Sunday, 31 December 2017

Patiala State Mono Rail - A LANDMARK Network in Railway History

By – Vidyut P Maurya  ( IHC Member 18959A )
Mumbai got a mono rail system in 2012 but history of  mono rail in India is very old. First mono rail in India is introduced by Tata group in its tea estate in Munnar, Kerala in 1902. In 1908 it is converted into light railway. The biggest and successful mono rail sytem  in India was built by Maharaja of Patiala in Punjab. Patiala State Monorail Trainways (PSMT)  served successfully people of Punjab for two decades. 
Patiala State Monorail Trainways (PSMT)  was a unique rail system, partially road-borne railways system running in Patiala in the State of Punjab. The PSMT served people of Punjab from 1907 to 1927. PSMT was the only operational locomotive-hauled railway system built using the Ewing System. But before going on PSMT we must know about one more mono rail system running in India. It was Kundala valley Mono rail in Munnar, Kerala.
WHAT IS MONO RAIL
A monorail is much different from traditional rail system. Mono rail is a railway system in which the track that consists of a single rail. Mono rail has a rich and long history. The first passenger carrying monorail celebrated a grand opening June 25th, 1825 in England. It was  Cheshunt Railway, in the town of Cheshunt in Hertfordshire, England.  It was pulled by a one-horse power locomotive.
Ivan Elmanov was the first to invent monorail in 1820 in Russia. But in his idea carriages were to be drawn by horses and its wheels were on the rail not on the carriages. Henry Palmer in the UK patented his idea in 1821 and Deptford Dockyard in South-East London was the place where the first monorail was built. 

KUNDALA VALLEY MONO RAIL ( 1902 – 1908 )
The Kundala Valley Railway, set up by the Kannan Devan Company for the transportation of tea in Munnar region of Kerala.
Kundala Valley Railway was built in 1902 and operated between Munnar and Top Station of Madupatty. This railway was built to transport tea. It was built along the road leading from Munnar to Top Station for the purpose of transporting tea and other products. This monorail was based on  Ewing System.
THE BEGINNING OF PSMT  
Tata Tea became a big tea producing company By 1902, with around 16 fully equipped factories. A major chunk of the produce was exported to UK via the Tuticorin port of Tamilnadu. For Quicker modes of transportation Mr. W. Mime, then general manager of the company set up a mono rail system connecting Munnar and Top Station. Five-hundred bullocks were brought to the hill station for pulling the mono rail. A veterinary surgeon and two assistants from England were also assigned with the task of attending to the animals. 
The goods carriage consisted of a simple platform running on a small wheel over the rail and a larger one pulled by bullocks. From Top Station, where the mono rail ends, tea was carried on ropeway to Kottagudi, which is also called the Bottom Station.  From Bottom Station it was transported to the lower country and then to Tuticorin. The containers used for packing were ‘Imperial Chests’ imported from the UK.  In 1908, the monorail gave way to a light railway. Starting from the Munnar station, the service had two stations en route, at Mattupetty and Palaar, before ending the journey at Top Station.     

MUMBAI MONO RAIL  (2012 )
In fact Mumbai mono rail is third project in India of its kind. The first Monorail test run was conducted from Wadala Depot to Bhakti Park on February 18, 2012. The decision to introduce Chembur – Wadala – Sant Gadge Maharaj Chowk - 20 Km long Monorail corridor, as a feeder service to the other Transit System and to cater crowded and narrow congested areas was taken by the Authority in its 119th meeting held on 28th September, 2007.

PSMT,  THE BEGINNING
The Patiala state mono rail came into existence due to the efforts of Maharaja Bhupinder Singh of Patiala. It was envisioned to provide a system of efficient transportation for goods and people in the state. The Imperial Gazetteer of India published in 1908 tells, the Monorail was inaugurated in February, 1907 and connected Basi with Sirhind Railway Station. If one goes back down the memory lane, one is reminded of the unique and historical Monorail in Patiala that was initiated by the British.

Maharaja Sir Bhupinder Singh – Man behind the dream
Maharaja Sir Bhupinder Singh of Patiala got this unique railway system constructed to facilitate movement of people and goods in his state. Maharaja Sir Bhupinder Singh born in 1891 was the ruling Maharaja of the princely state of Patiala ruled between1900 to 1938. Bhupinder Singh succeeded as maharaja of Patiala state at tender age of only nine. From childhood he has keen interest in transport system, not only rail and roads but air also. Maharaja Bhupinder was the first king in India to own an aircraft, which he bought from the United Kingdom in the first decade of the twentieth century. He also has fleet of 20 Rolls Royce cars. He also worked to build a unique monorail system in Patiala.

ROUTES OF PSMT
The total distance covered by Patiala state monorail  (PSMT) was 50 miles (80 km). In fact PSMT was running on two different lines. The main line ran 35 miles (56 km) from Patiala to Sunam. Now Sunam is a city and a municipality in Sangrur district in the Indian state of Punjab, but Sunam was one of the important town of Patiala estates. The line of mono rail was going from heart of Patiala to Sunam via Bhawanigarh. Now Sunam is a railway station on Dhuri to Jakhal line. Patiala is also on railway network but there is no rail link between Patiala and Sunam.
The other rail line was 15 miles (24 km)  from Sirhind to Morinda in Punjab state. It was proposed to extend this line to Ropar (Now Roopnagar) but since Ropar was connected by a railway line, so this idea was abandoned.

 CONSTRUCTION OF PSMT
The lines of Patiala state monorail (PSMT) were constructed by the firm of Marsland and Price, a Mumbai based British company. The chief engineer of this project was Colonel C. W. Bowles. But unfortunately, today no trace of the tracks or any infrastructure of PSMT remains. However, information about the route was found in a letter by Colonel Bowles to Mr. Ambler. The track was 18 pound per yard (9 kg/m) rail clipped to iron sleepers.
Colonel Bowles described the route of Patiala-Sunam line as starting from goods yard of North Western Railway (NWR) at Patiala. The PSMT then crossed the main railway line at a road level crossing nearby. It then went through walled city towards City Mandi and then took a turn north towards cantonment. Then it traveled along the main road to Bhawanigarh and then Sunam.
Colonel Bowles has earlier successfully used monorail based on Ewing System (designed by William Thorold) during his stint as engineer during laying of tracks for Bengal Nagpur Railway for transportation of construction materials. Maharaja Sir Bhupinder Singh made him chief Engineer for the PSMT project.
At some point during this contract, he met Sir Bhupinder Singh, the Maharajah of Patiala. This meeting eventually led to Bowles being appointed the State Engineer for Patiala.
The whole line cost Rs70,000. The line was shown on a 1913 map running on the west side of the road. Ambler states that papers supplied by Bowles's widow said that in one month (September 1908) that 20,000 passengers had been carried.
HAULED BY MULES
It was very interesting to know that rail network was hauled by mules and bullocks. One of the objects of PSMT was to make use of the 560 mules being maintained by Patiala State. Apart from mules, bullocks were also used to haul the monorail before introduction of steam engine on route of PSMT.

It appears from the evidence that a major reason behind the building of a monorail system in the state was as something useful for the mules maintained by the state on behalf of the Imperial Service Regiment. The animals (300 according to Day and 560 according to Ambler) and their drivers were kept on standby in case the British needed them. The Maharajah obviously thought that it was better to keep them employed rather than idle.

STEAM LOCOMOTIVES
PSMT initially used mules to pull the train. Later four steam locomotives were acquired for pulling the coaches. It is not known whether the engines were used on both lines or only on Patiala Sunam line. These four locomotives were of 0-3-0 configuration and was built by Orenstein & Koppel (O&K) of Berlin in 1907. It was bought at cost of £500 to £600 each.
Donald W. Dickens, in his article on the PSMT, described the locomotives as “These were an adaptation of the normal O&K 0-6-0′s but had a double flanged driver in the centre of each axle rather than drivers at each end. The right-hand water tank was larger so that some of the weight shifted onto the 39-inch (990 mm) diameter balance wheel which was attached beyond the enlarged water tank. These locos were confined to the Patiala – Sunam line.
The wheel arrangement of these locomotives are 0-3-0. The middle flange less wheel was of 50 centimetres (1 ft 8 in) diameter. Other two wheels were double flanged having groove depth of 2.15 centimetres (0.85 in). The locomotive had wheelbase of 119 centimetres (3 ft 11 in).
The steam engine was probably used only on Patiala Sunam Line. In his letter to H. R. Ambler, Col. Bowles wrote that the engines were heavy for 18 lb/yd rail (9 kg/m), thus they were not used on Sirhind – Morinda line. Col. Bowles categorically stated that the steam engine did run between Patiala Station and City Mandi. A distance of about one mile. Heavier rails (about 60 pounds per yard or 30 kg/m) of almost same length was found stored in PSMT Yard along with other dismantled equipments. Thus in all probabilities, the steam engine was used in hauling carriage only between Patiala Station and City Mandi.

ROLLING STOCK OF PSMT
 Wagons were normally 8 feet long by 6 feet wide (2.4 by 1.8 m), with two 8-inch (200 mm) diameter rail wheels. The coaches were supported by a road wheel of 98 cm diameter, set at 7 feet (2.1 m) from the rail. The passenger coaches on the Sirhind Line were open-sided wagons with knifeboard seating.   In 1908 there was a total of 75 goods wagons and 15 passenger coaches.   Col. Bowles writes there were a few 30-foot (9.1 m) long goods wagons, having two road wheels. Some of these wagons were also converted for use as passenger coaches by having transverse benches fitted in them.

MAXIMUM SPEED 30KMPH
The line had four passenger vehicles that could carry 18 to 20 people each and 30 goods wagons that could carry 82 maunds each. The average speed on the line was 13 kmph. One test using four artillery horses found that train ran smoothly at nearly 32 KMPH.
UNIQUE EWING SYSTEM FOR MONORAIL
The railways based on the Ewing System are basically monorails using a balancing wheel for balancing the train. The main load (almost 95%) is borne by the single rail while the rest is borne by the balancing wheel which runs on the ground. Further, in normal train systems, the rails have to be at almost exact level of other rail, failing which the train may go off the tracks. By using Ewing system, this problem is solved as the balancing wheel does not need exact level to maintain the balance of monorail. In addition the cost of laying tracks also goes down considerably since only one rail is used. Another benefit of using Ewing System was that the balancing wheel could run on existing tarred,  thus further reducing cost to lay down tracks.
Using one rail also means that the turning circle is far less than the standard trains. PSMT had to pass through some very congested areas. Since the space need to lay the tracks was less and balancing wheel could run on existing roads, PSMT succeeded in running through the congested urban areas of Patiala. The balancing wheel of PSMT ran on the roads and did not interfere with normal traffic.

FARE  AND FREIGHT OF PSMT
PSMT is found in papers of Colonel Bowles. According to a memorandum dated October 2, 1908, found amongst Colonel Bowles papers, PSMT carried 20,000 passengers in a month on Sirhand – Morinda line. There are no details of the quantity of goods carried.
The fare for passengers in the route PSMT was one and a half annas. The charges for transportation of goods on PSMT network was one anna for per 80 kilograms. The route of the PSMT passed through one of the major agricultural areas of Punjab; the area around Patiala was known as the “wheat basket”. The old photographs of the PSMT show it carrying sacks of grain as well as people. Thus, the PSMT was used for both purposes.

THE DECLINE OF PSMT

Though the Patiala State Monorail Tramways was a unique initiative, it did not continue for a long period of time. Continuous development in infrastructure and automobiles drew people towards cars and other modes of transport and slowly the PSMT became defunct. Finally, the PSMT was close in 1927 as it had lost its popularity amongst the citizens. Ultimately PSMT was closed on 1 October 1927. PSMT's equipment was simply walked away from.
For 35 years it rested where it was left. It was searched by Mr. Mike Satow, a historian and great rail lover, who discovered the remains in 1962, He came Patiyala and worked for a forgotten part of Indian rail history. it would have disappeared from memory by now if he was not written about PSMT. Largely due to him one locomotive of PSMT was restored to full working order by the Northern Railway Workshops at Amritsar.



PSMT IN NATIONAL RAIL MUSEUM, NEW DELHI
A Locomotive and a coach of PSMT have been restored, are in running condition and are exhibited in the Indian National Rail Museum.This locomotive is also filmed in famous Hindi movie THE BURNIG TRAIN on year 1980. Today, its one of the major attractions in the National Rail Museum and runs on every Sunday for the public. One can enjoy a ride in the historical Monorail by booking tickets in advance for the Sunday rides. The PSMT passed into oblivion at one point of time and not a great deal of effort was put to learn about its whereabouts. But credit goes to Mike Stoew who got t back from the claws of oblivion and the abandoned PSMT was restored.      
It was efforts of Mike Satow and others, One PSMT locomotive (Number PSMT – 4) was restored along with Chief Engineer's private inspection car (this coach was rebuilt on original frame as a normal passenger coach). Both of these are on display at the  National Railway Museum, Chankyapuri, New Delhi.


CONCLUSION
Mono rail became more popular from the 1980s, with a rise in urbanization and traffic. Japan, one of the earliest users of monor ail has one of the busiest mono rails. In India Mumbai adopted mono rail system in 2012  for  city transport needs. But PSMT could have been a good example of forerunner of mass transit system in urban areas in India. The rail network served people of Punjab successfully for two decades. Its model still holds good for introducing mass transit system in congested urban areas where laying of train or tram tracks is not possible due to insufficient space.
---------------------
Total Network – 80 Km
No of Lines – 02
Year of Start – 1908
Year of Closing - 1927

REFRENCE
  1. Website - https://mmrda.maharashtra.gov.in/mumbai-monorail-project
  2.  Website - http://www.keralatourism.org/munnar/kundala-valley-railway-munnar.php
3      Book, Unusual railways by Mr. J. R. Day and Mr. B. G. Wilson, 1957
4      Book-  Railways of the Raj; Author Mike Satow; Page 30
5      Book - The Patiala State Monorail Tramway - A Reappraisal by Simon Darvill, 2012
6      Book - Railway World magazine, Feb, 1962
7      Book - The Imperial Gazetteer of India ( published in 1908 )
8       Website - http://www.monorails.org/
9      Book- Monorail Musings: Writings from the Highway in the Sky- By Martin Beaudry
12    Book – MAHARAJA – Jarmani Das
Author  – Vidyut Prakash Maurya
M.A (History) BHU 1995: MA Mass Communication (GJU,Hisar), UGC NET Quilified.
Email- vidyutp@gmail.com   
(Paper presented in 78th INDIAN HISTORY CONGRESS held on 28-30 Dec 2017 at Jadavpur University, KOLKATA in Modern India Section )

Tuesday, 5 December 2017

शशि कपूर - बागों में जब जब फूल खिलेंगे....

04 दिसंबर 2017 को शशि कपूर नहीं रहे। 79 साल की 
उम्र में उन्होने अंतिम सांस ली.


श्रीनगर के डल झील में शिकारा चलाते हुए ...वे गीत गातें ..बागों में जब जब फूल खिलेंगे तब तब हरजाई मिलेंगे... कपूर खानदान में शशि कपूर वास्तव में सदाबहार अभिनेता हैं जिन्होंने न सिर्फ रोमांटिक बल्कि गंभीर अभिनय में भी अपना लोहा मनवाया। कुछ लोगों को अगर उनकी शान और सुहाग जैसी फिल्में याद हों तो जरा उत्सव और नई दिल्ली टाइम्स जैसी फिल्मों को भी याद किजिए। 

18 मार्च 2015 को अपना 77वां जन्मदिन मनाने वाले शशि कपूर के घर में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के तौर पर एक बार फिर बड़ी खुशी आई। उन्हें 2014 के लिए ये सम्मान दिए जाने का ऐलान किया गया। हालांकि उम्र के इस पड़ाव में आकर वे काफी अस्वस्थ हो गए हैं। चलने फिरने में दिक्कत है। पर शशि कपूर ने हिंदी सिनेमा को कई बेहतरीन फिल्में दी हैं। खास तौर पर वे रुमानी फिल्मों में अपने सदाबहार अभिनय के लिए जाने जाते हैं। अमिताभ बच्चन के साथ आई फिल्म दीवारमें उनका डायलॉग  मेरे पास मां है’  हिंदी सिनेमा का कभी न भुलाया जाने वाला संवाद बन गया। कपूर खानदान में इससे पहले उनके पिता पृथ्वीराज कपूर को 1971 में और राज कपूर को 1987 में यह बड़ा पुरस्कार मिल चुका है।

शशि कपूर - जीवन का सफर 

18 मार्च 1938 को कोलकाता में जन्म। असली नाम बलबीर राज कपूर। भाई - शम्मी कपूर और राज कपूर।

1950 में गोडफ्रे कैंडल के थियेटर समूह शेक्सपीयराना में शामिल हुए। इससे पहले पृथ्वी थियेटर्स में भी अभिनय किया।

1951 में आवारा में बाल कलाकार के तौर पर राजकपूर के बचपन की भूमिका निभाई।

1958 में मात्र 20 साल की उम्र में गोडफ्रे की बेटी जेनिफर कैंडल से विवाह किया।

1984 में पत्नी जेनिफर की मृत्यु के बाद शशि कपूर भावनात्मक तौर पर टूट गए। कुणाल कपूर, करण कपूर शशि के बेटे और संजना कपूर बेटी हैं।

116 हिंदी फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं शशि कपूर जिनमें 61 फिल्मों में एकल हीरो के तौर पर आए। 

शशि कपूर की कुछ यादगार भूमिकाएं 
मेरे पास मां है.. फिल्म दीवार में शशि कपूर निरुपा राय और अमिताभ बच्चन। 


1961 में सांप्रदायिक दंगों पर आधारित धर्मपुत्रमें मुख्य भूमिका निभाई।

1965 में आई जब जब फूल खिलेउनकी लोकप्रिय रोमांटिक फिल्म थी जिसमें वे कश्मीरी शिकारा वाले की भूमिका में थे

