Wednesday, 9 September 2009

बादल आया ( नन्ही कविता )


बादल आया
------------
बादल आया
बादल आया
बारिश हुई
बारिश हुई
कपड़ा भी गिला हुआ
घर भी गिला हुआ
घड़ी भी गिली हुई
और गिला हुआ पेड़....।


- अनादि अनत ( चार साल )


दि्ल्ली की बारिश देखकर हमारे नन्हें बेटे ने ये कविता रच डाली। वे अभी लिखना सीख रहे हैं। इसलिए हमने इसे लिपिबद्ध कर लिया। ये एक नन्हें बच्चे का पहला सृजन है। 

1 comment: