Friday, 25 July 2014

आपके फोन बुक का ऑनलाइन बैकअप

अपने सारे नंबर को गूगल कांटेक्ट में सेव करें नंबर कभी गुम नहीं होंगे। नए फोन में नंबर सेव करने में विकल्प आते हैं। इनमें नंबर को सिम या फोन मेमोरी में नहीं सेव करें। बल्कि एंड्राएड फोन में गूगल कांटेक्ट्स में सेव करें। ये सभी नंबर आपके जीमेल खाते में अपने आप अपडेट होते चले जाएंगे। फिर फोन गुम होने पर नंबर गुम होने का कोई झंझट नहीं रहेगा।

अगर आप एंड्राएड मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं तो कोई भी नया नाम या फोन नंबर सेव करने से पहले फोन के पूछे जाने वाले  विकल्प पर ध्यान दें। नंबरों को सिम या फोन कांटेक्ट की जगह गूगल कांटेक्ट में सेव करें। एंड्राएड फोन इस्तेमाल करने वाले ज्यादातर लोगों की जीमेल पर ईमेल आईडी होती है। इसके बिना एंड्राएड के सभी अप्लिकेशन काम नहीं करते। जब आप एंड्राएड फोन पहली बार आन करते हैं तो अपने जीमेल आईडी का सेटअप फोन में स्थापित करें। इसे इंटनेट आन करने के बाद फोन के साथ सिंक कर दें। सिंक ऑन रहने की स्थित में गूगल फोन बुक में सेव किया गया हर नाम पता अपने आप आपके जीमेल कांटेक्स में अपडेट होता रहेगा। जब किसी पीसी या लैपटाप पर आप अपना जीमेल एकाउंट खोलते हैं तब बायीं तरफ जीमेल लिखा आता है। वहां पर क्लिक करें तो कांटेक्स टैब खुलता है। इसे क्लिक करने पर आपकी कांटेक्ट बुक खुल जाती है।

कहीं से भी करें अपडेट
इसे आप अपने ईमेल खाते में भी और फोन में अपडेट करते रह सकते हैं। कहीं भी कोई नया नाम फोन नंबर पता अपडेट करने पर यह आपके फोन और जीमेल अकाउंट दोनो जगह अपडेट हो जाएगा। अगर आप अपने जीमेल एकाउंट को फोन पर हमेशा ऑन या सिंक नहीं रखना चाहते तो आप ये प्रक्रिया 15 दिन या एक महीने में अपना सकते हैं। इससे भी आपके जीमेल के कांटैक्ट्स अपडेट होते रहेंगे। सिंक ऑन रहने पर बैटरी ज्यादा खर्च होती है।

नहीं गुम होंगे फोन नंबर
अक्सर लोग फोन गुम होने पर फेसबुक पर संदेश भेजकर दोस्तों से उनके फोन नंबर मांगते हुए देखे जाते हैं। अगर आपने गूगल कांटेक्ट्स में पते सुरक्षित रखे हैं तो अब इसकी कोई जरूरत नहीं पडेगी। अगर कभी आपका फोन गुम या चोरी हो जाता है, तब भी आप अपने सारे नंबरों को अपने जीमेल एकाउंट के कांटैक्ट्स में देख सकते हैं।

नए फोन में आ जाएंगे सभी पुराने नंबर
जब आप नया फोन ले लेते हैं और उसमें जैसे ही अपने जीमेल एकाउंट को सिंक करेंगे सारे नाम और फोन नंबर जो आपके पुराने फोन में थे अपने आप नए फोन में आ जाएंगे। आपको फिर से अपने फोन बुक में नाम फोन नंबर टाइप करने की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी। गूगल कांटेक्स में न सिर्फ नाम फोन नंबर बल्कि, ईमेल, पता, कंपनी नाम और मल्टीपल फोन नंबर भी सेव किए जा सकते हैं।

फोन बुक सुरक्षित करने के दूसरे तरीके
आप अपने फोन बुक का सारा डाटा एसडी कार्ड से केबल द्वारा अपने लैपटाप या पीसी में कापी कर लें। इस डाटा की वर्ड फाइल बनाकर कहीं सेव कर लें। अच्छा होगा कि इस फाइल को अपने ईमेल से किसी अपने दूसरे ईमेल पर भेज दें। इससे आपके नाम पतों की सूची आपके ईमेल से सेंड फोल्डर में भी पड़ी रहेगी। संकटकाल में आप इसे वहां से प्राप्त कर सकते हैं। आप इस एड्रेस बुक फाइल का प्रिंट निकाल कर भी रख सकते हैं।

- विद्युत प्रकाश मौर्य  -vidyutp@gmail.com 



Wednesday, 23 July 2014

ROLE OF MEDIA DURING DISASTERS, A STUDY ABOUT CYCLONE PHAILIN

ROLE OF MEDIA DURING DISASTERS, A STUDY ABOUT CYCLONE PHAILIN


-      Vidyut Prakash Maurya


Media today has arguably penetrated every household in the world, in one form or another. Journalists pride themselves in reporting objectively on global events and regard an independent media as one of the pillars of democratic society.