1975 में दीवारमें अमिताभ बच्चन के साथ दमदार अभिनय किया

1984 में आई फिल्म उत्सवमें उन्होंने खलनायक भूमिका निभाई

1998 में आई फिल्म जिन्नाउनकी आखिरी फिल्म थी जिसमें वे नजर आए।


शशि ब्रिटिश और हॉलीवुड फिल्मों में

1963 में हाउसहोल्डरनामक अंग्रेजी फिल्म में हीरो के तौर पर आए।
1965 में अंग्रेजी फिल्म शेक्सपीयरवालामें मुख्य भूमिका निभाई
1982 में अपनी पत्नी जेनिफर के साथ अंग्रेजी फिल्म हिट एंड डस्टकी। इसके अलावा बांबे टाकीज (1971), सेमी एंड रोजी गेट लेड (1987), द डेसीवर्स (1988), साइट स्ट्रीट्स (1998) जैसी विदेशी फिल्मों में काम किया।

बेस्ट एक्टर अवार्ड

1985 में आई पीके प्रोडक्शन की फिल्म न्यू दिल्ली टाइम्सके लिए बेस्ट एक्टर का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इस फिल्म में वे एक पत्रकार की भूमिका में थे।

1994 में आई फिल्म मुहाफिजमें अभिनय के लिए नेशनल जूरी अवार्ड मिला।

फिल्म सिलसिला  के दृश्य में अमिताभ बच्चन और  शशि कपूर
प्रमुख हिंदी फिल्में : वक्त (1965) जानवर और इंसान (1972) आ गले लग जा (1973), कभी कभी (1976) सिलसिला (1981), बसेरा (1981), पिघलता आसमान (1985) दूसरा आदमी (1977) रोटी कपड़ा और मकान (1978)

अपनी प्रोडक्शन कंपनी
1978 में अपनी फिल्म प्रोडक्शन कंपनी फिल्म वाला शुरू की। इस बैनर तले जुनून, कलयुग, 36 चौरंगी लेन, विजेता और उत्सव जैसी उल्लेखनीय फिल्में बनाईं।

दादा साहेब फाल्के पुरस्कार
1969 में दादा साहेब फाल्के की जन्म शताब्दी वर्ष के मौके पर भारतीय सिनेमा में उल्लेखनीय योगदान के लिए पुरस्कार की शुरुआत की गई। पहला सम्मान अभिनेत्री देविका रानी को मिला।

46 सिनेमा हस्तियों को इस सम्मान से नवाजा जा चुका है अब तक।

2013 का दादा साहेब फाल्के पुरस्कार निर्देशक गुलजार को मिला।

2012 में यह सम्मान अभिनेता प्राण को मिला था।

भारतीय सिनेमा के पितामह : दादा साहेब फाल्के
भारतीय सिनेमा के पितामह कहे जाने वाले धुंधीराज फाल्के का जन्म नासिक के पास त्रयंबकेश्वर में 1870 में हुआ था। फोटोग्राफर के तौर पर अपना कैरियर शुरू करने वाले फाल्के ने 1909 में जर्मनी जाकर सिनेमा का इल्म सीखा। फाल्के ने पहली हिन्दी फिल्म राजा हरिश्चंद्र बनाई जिसका पहला प्रदर्शन 1913 में मुंबई में हुआ था।



Friday, 10 November 2017

क्या भारत में समाचार पत्रों का भविष्य खतरे में है...

