करने के लिए समझा जाता थाइसलिए फोन के पास लिखा रहता था बी ब्रीफ आन फोन यानी फोन पर संक्षेप में बातों को करके निपटाएं। अब स्थित उलट हो गई है। अब फोन ज्यादा से ज्यादा और गैर जरूरी बातें करने के लिए है। सभी कंपनियां चाहती हैं कि आप ज्यादा से ज्यादा बातें करें। जितनी ज्यादा बातें करेंगे उतना ही ज्यादा बिल बनेगा और उतनी ही ज्यादा कमाई हो सकेगी।
इसलिए कंपनी अब लोगों को तरह तरह से उकसाने में लगी रहती हैं कि आप फोन पर ज्यादा और लंबी बातें करों। चिदंबरम साहब धीरे धीरे सर्विस टैक्स भी बढ़ाते जा रहे हैं ताकि सरकार की भी जेब भरती रहे। मोबाइल कंपनियों को सबसे ज्यादा फायदा प्रेमी प्रेमिका टाइप के लोग ही पहुंचा रहे हैं क्योंकि सबसे ज्यादा लंबी लंबी वार्ता वही लोग करते हैं। बाकी लोगों पास तो फोन पर आधा घंटा से लेकर एक घंटातक बातें करने का कोई एजेंडा नहीं होता कोई इश्यू नहीं होता। पर प्रेमी प्रेमिका की वार्ता किसी बेजान से इश्यू में भी जान फूंक देती है और मोबाइल कंपनी का मीटर घंटों तक चलता रहता है। पहले कई पिताओं को अपनी बेटी की वार्ता के कारण अपना लैंडलाइन फोन कटवाना पड़ता था। अब वह टेंशन भी खत्म है। कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका को जितना ज्यादा प्यार करता है उतना ही छोटा मोबाइल प्रेजेंट करता है जो आसानी से वेनिटी केस या पर्स में छुप जाता है। मां बाप को तो पता भी नहीं होता कि उनकी बेटी के पास कोई मोबाइल फोन भी है। जो लड़कियां एक साथ तीन लड़को को लिफ्ट देती हैं वे तीन अलग अलग मोबाइल फोन रखती हैं। अलग अलग समय में तीन प्रेमियों को एक साथ भी उल्लू बनाती हैं। पर जवानी में उल्लू बनने के भी अपने मजे हैं।
-- विद्युत प्रकाश vidyutp@gmail.com