Media both print and electronic can play a vital role in public awareness and preparedness through educating the public about disasters. It works like warning of hazards; gathering and transmitting information about affected areas. The role of media in informing the people and the authorities during emergencies becomes critical.

NEED IN EMERGENCY

During any emergency, people seek up-to-date, reliable and detailed information. During an emergency, the media should be sensitive to the needs of the public in affected areas and should avoid misinforming and broadcasting unconfirmed reports.

It is important to alerting government officials, helping relief organizations and the public towards specific needs; and even in facilitating discussions about disaster preparedness and response.

IMPORTANT INSTRUMENT

The main principle of information provision, therefore, should be an ethical one. Therefore, correct and reliable information
through the media is an important instrument for balancing the possible effects. Reliable and timely information provided through the media can help people overcome any kind of fear and fatalism during and after an emergency. The availability of reliable
and timely information and knowledge about an event and the resulting needs help to improve solidarity and also creates an atmosphere conducive to collective response for sharing the humanitarian challenges created by disasters.

POWERFUL MODE

Media is one of the most powerful mode of Communication.  India has a very active print and electronic media. People also uses social media on their mobile phones and laptops. The total number of news paper and periodicals in 2001 was 52980. Radio today has a network more than 208 stations covering more than 90 % of the area and almost reaching population of 100 crores.

Now 24 hours news channel is a reality. Besides public broadcaster Doordarshan there are number of channels broadcasting news round the clock. Satellite communication has made possible to receive international network through receivers.

Another very fast medium of communication is the Internet. Today the Internet is being actively used to disseminate news and views on issues of public interests. Internet provides the cheapest way to link people anywhere on the planet. Nigeria's Emergency Management Agency (NEMA) is using social media in facilitating swift responses to disasters and other emergency situations.

The World Conference on Natural Disaster Reduction and the Roundtable on the Media, Scientific Information and Disasters addressed the vital roles of communications among and between scientists, engineers, government officials, disaster response officials, and particularly the media and the public in disaster mitigation.

SOME EXAMPLES
There are many examples where public education and the rapid, widespread dissemination of early warnings saved thousands of lives
1.     A 1977 cyclone in Andra Pradesh, India, which killed 10,000 people, and a similar storm in the same area 13 years later, which killed 910. This time early warning measures save lives and money.
2.    In November 1970 a tropical cyclone, combined with a high tide, struck southeastern Bangladesh, leaving more than 3 lakh  people dead and 1.3 million homeless. In May 1985, a comparable cyclone and storm surge hit the same area. "This time, there was better local dissemination of disaster warnings and the people were better prepared to respond to them. The loss of life, although still high, was 10,000 or about 3 percent of that in 1970."
3.    A cyclone struck the same area of Bangladesh in May 1994, fewer than 1,000 people died. The dramatic difference, according to Saidur Rahman, Director of the Bangladesh Disaster Preparedness Centre, was a new early-warning system that allows radio stations to alert people in low-lying areas, "wonderful work was done by the media."
4.    Hurricane Gilbert, which hit Jamaica in September 1988. The storm had been tracked, however, by the Regional Hurricane Center in Miami and by national meteorological services in the area. They predicted Gilbert's path and issued timely warnings to relief officials and the public. According to the World Meteorological Organization, was a much lower death toll than when a similar hurricane struck in 1951.

VITAL ROLE IN EDUCATING THE PUBLIC
Many other examples make clear that media throughout the world play a vital role in educating the public about disasters; warning of hazards; gathering and transmitting information about affected areas; alerting government officials, relief organizations, and the public to specific needs; and facilitating discussions about disaster preparedness and response.
For the media to fill these roles most effectively, the scientific and disaster mitigation organizations need to establish and strengthen working relationships with the media.
Effective messages, both through the mass media and in other alternative forms of communication can empower people to take practical steps to protect themselves from natural hazards.

INDIA CLIMATIC CONDITIONS 
Owing to its unique geo- climatic conditions, India’s has high vulnerabilities posed by national disasters such as floods, droughts, cyclones, earthquakes and landslides. According to a Ministry of Home Affairs report, about 60 % of the landmass in India is prone to earthquakes, 12 % is prone to floods; about 8% of the total area is prone to cyclones.


HOW IT WORKS

Sending Alerts

News reports in news papers and television news bulletins can aware people about upcoming disaster. Media informs and alerts people about bad conditions in certain areas. So people can make life saving efforts.

Tweets about up-to-date situational and location-based information related to the flood such as water levels, traffic conditions and road conditions in certain areas.

Support Announcements
Tweets about free parking availability, free emergency survival kits distribution and free consulting services for home repair, etc.

Assistance Requests
Tweets requesting rescue and any types of aid; such as food, water, medical supplies, volunteers or transportation.