प्रस्तावना - पिछले कुछ सालों से दुनिया भर में अलग अलग मंचों से ये चिंता उठ रही है कि समाचार पत्रों का भविष्य खतरे में है। क्या सचमुच एक दिन अखबार खत्म हो जाएंगे। ये खतरा खास तौर पर बदलती तकनीक से है। भय है कि ट्विटर और फेसबुक पर पल पल अपडेट होती खबरेंवेबसाइटों पर लगातार बरस रही ताजा खबरें अखबारों को पूरी तरह बासी कर देंगी। साल 2016 के फरवरी में ब्रिटेन के प्रसिद्ध अखबार इंडिपेंटेंडट ने अपना प्रिंट संस्करण बंद कर दिया तब दुनिया भर के मीडिया कर्मियों के बीच ये चिंता खास तौर पर बढ़ी की आने वाले दौर में दूसरे देशों में भी ऐसे ही हालात देखने को मिल सकते हैं।
ये डर पत्रकारोंमीडिया घरानों से लेकर लगातार मीडिया पर पैनी नजर रखने वाले लोगों में है। पर क्या सचमुच अखबार खतरे में हैं। कई और खतरे की बात की जा रही है। क्या प्रिंट मीडिया में काम करने वाले पत्रकारों की नौकरी खत्म हो जाएगी। पर इन सवालों का उत्तर इतना नकारात्मक नहीं है जितना की डर बताया जा रहा है।
विकसित देशों के अखबार खतरे में
दुनिया के कई देशों में वेब मीडिया, मोबाइल प्लेटफार्म पर इंटरनेट की उपलब्धता के बाद समाचार पत्रों यानी मुद्रित माध्यम पर खतरे की बात की जा रही है तो भारत में भी इस पर चर्चा लाजिमी है। फरवरी 2016 में ब्रिटेन के अखबार इंडिपेंडेंट के प्रबंधन ने ऐलान कर दिया कि मार्च 2016 के बाद उसके अखबार के प्रिंट एडिशन बंद हो जाएंगे। अखबार अब सिर्फ ऑनलाइन ही प्रकाशित हुआ करेगा। 26 मार्च 2016 को अखबार का आखिरी मुद्रित संस्करण लोगों के हाथ में आया। इसके साथ ही 150 से ज्यादा समाचार पत्र कर्मियों को अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा।
इंडिपेंडेंट अखबार का आखिरी संस्करण। 
इससे पहले हार्वाड पोलिटिक्स में छह दिसंबर 2014 को प्रकाशित एक आलेख में कहा गया कि ये न्यूज इंडस्ट्री खराब दशक से गुजर रही है। दुनिया के विकसित देशों में प्रिंट मीडिया के पाठक लगातार कम हो रहे हैं। कई जगह अखबारों के संस्करण बंद हो रहे हैं। इस चुनौती का सामना करने के लिए ज्यादातर अखबार अपने अंदर बदलाव ला रहे हैं। पाठकों की रुचि बनाए रखने के लिए खबरों का आकार छोटा किया जा रहा है। लोगों प्रतिक्रियाएं जोड़ी जा रही हैं। साथ ही सोशल मीडिया को अखबारों में जगह दी जा रही है।
क्या वाकई हम सब कुछ 140 अक्षर या इससे कम में कह देने के दौर में आ गए हैं और समाचार और विचार का पेश करने के स्वर्णिम दौर का समापन की ओर है। पर यह एक सही मूल्यांकन नहीं होगा। अखबार को तकनीक से चुनौती मिल रही है। यह एक संक्रमण का दौर जरूर है। पर आखिर कौन सा दौर संक्रमण का नहीं था। हर दौर में कुछ बदलाव परिलक्षित होते हैं। इस बदलाव के दौर में ही नए तरीके अपनाकर पाठकों को खुद से जोड़े रखना अखबारों के सामने चुनौती जरूर है।
अखबारों ने अपना रंग रुप बदला - कांपैक्ट अखबारों का दौर
कई विदेशी अखबारों ने गिरते सरकुलेशन से मुकाबला करने के लिए अखबारों के आकार को थोड़ा छोटा किया। नये आकार के अखबार के आकार को कांपैक्ट नाम दिया गया। गंभीर अखबार जो पहले बड़े आकार में निकलते थेउन्हें ही छोटे आकार में निकाल कर कांपैक्ट पेपर कहा गया जिन बड़े अखबारों का सरकुलेशन गिर रहा थानई पीढ़ी के पाठक नहीं मिल रहे थेअचानक कांपैक्ट बनते ही उनकी स्थिति बदल गई। प्रसार संख्या बढ़ने लगी नए पाठक (जो टीवी-इंटरनेट की दुनिया से जुड़ रहे थे) इन कांपैक्ट अखबारों से जुड़ने लगे इन कांपैक्ट अखबारों में डिजाइनिंग और विजुअल पार्ट के महत्व को काफी रेखांकित किया गया।
विकसित देशों में अखबारों का राजस्व घटा
चूंकि अखबारों की आमदनी विज्ञापन और बिक्री से आती है। साल 2013 में अखबारों की आय में 2.6 फीसदी की कमी दर्ज की गई। इसका परिणाम हुआ कि द न्यू यार्क टाइम्सद वाल स्ट्रीट जरनल यूएसए टूडे जैसे अखबारों ने उस साल घाटा उठाया। इन समाचार पत्रों ने अपने न्यूज रूम में नौकरियां कम कीं। कई ऊंचे वेतन पाने वाले पत्रकारों की भी नौकरियां चली गईं। हालांकि इसके ठीक पहले साल 2006 से 2012 के बीच अमेरिका में ही देखें तो वर्किंग जर्नलिस्टों की संख्या में 17 हजार का इजाफा हुआ। मतलब नौकरियां बढ़ रही थीं। पर 2013 के बाद प्रिंट मीडिया के राजस्व में विकसित देशों में कमी दर्ज की जाने लगी।
अब हम भारत की बात करें तो यहां प्रिंट मीडिया के हालात भी नकारात्मक नहीं है। साल 2013-15 के दौरान ही देखें तो यहां प्रिंट मीडिया अच्छा ग्रोथ (विकास) देखा गया। जहां प्रकाशनों की संख्या में इजाफा हुआ वहीं समाचार पत्रों की प्रसार संख्या में भी इजाफा हुआ। भले ही पश्चिम के देशों में प्रसार संख्या में गिरावट आई हो पर भारत में ऐसा नहीं हुआ। पश्चिम के देशों में डिजिटल मीडिया के तेज विकास का असर अखबारों पर पड़ा। पर भारत जैसे विकासशील देश में लगातार बढ़ रही साक्षरता और बढ़ती आबादी के कारण अखबार अभी खतरे में नहीं हैं।

अखबारों के प्रसार में इजाफा  - साल 2017 की ताजा रिपोर्ट की भी बात करें तो मई 2017 में जारी एबीसी के आंकड़ों में भारतीय प्रिंट मीडिया को लगातार बढ़ता हुआ दिखाया गया है। हां इस बात के संकेत जरूर दिए गए हैं आगे प्रिंट मीडिया का विकास दूसरे मीडिया के तुलना में धीमा हो सकता है। आठ मई 2017 को जारी एबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले दस सालों में भारत में अखबारों की प्रसार संख्या में 2.37 करोड़ का इजाफा हुआ है।


भारत में अखबारों के राजस्व में इजाफा
साल 2017 में भारत में जिसे क्षेत्रीय अखबार माना जाता है उनका सरकुलेशन और राजस्व में वृद्धि की दर 8 से 10 फीसदी रही है। वहीं उनके छपाई लागात में कोई खास बदलाव नहीं आया है क्योंकि वैश्विक स्तर पर न्यूज प्रिंट की कीमतें इस साल नहीं बढ़ी हैं। अखबार के प्रोडक्शन की कुल लागात में न्यूज प्रिंट की भागीदारी 40 फीसदी रहती है। जिस तरह से भारत की आर्थिक विकास की दर सतत बढ़ रही है फिलहाल अखबारों को विज्ञापन से मिलने वाले राजस्व में भी बढ़ोत्तरी होने का अनुमान है। इंडिया स्पेंड्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक विज्ञापन से मिलने वाले राजस्व में ई कामर्स की बड़ी भागादारी होगी। 
ऑनलाइन उत्पादों की बिक्री करने वाली वेबसाइटें अखबारों को बड़े विज्ञापन दे रही हैं। एसोचेम की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में ई कामर्स सेक्टर में साल 2016 में 65 फीसदी का उछाल देखा गया है। इसका सीधा असर अखबारों की बेहतर सेहत पर पड़ रहा है।

