Saturday, 6 February 2010

नहीं रहे भोजपुरी फिल्मों के सुपर स्टार सुजीत कुमार


भोजपुरी फिल्मों के लोकप्रिय स्टार सुजीत कुमार हमारे बीच नहीं रहे। कई महीने से बीमार चल रहे सुजीत कुमार ने मुंबई के एक अस्पताल में 5 फरवरी 2010 को दम तोड़ दिया। सुजीत कुमार ने कई हिट भोजपुरी फिल्मों के अलावा हिंदी फिल्मों में भी अभिनय किया था...

सुजीत कुमार को फिल्म इंडस्ट्री में पहला ब्रेक किशोर कुमार की फिल्म दूर गगन की छांव में  में मिला था। ...आपको अराधना का वह गीत तो याद है न ... मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू... इस गाने में सुजीत कुमार राजेश खन्ना की गाड़ी को ड्राईव करते हुए नजर आते हैं। गाना खूब हिट हुआ था। उन्होंने बाद में कई हिंदी फिल्मों में सहयोगी कलाकार की भूमिका निभाई। 


 पर सुजीत कुमार की आत्मा तो भोजपुरी में बसती थी....विदेशिया भोजपुरी की सुपर हिट फिल्म थी जिसके हीरो सुजीत कुमार थे। इस फिल्म में अपने अभिनय से सुजीत कुमार भोजपुरी जगत में काफी लोकप्रिय हो गए। उनका नाम भोजपुरी फिल्मों के अमिताभ बच्चन के तौर पर लिया जाने लगा।

विदेशिया श्वेत श्याम दौर की फिल्म थी। जब भोजपुरी में रंगीन फिल्मों का दौर आया तो दंगल में सुजीत कुमार हीरो के रूप में नजर आए। फिल्म में हीरोइन थी प्रेमा नारायण। पद्मा खन्ना के साथ भैया दूज भी भोजपुरी की सुपर हिट फिल्म थी जिसमें सुजीत कुमार हीरो के रूप में दीखे। भैया दूज भोजपुरी पट्टी में सुपर हिट रही थी। 


सुजीत कुमार ने 1983 में पान खाए सैयां हमार नामक फिल्म बनाई जिसमें अमिताभ बच्चन और रेखा अतिथि भूमिका में नजर आए। बाद के दौर में सुजीत कुमार ने कई हिंदी फिल्मों का भी निर्माण भी किया जिसमें अनिल कपूर की खेल, सन्नी देयोल की चैंपियन और ऐतबार जैसी हिंदी फिल्मों के प्रोड्यूसर भी थे। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में उनकी दोस्ती सभी बड़े सितारों से थी। 


अभी हाल में सुजीत कुमार ने अपने खास दोस्तों के बीच अपना 75वां जन्म दिन मनाया था। आज सुजीत कुमार हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन भोजपुरी फिल्मों का इतिहास की जब भी बात की जाएगी सुजीत कुमार के बिना चर्चा अधूरी रहेगी।

सुजीत कुमार:
जन्म : 7 फरवरी 1934, वाराणसी
मृत्यु : 5 फरवरी 2010, मुंबई 
हिन्दी फिल्में: अराधना,  मेरे जीवन साथी , हाथी मेरे साथी .
भोजपुरी फिल्में - बिदेशिया, दंगल, भैया दूज, पान खाए सैंया हमार आदि। 

- vidyutp@gmail.com 

3 comments:

महफूज़ अली said...

हाँ आज ही पढ़ा था दैनिक जागरण के पेज नंबर १४ पे ... एक बहुत ही सूक्ष्म सी खबर थी.... पता नहीं अमिताभ के मरने पर किस पेज पर देंगे.... क्यूंकि सवाल तो बाज़ार का है....

बहुत अच्छी लगी आपकी यह पोस्ट....

Udan Tashtari said...

सुजीत कुमार की मृत्यु का दुखद समाचार आपसे पता चला. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे.

Arvind Mishra said...

सुजीत कुमार अपने ब्लागजगत के ही भाई हिमांशु जी के जार जवार के ही थे -और कहाँ तक पहुँच गए -धन्य रे बनारस की धरती -श्रद्धांजली