Requests for Information
Tweets including general inquiries related to the flood and flood relief such as inquiries for telephone numbers of relevant authorities, regarding the current situation in specific locations and about flood damage compensation.

Mobile Apps Can Save life
Apps are open sourced solutions are being tailor made for disaster management solutions. On the fully interactive Google map, geographical information related to the flooding submitted by official sources and users is aggregated in location pinpoints.
The American Red Cross also offered a Hurricane App for both iPhone and Android device users to assist in individual recovery.
In jun 2013  during the Uttarakhand floods, Google launched a ‘Person finder’, a portal, where people could type the name of the missing person and through its immense database, Google did the matching and threw up co-relating results.

CYCLONE PHAILIN  IN ODISHA
Cyclone Phailin meekly kissed the earth and vanished Odisha and Andhra Pradesh on 12 October 2013. Bad news suddenly found itself in the unusual position. Durga Puja 2013 had a better than expected ending on the east coast. The National Disaster Management Authority (NDMA) says 1.2 crore people will be affected by the cyclone.
Cylone Phailin had lost much of her steam en route from Thailand. A promised speed of 350 km per hour had red­uced to 200 kmph as she swirled over the Bay of Bengal for over a week. India was better prepared.
Odisha, a Indian coastal state which faced the destruction and devastation of 1999's super-cyclone, says it is not ready to take any chances this time around.
Odisha's Disaster Management Minister Surya Narayan Patra told NDTV, "We are fighting against nature. We are better prepared this time, we learnt a lot from 1999." Nearly 15,000 people died in the super-cyclone that ravaged Odisha in 1999.

Prashant Darcommandant, Natio­nal Disaster Response Force (NDRF) Says “The whole world was watching. We managed to save so many lives because all of us worked together.”

‘It was the largest number of people to have been evacuated in Indian history, that too within 36-40 hours.’ Says P.K. Mohapatra, Special Relief Commissioner, Orissa

 ‘This is one of the largest evacuations undertaken in India,’ said Shashidhar Reddy, vice-chairman of the National Disaster Management Authority, the Guardian reported.

OBJECTIVE REPORTING BY MEDIA
Complimenting the media for their efforts, Director General of the Indian Meteorological Department L. S.Rathore said: "There seems to be a zero loss of life as was targeted to combat this Very Severe Cyclonic Storm. I would like to place on record great sense of participation and objective reporting by both electronic and print media of this country. It has really helped greatly for wider and accurate information dissemination to all stakeholders, including public at large." Rathore also briefed the media on the forecast over the next 48 hours for the affected regions, and confirmed that the worst in terms of wind is over.

MEDIA PARTNERSHIP IN FIGHTING PHAILIN

Chief Secretary of Odisha Sri Jugal Kishore Mohapatra giving due credence to dissemination of cyclone messages by media in saving the life and property of a million people, it once again becomes pertinent to say that media partnership is the effective instrument of reaching out people for management of natural disasters and emergencies.

Chief Secretary Sri Mohapatra gave this credence to media while outlining the factors that helped in process of management of the disaster in a high level review meeting taken by Union Home Secretary Sri Anil Goswami in Secretariat conference hall recently. Sri Mohapatra said, the accuracy and reliability of cyclone forecasting by IMD along with appropriate dissemination of message by the media about alert, rescue and relief operations, among other factors contributed towards fighting out the fury of cyclone and minimizing the loss of human as well as cattle life.

It may be of worth mention here that the timely and proactive actions of Government machinery in this task has got wide appreciations at international and national levels.

The print, electronics and web media have also duly publicized these benevolent donations along with the applauds from different quarters for Governmental interventions.

The United Nation’s Special Representative Margareta Wahlstrom said, “ Odisha’s handling of the very sever cyclone will be a land mark success story in disaster Management.


ROLE OF PRINT MEDIA
The Telegraph in its editorial entitled “Splendid Job” on 17th October, 2013 mentioned that “Naveen Pattaniak Govt’s success in tackling the cyclone challenges is yet another evidence of Mr. Pattaniak’s approach
to governance . Leaders of such proven abilities are not common in India. They might be just the kind of politicians that India will
desperately need at the national level after the general elections next year.”

The Political and Business Daily in its editorial entitled “Naveen promises and Delivers “ on 20th October, 2013 remarked “ the stupendous task undertaken by Naveen’s government and officials is just mind boggling. The sheer enormity of the task of moving nearly a million people from their homes situated in scattered villages along the coast line to safer places can only be realized if we try to evacuate a single case of persuading an individual to leave behind his home and hearth and run for safety with their young children, old ailing parents, live stock, that too in inclement weather. One can imagine the collective resistance and the surging discontentment of the officials involved in the task would have faced”

The Editor of Odia daily The Sambad, Sri Soumya Ranjan Patnaik in his views entitled “ Yes We Can” on 16th October,2013 clearly stared that there should be no hesitation in praising the Govt machinery and officials involved in task of alerting, evacuating and rescuing the people.

The Odia daily The Pragativadi in one of its well placed news on 21st October entitled “How Govt Fought Out Phailin” mentioned that Govt. own over the severe cyclonic storm Phailin and minimized the loss. The success of Odisha in countering the cyclone of 2013 has created examples at national and international level. Quoting Chief Secretray Sri Mohapatra, the news also pointed out the causes of governmental success in no ambiguous terms.
The Odia daily The Samaj in its bold lettered news on 16th October, stated ‘it is worth mention that Govt of Odisha had alerted people long before the cyclone and had taken proactive steps for taking them to
safe places. Govt has set the record in history of natural disaster management in India by evacuating 9 lakh people.

The same news also reported about the opinion of non-resident Indian industrialist Lord Swaraj Paul, Spiritual leader Sri Rabi Sankar and
some national as well as international bodies praising the efforts of Govt.’

The Odia daily, The Sambad Kalika in its news on 21st
October reported that district administration of Nayargah has been successful in managing the cyclone. The English dailies like
The New Indian ExpressTimes of India and The Economic Times

ROLE OF ELECTRONIC MEDIA
Along with other print, web and electronics media including
AIR and Doordarshan equally publicized the governmental messages for people before, during and after the cyclone. News channels like NDTV, Zee News, AAJTAK and ETV given live coverage of cyclone. Some of reporters spent more than three days with cyclone and informed live reports. We remember live reports of Manish Kumar and Hridyesh Joshi of NDTV. They also reflected the views and opinions expressed by different outside agencies in highlighting the governmental efforts.

The Information and Public Relation Department of the Government rose up to the occasion and served the people through accurate dissemination of messages to the people though different media and public announcements at filed level. More than 60 press releases along with handout and advertisement messages were issued by Information Officers serving at secretariat and directorate levels. Apart from that district level officers also made a number of releases at local levels.

EFFORTS FOR COORDINATIONS

It was great story of efforts and coordination. The entire exercise has proved that print, electronics, cyber and folk media can be an effective partner in successful management of disasters and emergencies. Before a disaster strikes, lays the groundwork for effective working relationships made it happen in Odisha.

Sensitivity, and trust worked here. Bright contact facilitates contributed to the quality and focus of media coverage relating to disasters. And last words It is a great story for our future example about fighting disaster.

 ------0--------0--------0-------------

REFERENCES
1. Government of Odisha, EMORANDUM, On the Very Severe Cyclone  PHAILIN AND THE SUBSEQUENT FLOOD  12 15 October 2013
2. www.annenberg.northwestern.edu/
3. www.orkash.com
4. http://nidm.gov.in/
5. www.humanipo.com
6. www.odisha.gov.in/
7. Live mint, Daily, 15 oct 2013
8. Hindustan Times, Daily 15 oct 2013
9. http://www.aninews.in/
10 . outlook magazine 28 oct 2013
11. The Guardian, 15 oct 2013
12. Prof. G.P.Sinha Centre for Disaster Management and Rural Development http://gpscdmrd.org/


About Writer
Vidyut Prakash Maurya, A journalist and Media teacher.
DOB – 17 Dec 1973
BA ( Hons. ) BHU, MA (Hist) BHU
PG DIPLOMA in Journalism from IIMC, Delhi, Master in Mass communication from GJU, Hisar
UGC NET in Mass communication.
17 years in Print , TV Media, Teaching and Research. Presently working as Chief Sub Editor in HT Media Group, New Delhi.
Email – vidyutp@gmail.com 

-------







Friday, 11 July 2014

सौ साल की जोहरा सहगल

महान कलाकार जोहरा सहगल ने 102 साल के जीवन के बाद 10 जुलाई 2014 को इस दुनिया को अलविदा कहा। मंदाकिनी एनक्लेव स्थित उसी घर में उन्होंने अंतिम सांस ली जहां कभी मेरी उनसे लंबी वार्ता हुई थी। वास्तव में जोहरा जैसी कलाकार कभी मरती नहीं। 

याद किजिए 2007 में बनी चीनी कम में अमिताभ बच्चन की मां को। रणवीर कपूर के साथसांवरिया में, शाहरूख प्रीति जिंटा के  साथ वीर-जारा में, सलमान ऐश्वर्या के साथ हम दिल दे चुके सनम में उन्होंने नई पीढ़ी के कलाकारों के साथ यादगार अभिनय किया। तमन्ना के बाद दिल्लगी, दिल से , मिस्ट्रेस ऑफ स्पाइसेज, बैंड इट लाइक बेखम जैसी कई फिल्मों में जोहरा को नई पीढ़ी के लोगों ने भी खूब देखा। उनकी आखिरी फिल्म चीनी कम 2007 में आई।  




प्रस्तुत है जोहरा सहगल से 1996-97 के दौरान की गई लंबी बातचीत....