2006 - 2016 के बीच प्रिंट मीडिया का विस्तार
उत्तर क्षेत्र  7.83%
दक्षिण क्षेत्र 4.95%
पश्चिम क्षेत्र  2.81%
पूर्वी क्षेत्र 2.63%
कुल (राष्ट्रीय स्तर पर )  4.87%

भाषायी स्तर पर प्रसार में बढ़ोत्तरी ( 2006 से 2016 के बीच )
हिंदी  8.76%
तेलगू  8.28%
कन्नड 6.40%
तमिल  5.51%
मलयालम 4.11%
अंग्रेजी 2.87%
पंजाबी  1.53%
मराठी  1.50%
बांग्ला  1.49%
( स्रोत – आडिट ब्यूरो ऑफ सरकुलेशन, मई 2017 )



अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रिंट मीडिया में ह्रास या वृद्धि  
--------------------------------------------------------------------------------
देश           2013                       2014                       2015
---------------------------------------------------------------------------------
ऑस्ट्रेलिया         2,281 (-10%)         2,008 (-12%)         1,879 (-6%)
फ्रांस                 6,537 (-4%)            6,324 (-3%)            6,163 (-3%)
जर्मनी                 17,242 (-4%)                16,307 (-5%)         15,786 (-3%)
जापान               46,999 (-2%)         45,363 (-3%)         44,247 (-2%)
ब्रिटेन                  9,852 (-8%)           9,820 (0%)             8,626 (-12%)
अमेरिका    40,712 (-6%)                40,420 (-1%)         39,527 (-2%)
भारत                224,338 (14%)             264,290 (18%)              296,303 (12%)
( स्रोत - WAN-IFRA WPT 2016 )



भारत में अखबारों की प्रसार संख्या लगातार बढ़ रही है...
भले ही दुनिया कुछ विकसित देशों में अखबार मर रहे हैं। भारत में अभी अखबार औसत आठ फीसदी की गति से बढ़ रहे हैं। भारत में प्रिंट मीडिया इंडस्ट्री अभी 30 हजार करोड़ की है। अगले तीन साल तक इसमें 8 फीसदी की औसत गति से विकास का अनुमान है। पर ये विकास अंग्रेजी अखबारों में नहीं बल्कि हिंदी और क्षेत्रीय भाषा के दूसरे अखबारों का हो रहा है। इंडिया रेटिंग एंड रिसर्च का अनुमान है कि क्षेत्रीय भाषाओं के अखबार 2017 मे 10 से 12 फीसदी की गति से बढ़ेंगे। क्षेत्रीय अखबारों के विकास ये दर अंग्रेजी प्रिंट मीडिया की तुलना में अधिक है। 14 मार्च 2017 को जारी एक रिपोर्ट में कहा गया कि एक दिन क्षेत्रीय भाषाओं के अखबार अंग्रेजी अखबारों को पीछे छोड़ देंगे। इसका कारण है कि देश की 1 अरब 30 करोड़ आबादी में सिर्फ 10 फीसदी लोग ही अंग्रेजी बोल या समझ पाते हैं। यह कहा जा रहा है कि भारत के क्षेत्रीय भाषाओं में अभी विकास की अपार संभावनाएं हैं। इसलिए वहां क्षेत्रीय अखबारों के लिए बड़ा बाजार भी है। इसके आगे बात करें तो अभी भारत में साक्षरता की दर में लगातार इजाफा हो रहा है। अभी हम सौ फीसदी साक्षरता दर तक नहीं पहुंच पाएं। इसलिए जिस गति से साक्षरता दर बढ़ रही है। अखबारों के प्रसार संख्या में भी लगातार इजाफा हो रहा है। साल 2011 के जनगणना में ग्रामीण आबादी में साक्षरता की दर 46 फीसदी से बढ़कर 69 फीसदी पर जा पहुंची है। अभी जो 31 फीसदी लोग निरक्षर हैं वे भी भविष्य में पढ़ेंगे लिखेंगे तो अखबार बाचेंगेइसलिए अभी अगले कुछ दशक तक हिंदी और क्षेत्रीय प्रिंट मीडिया पर कोई खतरा नजर नहीं आ रहा है। इसलिए क्षेत्रीय भाषा के पत्रकारों को भी ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है।       

क्या समाचार पत्रों का डिजिटल होना गलत है...
दुनिया भर में कई वरिष्ठ पत्रकारों ने इस बात पर भी खूब चर्चा की है कि क्या संपादकीय सामग्री को वेबसाइट पर अपलोड कर देना सही कदम है। अगर हम खबरलेखफीचर को वेबसाइट पर डाल देते हैं तो पाठकों को फ्री में कंटेट परोसने जैसा है। अमेरिका के प्रसिद्ध मीडिया कमेंटेटेटर जैक शेफर इसे अपने लेख में इसे एक पागलपन करार देते हैं।उनका मानना है कि एक लेख लिखने में एक रिपोर्ट तैयार करने में सैकड़ो डॉलर का खर्च आता है। फिर इसे मुफ्त में परोसने का क्या तुक है। प्रिंट को आनलाइन से चुनौती पूरी दुनिया में मिल रही है। अगर हम सब कुछ मुफ्त में वेबसाइट पर अपलोड कर देते हैं तो हमें पाठक कहां से मिलेंगे और राजस्व कहां से आएगा। 
शेफर ने टेक्सास विश्विवद्यालय के दो अध्ययनों का हवाला देकर एक रियलिटी चेक किया। उनके मुताबिक अमेरिका के कई अखबारों ने अपने डिजिटल प्लेटफार्म पर सामग्री परोस देने के कारण अपने परंपरागत प्रिंट मीडिया के पाठक खो दिए। आज पूरी दुनिया में ये नारा लगाया जा रहा है डिजिटल फर्स्टपर इस डिजिटल फर्स्ट ने कई अमेरिकी अखबारों को काफी घाटा पहुंचाया है।
पर अमेरिका के 51 अखबारों के ऑनलाइन रिडरशिप के अध्ययन में यह पाया गया कि साल 2011 से 2015 के बीच इनमें से आधे वेबसाइटों ने भी अपने पाठक खोए हैं। दूसरे अध्ययन में यह भी माना गया है कि ऑनलाइन संस्करण को पढ़ने के बावजूद लोगों ने अखबार के प्रिंट संस्करण को पढ़ना नहीं छोड़ा है। 
अगर राजस्व के लिहाज से देखा जाए तो भी दुनिया भर के अखबार अब अपने प्रिंट संस्करण के साथ ही आनलाइन संस्करण से भी राजस्व प्राप्त करने की कोशिश में लग गए हैं। कई अखबारों के आनलाइन राजस्व में अच्छा खासा इजाफा भी हो रहा है।  साल 2010 से 2014 के बीच अमेरिकी अखबारों के राजस्व में 3 बिलियन डालर से इजाफा होकर 3.5 बिलियन हो गया है। हालांकि प्रिंट मीडिया के राजस्व से तुलना करें तो यह इजाफा बहुत उत्साहजनक नहीं है। अमेरिका मीडिया में अभी अखबारों के कुल राजस्व में प्रिंट संस्करणोंसे आने वाला राजस्व 82 फीसदी है जबकि आनलाइन से आने वाला राजस्व 18 फीसदी है।
साल 2013 में आई अपनी पुस्तक – ट्राएल एंड एरर में एच आइरिस चाई लिखती हैं -  समाचार पत्रों के आनलाइन संस्करणों को पढना पूर्ण संतोष नहीं दे पाता है। ये मुद्रित संस्करण की तुलना में गुणवत्ता के लिहाज से नहीं ठहर पाते। पाठक अब भी मुद्रित संस्करण को पढ़ना चाहता है। 
अपने मुद्रित संस्करण को उपयोगी और बाजार में मांग में बना रहने लायक बनाए रखने के लिए प्रकाशक भी कई तरह की रणनीति पर काम कर रहे हैं। कई अखबार अपने एक्सक्लूसिव रिपोर्ट अपनी वेबसाइट पर नहीं डालते। उसे प्रिंट संस्करण सुबह में बाजार में पाठकों के बीच पहुंच जाने के बाद ही वेबसाइट पर अपलोड करते हैं। वहीं कई बार ऐसा भी किया जाता है कि संक्षिप्त रिपोर्ट को वेबसाइट पर डाला जाता है और विस्तार से रिपोर्ट को मुद्रित संस्करण में प्रकाशित किया जाता है। 

प्रिंट मीडिया के सामने कैसी चुनौतियां
बदलाव के लिए तैयार रहें  ऐसा नहीं है कि प्रिंट मीडिया में नौकरियां खत्म हो रही हैं। पर अब काम काज के तौर तरीकों में बदलाव हो रहा है। ऐसे लोगों की तलाश की जा रही है जिन्हें लिखने और संपादन के अलावा सोशल मीडिया का इस्तेमाल करना भी आता हो।
तमाम अखबार अपने कंटेट को पेश करने के तौर तरीके में बदलाव ला रहे हैं। अब वे खास तौर पर नई पीढ़ी को ध्यान में रखते हुए सामग्री परोस रहे हैं। दुनिया के तमाम बड़े अखबारों ने अपने संवाददाताओं को सलाह दी है कि वे पहले की तुलना में अपनी खबरों को छोटा करें। वे शब्दों में 50 फीसदी तक कटौती करें। साथ ही संवाददाताओं से ये अपेक्षा की जा रही है कि वे ऐसी खबरों की प्राथमिकता दें जो सोशल मीडिया पर भी हिट हो सकता हो। खबरों के पेश करने के तरीके में बदलाव पर जोर दिया जा रहा है।   
खोजपूर्ण रिपोर्ट की आज भी मांग
कई समाचार पत्र संगठन अपने पत्रकारों को यह कह कर भयभीत करने में लगे हैं कि पत्रकारिता का भविष्य अब अंधेरे में है। भले ही कई अखबार छोटी छोटी रिपोर्ट लिखने के लिए अपने पत्रकारों से कह रहे हों पर सच्चाई है कि पाठकों में गहराई से रिपोर्टिंग और खोजपरक खबरें पढ़ने की अभिलिप्सा पहले की तरह बनी हुई है। पर चुनौती अब इस तरह की है कि आपको अपने रिपोर्ट लिखने के मामले में इनोवेटिव होना पड़ेगा तभी आप इस तकनीक से मिल रही चुनौती की दुनिया में खुद को खड़ा रख पाएंगे। अलग अलग तरह के पाठकों की अलग अलग मांग होती हैपर खोजपूर्ण रिपोर्ट की मांग बनी हुई है।
अगर ऑनलाइन रिडिंग की भी बात करें तो यह देखा गया है कि लोग टैबलेट और लैपटाप पर भी लंबी रिपोर्ट को पढ़ते हैं। हालांकि मोबाइल के मामले में लोगों को छोटी-छोटी खबरें और रिपोर्ट पढने में सुविधा होती है।

लेआउट डिजाइन के स्तर पर बदलाव लाना होगा
दुनिया के सबसे समाचार पत्र डिजाइनर माने जाने वाले मारियो गर्सिया का मानना है कि युवा पाठकों को जोड़ने और घटती प्रसार संख्या को रोकने में विजुअल चेंज (ले आउट) की बड़ी भूमिका है। समाज में हो रहे नये बदलावों के अनुरूप अखबार में बदलाव नहीं होंगेतो अखबारों के लिए संकट होगा। दक्षिण भारत के तीन महत्वपूर्ण अखबारों द हिंदूदक्कन क्रानिकल और दक्कन हेरल्ड ने ले आउट और विजुअल एक्सलेंस (मोहक प्रस्तुति) में पश्चिमी अखबारों के तर्ज पर खुद को काफी समृद्ध बनाया है। इसे वहां के पाठकों ने काफी पसंद भी किया है।