भला सौ साल जीने की तमन्ना किसकी नहीं होती लेकिन कितने लोग देख पाते हैं सौ वसंत। फिल्मों और थियेटर में अपने अभिनय की कई पीढ़ियों पर छाप छोड़ने वाली जोहरा सहगल ने 27 अप्रैल 2012 को सौ वसंत पूरे कर लिए हैं।


जोहरा सहगल के साथ 1998 में दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में।

जोहरा सहगल  एक ऐसा नाम है जिनके अभिनय के प्रशंसक चार पीढ़ियों के लोग हैं। 1912 में 27 अप्रैल को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक नवाब परिवार में जन्मी जोहरा 18 साल की उम्र में परिवार से विद्रोह कर डांस सीखने जर्मनी पहुंच गईं। उदय शंकर के डांस ट्रूप में और पृथ्वी थियेटर में अभिनय कर चुकीं जोहरा सहगल 25 सालों तक विदेशों में रहीं दुनिया के अलग अलग भाषाओं के फिल्मों में काम कर अपने अभिनय का लोहा मनवाया। वे भारतीय अभिनेताओं की फेहिरस्त में ऐसा पहला नाम है जिसने अंतराष्ट्रीय स्तर पर अभिनय जगत में अपनी पहचान बनाई। तो बालीवुड में पृथ्वी राज कपूर से लेकर रणबीर कपूर तक के साथ अभिनय की पारी खेली। जोहरा 80 साल के उम्र के बाद भी फिल्मों में छोटे परदे पर कई यादगार किरदारों को जीवंत किया।
सितंबर 1996 की दोपहर में जोहरा सहगल के साथ एक लंबी मुलाकात। दिल्ली में ग्रेटर कैलाश के एक हिस्से मंदाकिनी एनक्लेव में उनका घर। मैं तय समय पर पहुंचता हूं। अपने कमरे का दरवाजा जोहरा खुद खोलती हैं। बड़े स्नेह से कहती हैं आओ बैठो। चुस्त स्वस्थ शरीर, उन्नत ललाट। वाणी में ओज। देखकर नहीं लगता कि 85 साल की एक महिला से मुखातिब हूं। बैठते ही अपना एक तीन पेज का बायोडाटा पकड़ा देती हैं।


पता नहीं तुम मेरे बारे में पहले से कितना जानते हो। इसलिए इसे पढ़ लो बात करने में सुविधा होगी। मैं उनका बायोडाटा पढ़ता हूं, तब तक वे बैठी रहती हैं फिर बातचीतशुरू हो जाती है । हालांकि मैं तो होमवर्क करके पहुंचा था। मैं पहला सवाल  पूछता हूं...

आजकल आपका एक दिन कैसे गुजरता है..

-   सुबह उठती हूं। नास्ता करती हूं। डाक्टर ने कह रखा है कि इस उम्र में इतना काम करती हैं तो खाना भी खूब चाहिए। सुबह दो घंटे मैं व्यायाम करती हूं। उसमें पहले योग करती हूं। उदय शंकर के नृत्य का अभ्यास करती हूं। इसमें शरीर के प्रत्येक अंग का व्यायाम हो जाता है। इसके बाद जो नज्में मुझे याद हैं उन्हें दुहराती हूं। ये सबसे अच्छी तरकीब है, याद्दाश्त, एक्सप्रेशन तथा आवाज के लिए। अभिनय में इमोशन कैसे पैदा हो, आवाज कैसे दूर तक फेंकनी चाहिए इसका अभ्यास हो जाता है। मेरे इस प्रोग्राम में तीन बच्चों की कविताएं, अंग्रेजी पोयम, इकबाल और फैज अहमद फैज की शायरी है। आजकल मैं देखती हूं कि नई पीढ़ी के अभिनेता ऊंचाई पर पहुंचने की तमन्ना रखते हैं लेकिन वे आवाज का रियाज बिल्कुल नहीं करते। इसके बाद मैं पुस्तकें पढ़ती हूं। आने वाले खतों का जवाब देती हूं। आजकल मैं अपनी पुस्तक स्टेजेज का प्रूफ ठीक करने में लगी हूं। एक बजे दोपहर में मैं लंच करती हूं। मुझे अखबारों के क्रासवर्ड साल्व करना भी पसंद है। दिन में एक घंटे सोती हूं। जगने के बाद एक घंटे पैदल चलती हूं। कभी कभी शाम को डिनर के लिए रेस्टोरेंट भी जाना होता है। रात को कुछ टीवी सीरियल देखने के बाद सो जाती हूं।
फिल्म सांविरया में रणबीर कपूर के साथ जोहरा ( 2007)

-    कौन से टीवी सीरियल देखती हैं...
-    रात को खाने के बाद सांता बारबरा और बोल्ड एंड द ब्यूटीफुल जैसे धारावाहिक जरूर देखती हूं। दिन भर की थकान के बाद इन्हें देखने पर काफी रिलैक्सेसन मिलता है। हालांकि इनमें कहानी तो कुछ भी नहीं होती। परंतु फोटोग्राफी और डाइरेक्शन उम्दा किस्म का है। चेहरे काफी बोल्ड और खूबसूरत होते हैं। इन्हें देखने के बाद नींद अच्छी आती है। वैसे आजकल टीवी पर सोप ओपेरा की भीड़ आ गई है। हर हिंदी चैनल पर थोड़ी देर में एक नया धारावाहिक शुरू हो जाता है। क्रिकेट मैं जरूर देखती हूं। अगर भारत पाकिस्तान और इंग्लैंड जैसे देशों का मैच हो तो और भी ज्यादा।

-    आपको खाने में क्या पसंद है...
-    आजकल पूरी दुनिया में शाकाहारी बनने पर जोर दिया जा रहा है। मुझे भी आमतौर पर वेजेटेरियन खाना पसंद है। परंतु सप्ताह में एक दो दिन चिकेन और मछलियां जरूर खा लेती हूं।

-    अपने बचपन की कुछ यादें बताएं...
-    मैं बहुत छोटी थी तभी मां गुजर गई थीं। पिता जी ने मुझे बोर्डिंग हाउस में पढ़ने के लिए भेज दिया था। मेरे पिताजी प्रोविंसियल सर्विस में थे इसलिए उनका तबादला होता रहता था। दस साल तक मैं क्वीन मेरी स्कूल लाहौर की छात्रा रही। उस स्कूल में तब सिर्फ राजाओं और नवाबों के बच्चे पढ़ते थे। एक बार मैं जब लाहौर से लौटकर अपने घर साहरनपुर आई तब मुझे कहा गया कि अब तुम परदे में हो। मेरे लिए बुरके सिले गए। अब हम बचपन में अपने साथ खेल नौकरों से बातें नहीं कर सकते थे। बुरके में घुटन होती थी। आप महसूस करेंगे- यो फ्रीडम हैज बीन क्रसड। मैं तो बचपन से ही टॉमबॉय किस्म की लड़की थी। पेड़ पर चढ़ जाना, खूब घुमना फिरना, उधर उधर की बातें करना खूब पसंद था। इसलिए घर के वातावरण में दम घुटता था। शादी जैसी चीज से नफरत थी। खाना बनाना पसंद नहीं था। मैंने अपने अब्बाजान को खत लिखा कि मैं शादी नहीं करना चाहती। मैं तो कैरियर बनाना चाहती हूं।
-    अभिनय के क्षेत्र में कैसे आना हुआ।


-    अठारह साल की उम्र में 1931 में जर्मनी चली गई। वहां तीन साल तक रही। मैंने डांस का विधिवत प्रशिक्षण लिया। इरदमिक्स में मैंने मेरी विगमन्स डांस स्कूल ड्रेसडन से डिप्लोमा लिया। जर्मनी जाने में मेरे मामाजी ने काफी मदद की थी। मामा जी भारत के पहले ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने घर वालों की मर्जी के खिलाफ जाकर विदेश में जाकर डाक्टरी की पढ़ाई थी। वे लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल कालेज के पहले भारतीय प्रिंसिपल बने थे। जर्मनी से लाहौर लौटकर मैं क्वीन मेरी स्कूल लाहौर में बच्चों को डांस सीखाने लगी। एक बार उदय शंकर जब लाहौर आए तब मैं उनके बैले ट्रूप में शामिल हो गई। उदय शंकर के बैले में मैं आठ साल रही। दुनिया के बहुत से देशों में मंच पर डांस परफारमेंस दिया।
-    - आपकी शादी कब और कैसे हुई..

-    1942 में मैंने कामेश्वर नाथ सहगल से शादी की। कामेश्वर बहुत ही ब्रिलिएंट और जीनियस आदमी थे। बहुत गजब के डांसर,पेंटर और साइंटिस्ट थे। मकबूल फिदा हुसैन भी उनकी काफी तारीफ करते हैं। पति चाहते थे कि मैं अपना अलग डांस स्कूल खोलूं। लाहौर में 1943 में हमने अपना डांस स्कूल खोला।

-    जब आपने एक हिंदू से शादी की तो कोई विरोध नहीं हुआ..
-    मेरे पति मेरे काफी अच्छे दोस्त थे। हमारे घर में हर व्यक्ति उन्हें प्रेम करता था। परंतु शादी की बात पर विरोध था। पिताजी नहीं चाहते थे कि जोहरा किसी हिंदू से शादी करे। परंतु मेरे मामा ने एक बार फिर काफी मदद की। कामेश्वर ने कहा कि जोहरा से शादी के लिए मैं मुसलमान बनने को भी तैयार हूं। परंतु अब्बा ने कहा कि नहीं इसकी जरूरत नहीं। अगर जोहरा हिंदू बन जाए तो मुझे कैसा लगेगा। इसलिए किसी भी को धर्म परिवर्तन की जरूरत नहीं है। पिता जी ने भरे मन से शादी की इजाजत दे दी।