यह सही है कि प्रिंट मीडिया में डिजिटल मीडिया तेजी से अपनी जड़ें जमा रहा है। हर समाचार पत्र को अपनी वेबसाइट भी बनानी पड़ी है और उसे 24 घंटे अपडेट करते रहना चुनौती बन गई है। अब समाचार पत्र अपने स्वरूप और कामकाज में व्यापक परिवर्तन लाना पड़ रहा है। समाचार पत्र के दफ्तर मेंभी 24 घंटे सक्रिय रहने वाले न्यूज रूम का निर्माण करना पड़ रहा है। अखबारों को  भविष्य में डिजिटल अवतार के बिना बाजार में बने रहने की उम्मीद छोड़ना पड़ेगा। अब लगभग हर छोटे बड़े समाचार पत्र के लिए अब एक डिजिटल अवतार बदलते वक्त की जरूरत बन गया है।

बदलती तकनीक अपनाने के लिए तैयार रहें
आज के दौर में पत्रकारों से बदलती तकनीक को अपनाने के लिए तैयार रहना होगा। आज प्रिंट मीडिया का पत्रकार सोशल मीडिया से विमुख होकर काम नहीं कर सकता। जब 2008 के आसपास भात में फेसबुक लोकप्रिय होने लगा तो पत्रकारों ने इसका मजाक उड़ाया। पर धीरे धीरे तमाम वरिष्ठ और गंभीर पत्रकारों को भी इस पर अपना प्रोफाइल और पेज बनाने की जरूर महसूस होने लगी। ठीक इसी तरह ट्विटर की लोकप्रिय बढ़ने के बाद तमाम मीडिया कर्मियों ने इस पर अपना प्रोफाइल बनाना और ट्वीट करना शुरू कर दिया। यह समय की जरूरत हैइससे आप दूर नहीं रख सकते। हिंदी समाचार पत्र हिन्दुस्तान के प्रधान संपादक शशि शेखर कहते हैं कि हर प्रिंट का पत्रकार को सोशल प्रोफाइल होना आवश्यक है। अगर वह इस मंच पर सक्रिय नहीं है तो आउटडेटेड हो जाएगा। आप अपने विचार सोशल मीडिया पर साझा करें साथ ही अपनी खबरों को इस मंच पर प्रोमोट करें यह समय की जरूरत बन गया। मुझे खुशी होती है कि हमारे भारतीय जन संचार संस्थान के हिंदी पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष रहे डॉक्टर रामजीलाल जांगिड भी 78 साल की उम्र में सोशल मीडिया पर सक्रिय हो चुके हैं। साठ को पार कर चुके कई पत्रकार भले ही अपने संस्थानों से रिटायर हो गए हों पर इस मंच पर सक्रिय हैं।
हर अखबार का सोशल मीडिया एकाउंट
ज्यादातर हिंदी समाचार पत्रों ने सोशल मीडिया पर अपना एकाउंट बना लिया है। पहले सभी अखबारों ने अपनी वेबसाइट बनाई। पर वे यहीं पर नहीं रुके। इधर दो सालों मे देखा गया कि उन्होंने फेसबुक और ट्विटर पर भी अपना खाता सक्रिय किया है। वे अपने अखबार की प्रमुख खबरों को फेसबुक ट्विटर पर साझा करने लगे हैं। इन पेज को फालो करने वाले लोग इन्हे आगे री-ट्वीट करने लगे हैं। हमें यह समझना पड़ेगा कि सोशल मीडिया परंपरागत प्रिंट मीडिया का दुश्मन नहीं है। यह आपकी खबरोंपेज या आपके प्रोडक्ट को ज्यादा प्रचारित करने में सहायक हो सकता है।
हालांकि कई पत्रकार इस बात से चिंतित दिखाई दे रहे हैं कि यही मीडिया आने वाले दौर में कहीं हमारे लिए खतरा न बन जाए। या हमें कहीं खत्म न कर दे। पर इस भविष्य के खतरे की चिंता में हम सोशल मीडिया से दूरी बनाकर नहीं रख सकते।
 निराशा की बात नहीं, आइए आगे बढ़ते हैं...
समय बदल रहा है तो अखबारों को भी यह स्वीकार करना पड़ेगा कि कामकाज के जो तरीके वे पहले अपना रहे थे उसमें भी बदलाव लाना पड़ेगा। हो सकता है इनमें से कुछ तरीके बिल्कुल बेकार हो चुके हों। नवोन्मेष की बात करें तो यह समाचार पत्र उद्योग में बदलाव ला सकता है। इसके साथ ही कारोबार करने के तरीके बदलने होंगेनई तकनीक को अपनाना होगा। निश्चित तौर पर आने वाले दशक में काम करने के तौर तरीके में बदलाव लाना होगा तभी अखबार बचे रह सकेंगे।
यह पत्र दिनांक 07 नवंबर 2017 को दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली के दौलतराम कॉलेज में भारतीय जनसंचार संघ और संस्कृत विभाग, दौलतराम कॉलेज की ओर से आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी (विषय – मीडिया के सामने चुनौतियां) में पढ़ा गया।
Reference –
http://www.thehoot.org/media-watch/media-business/growth-trends-in-the-indian-print-media-10083
अखबारों के बदलते रंग रुपहरिवंशप्रभात खबर , 12 अप्रैल 2016
 https://qz.com/643982/the-future-of-indias-newspapers-lies-in-the-hinterlands
5. Report of Assocham on E-commerce 
7. http://harvardpolitics.com/covers/future-print-newspapers-struggle-survive-age-technology/

8. वाशिंगटन पोस्ट की बिक्री से प्रिंट मीडिया को संकेत - http://hindi.webdunia.com/article/current-affairs_1.htm

9. Report of India Ratings and Research (a credit ratings agency and a unit of Fitch Ratings)

10. Book - Trial and Error: U.S. Newspapers' Digital Struggles toward Inferiority (Media Markets Monographs) 2013 – H. Iris Chyi

13. https://www.timesofmalta.com/articles/view/20160326/world/last-print-run-for-the-independent-as-paper-moves-online.606858

          About writer
-         Vidyut Prakash Maurya
-        M.A. (History) BHU – 1995 , PG Diploma in Journalism from IIMC, New Delhi (1996). Master in Mass Communication  ( GJU), UGC NET in Mass Communication. Active in Print, TV media, Teaching since 1996. A travel blogger and researcher.
-         Contact – vidyutp@gmail.com  M 9711815500