-    पृथ्वी थियेटर में कैसे आना हुआ।
-    लाहौर में हमारा डांस स्कूल सफलतापूर्वक चल रहा था। परंतु जब भारत पाकिस्तान विभाजन की बात आई तब वहां के लोग हमारी आलोचना करने लगे।जो लोग हमारी शादी को हिंदू मुस्लिम एकता का नमूना बताते थे उन्ही लोगों से परेशानी पेश आने लगी। तब मेरी बहन अजरा जो पृथ्वी थियेटर में थीं उन्होने कहा कि तुम लोग मुंबई आ जाओ यहां थियेटर में डांस की बहुत संभावनाएं हैं। मुंबई आने पर मुझे जो फिल्मों में डांस के रोल आफर हुए वे बहुत ही वाहियात थे। मैं नाटकों के शो देखने जाया करती थी। मैंने पृथ्वी थियेटर के नाटक दीवार में पहली बार काम किया। इस नाटक की कहानी भारत पाकिस्तान विभाजन को लेकर बनी थी। इसमें दो भाइयों की कहानी थी। छोटा भाई अपने घर में विदेशी स्त्री ले आता है। जब छोटे और बड़े भाई के बीच विवाद बढ़ता है तो छोटा भाई कहता है कि घर में एक दीवार होनी चाहिए। मैं इस नाटक में वैम्प बनती थी। पापा जी ( पृथ्वी राज कपूर ) बड़े भाई का रोल करते थे। हमने पृथ्वी थियेटर के कई हजार शो किए। भारत के 112 शहरों में हमलोग गए। पृथ्वी थियेटर में मैं 14 साल तक रही। पठान, गद्दार, आहूति आदि नाटक काफी मशहूर हुए।

-    आपने पृथ्वीराज कपूर की फिल्मों में काम करने का अनुभव कैसा रहा...
-    वास्तव में तब मैं फिल्मों चल नहीं सकी। मुझे मां के रोल तो आफर होते थे। लेकिन मां के रोल में भी उन्हें सुंदर और सेक्सी महिला चाहिए थी। मैं कभी सुंदर और सेक्सी लगी नहीं। दूसरी बात की पृथ्वी थियेटर की रेगुलर आर्टिस्ट होने के कारण मैं फिल्मों को पूरा समय नहीं दे सकती थी। कुछ फिल्मों मं डांस डाइरेक्शन किया जिसमें गुरुदत्त की बाजी, सीआईडी आदि प्रमुख थीं। पापा जी की फिल्म पैसा में मैंने रोल किया लेकिन फिल्म की कहानी फिल्म के लायक नहीं थी। फिल्म फ्लाप हो गई। अगर पापा जी ने पठान या कलाकार नाटकों पर फिल्म बनाई होती तो जरूर सफल होती।

-    थियेटर में तब और अब क्या बदलाव आए हैं...
-    तब थियेटर में जाने से पहले किसी तरह की ट्रेनिंग का इंतजाम नहीं था। एक अंग्रेजीमें कहावत है..थ्रो द चाइल्ड इंटू वाटर आइदर स्विम और सिंक...बच्चे को पानी में फेंक दो तैरेगा या डूब जाएगा। कुछ ऐसा ही होता था। मैंने डांस का प्रशिक्षण जरूर लिया था। परंतु अभिनय की कोई ट्रेनिंग नहीं ली थी। वायस की कोई ट्रेनिंग नहीं ली थी। आजकल ट्रेनिंग बहुत अच्छी दी जा रही है। नए कलाकारों में भी कई बेहतर लोग आ रहे हैं। नसीरुद्दीन शाह, शबाना आजमी, ओमपुरी, उत्तरा बावकर, सीमा विश्वास आजके दौर के उम्दा कलाकार हैं।

-    क्या टीवी और फिल्मों के बढ़ते प्रभाव से थियेटर खत्म हो रहा है...
-    टीवी के आने से कलाकारों को मौका मिला है। अब थियेटर के लोग फिल्मों और टीवी की ओर जा रहे हैं। परंतु थियेटर का जादू खत्म नहीं होने जा रहा। कन्नड़, मराठी, गुजराती में थियेटर अच्छी स्थिति में है। नार्थ इंडिया में जरूर थियेटर अच्छी स्थिति में नहीं है। परंतु हमारे यहां भी लेखक और निर्देशक काफी मेहनत कर रहे हैं। धीरे धीरे टिकट खरीदकर थियेटर देखने वाले बढ़ रहे हैं।
-    विलायत में भी एक बार आवाज उठी थी कि फिल्म और टीवी के आने से थियेटर खत्म हो जाएगा। परंतु ऐसा हुआ नहीं। आमने सामने देखने का जो एक प्रभाव होता है वह सिर्फ थियेटर में ही संभव है। नाटक देखते समय दर्शक और कलाकारों के बीच जो खिचड़ी पकती वह एक यूनिक चीज है। यह एक अजीबोगरीब स्थिति है। लाइव परफारमेंस में जो बात पैदा होती है वह सिनेमा और टीवी में कैसे पैदा हो सकती है। आवाज का जो उतार चढ़ाव है वह थियेटर में ही देखने को मिलता है।

-    इधर आपने कई टीवी सीरियलों में काम किया कैसे अनुभव रहे...
-     पच्चीस साल बाद जब दुनिया के कई मुल्कों के टीवी शो और फिल्मों में एक्टिंग करके मैं वतन लौटी तो देखा कि लोग मुझे यहां भूलने लगे थे। फिर टीवी पर का शुरू किया। मुल्ला नसीरुद्दीनसई परांजपे की पार्टियाना, बलवंत गार्गी की खोजी के कारनामे, बुआ फातिमा, गिरिश कर्नाड के साथ आखिरी पड़ाव जैसे धारावाहिकों में काम किया। आजकल होम टीवी के धारावाहिक अम्मा एंड फेमिली में एक्टिंग कर रही हूं। इसमें मैं अम्मा बनी हूं। धारावाहिक पांच पीढ़ियों की कहानी है। एक सीधीसादी मुस्लिम फेमिली है। अम्मा बूढ़ी है, पांचो वक्त नामज पढ़ती है। बाकी लोग माडर्न हैं तो कुछ पुराने ख्यालों के भी हैं। कहानी सादिया देहलवी ने लिखी है। प्रोड्यूसर हैं वसीम अहमद देहलवी। हमारे साथ अनुपम श्याम, डाली आहलूवालिया, सुषमा सेठ, हिमानी देहलवी काम कर रही हैं। खूब मजा आ रहा है।

-    आपने दुनिया के बेहतरीन निर्देशकों के साथ काम किया है फिर नए लोगों के साथ काम करना कैसा लगता है..
-    निश्चय ही निर्देशकों में जॉन एमिल, क्रिस्टोफर मोरहान जैसी बात नहीं होती। यूं तो नए लोगों को निर्देशन के सूक्ष्म चीजों की जानकारी नहीं होती। थियेटर का भी अनुभव नहीं होने से कुछ फर्क पड़ जाता है।

-    कुछ ऐसे नाम जिनके साथ काम करना यादगार रहा...
-    सबसे पहले सईद जाफरी का नाम लूंगी। उनकी पत्नी मधुर जाफरीरोशन सेठ, इंदिरा जोशी, मीरा स्याल जैसे लोग अच्छे एक्टर हैं। फिल्मों में गुरिंदर चड्ढा, सुरिंदर कौरपाकिस्तानी आर्टिस्ट बदी उज्जमा बहुत अच्छे कलाकार हैं। निर्देशकों में एना केन, जेम्स आवरी, इस्माइल मर्चेंट, बलवंत गार्गी के नाम याद आते हैं। बेन किंग्स्ले बहुत अच्छा आर्टिस्ट है। मोरक्को में मैं उसके साथ हरम की शूटिंग करने गई थी। नाताशा किंसकी के साथ काम करना भी यादगार रहा।

-    ऐसी कोई तमन्ना जिसे आप पूरा नहीं कर सकी हों...
-    तमन्ना तो सच पूछो तो कुछ भी नहीं बची। वैसे इन्सान जो सोचता है वह सब कुछ नहीं हो पाता। परंतु आज मैं 85 साल की हो गई हूं। 

   मैं उदयशंकर के बैले और पृथ्वी थियेटर की टॉप स्टार रही। पच्चीस सालों तक दुनिया के कई देशों में रही। लौटने के बाद भी काफी काम मिल रहा है। रूपया भी मिल रहा है। हाल में महेश भट्ट की बेटी पूजा भट्ट की फिल्म तमन्ना में काम किया। भला इस उम्र में किसको इतना रूपया मिलता है।
    मेरा एक बेटा वर्ल्ड बैंक में है। उससे मिलने कई बार दक्षिण अफ्रीका भी चली जाती हूं। बेटी किरण सहगल ओडिशी की जानी मानी डांसर है। मैं अब परनानी बन चुकी हूं। उम्र के इस मुकाम में मैं खाने से परहेज नहीं करती। मेरा हाजमा बिल्कुल ठीक है। सेहत अच्छी है।इस उम्र में भूख लगती है और खाती हूं भला इससे बड़ी बात क्या हो सकती है।


 जोहरा के सौ साल पूरे करने पर उनकी बेटी किरण सहगल ने मां के अलग पहलुओं को याद करते हुए किताब लिखी है- जोहरा सहगल फैटी। कॉफी टेबल बुक को  नियोगी बुक्स ने प्रकाशितकिया है। 


-   ( ये साक्षात्कार सितंबर 1996 में लिया गया था। 27 अप्रैल 2012 को जोहरा सहगल ने जीवन के सौ वसंत देख लिए हैं।  नब्बे साल के बाद की उम्र में भी उन्होंने कई फिल्मों  में चुलबुली दादी और अम्मा की यादगार भूमिकाएं कीं। )